Articles by "religious"

#Measles-Rubella 15 अगस्त 26 january 26 जनवरी abvp Administrative Admission-Alert b4 cinema balaji dhaam bhagoria bhagoria festival jhabua bjp cbse result cinema hall jhabua city crime cultural education election Epaper events Exclusive Famous Place Gallery gopal mandir jhabua Health and Medical jhabua jhabua crime Jhabua History Jobs Kadaknath matangi Meghnagar MISSING- ALERT Movie Review MPEB MPPSC National Body Building Championship India New Year NSUI petlawad politics post office ram sharnam jhabua Ranapur religious religious place Road Accident rotary club sd academy social sports thandla tourist place Video Visiting Place Women Jhabua अखिल भारतीय किन्नर सम्मेलन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अखिल भारतीय साहित्य परिषद अंगूरी बनी अंगारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस अपराध अरोडा समाज अल्प विराम कार्यक्रम अवैध शराब आईसेक्ट आंगनवाड़ी आचार संहिता आजाद जयंती आदित्य पंचोली आदिवासी गुड़िया आनंद उत्सव आपकी सरकार आपके द्वार आबकारी विभाग आयुष्मान भारत योजना आरटीओं आर्ट आॅफ लिविंग शिविर आलेख आवंला नवमी आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक इनरव्हील क्लब ईद उत्कृष्ट सड़क उपचुनाव उमापति महादेव ऋषभदेव बावन जिनालय एकात्म यात्रा एनएसयूआई एमपी पीएससी कड़कनाथ मुर्गा कन्या भोज कम्प्यूटर ऑपरेटर महासंघ कलाल समाज कलावती भूरिया कलेक्टर कलेक्टर कार्यालय कल्लाजी महाराज कवि सम्मेलन कांग्रेस कांतिलाल भूरिया कार्तिक पूर्णिमा कावड़ यात्रा किन्नर सम्मेलन कृषि कृषि महोत्सव कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ केरोसीन कैथोलिक डायसिस झाबुआ क्रिकेट टूर्नामेंट क्षत्रिय महासभा खबरे अब तक खाद्य एवं औषधि विभाग खेडापति हनुमान मंदिर खेल गडवाड़ा गणगौर पर्व गणतंत्र दिवस गणेशोत्सव गर्मी गल पर्व गायत्री शक्तिपीठ गुड़िया कला झाबुआ गुड़ी पड़वा गेल झाबुआ गोपाल पुरस्कार गोपाल मंदिर झाबुआ गोपाष्टमी गोपेश्वर महादेव गोवर्धननाथ मंदिर गौशाला ग्रामीण बैंक घटनाए चक्काजाम चुनाव जन आशीर्वाद यात्रा जनसुनवाई जन्माष्टमी जय आदिवासी युवा संगठन जय बजरंग व्यायाम शाला जयस जवाहर नवोदय विद्यालय जिला चिकित्सालय जिला जेल जिला विकलांग केन्द्र झाबुआ जिला सहकारी बैंक जीवन ज्योति हॉस्पिटल जैन मुनि जैन सोश्यल गुुप ज्योतिष परामर्श शिविर झकनावदा झाबुआ झाबुआ इतिहास झाबुआ का राजा झाबुआ पर्व झाबुआ पुलिस झाबुआ रियासत झाबूआ झूलेलाल जयंती डाकघर डीआरपी लाईन तुलसी विवाह तेली समाज थांदला दशहरा दस्तक अभियान दिल से कार्यक्रम दीनदयाल उपाध्याय पुण्यतिथि दीपावली देवझिरी धार्मिक धार्मिक स्थल नक्षत्र वाटिका नगर परिषद नगरपालिका परिषद झाबुआ नरेंद्र मोदी नवरात्री नवरात्री चल समारोह नि:शुल्क स्वास्थ्य मेगा शिविर निर्मला भूरिया निर्वाचन आयोग पथ संचलन परिवहन विभाग पर्यटन स्थल पल्स पोलियो अभियान पाक्सो एक्ट पारा पावर लिफ्टिंग पिटोल पीएचई विभाग पेटलावद पेंशनर एसोसिएशन पैलेस गार्डन पोलीटेक्निक काॅलेज प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय प्रतिभा सम्मान सम्मारोह प्रतियोगी परीक्षा प्रधानमंत्री आवास योजना प्रशासनिक फुटतालाब फेंसी ड्रेस फ्लैग मार्च बजरंग दल बस स्टैंड बहादुर सागर तालाब बामनिया बारिश बाल कल्याण समिति बालिका सशक्तिकरण अभियान बेटी बचाओं अभियान बोहरा समाज ब्राह्राण समाज ब्लू व्हेल गेम भगोरिया पर्व भगोरिया मेला भगौरिया पर्व भजन संध्या भर्ती भागवत कथा भाजपा भारत निर्वाचन आयोग भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान भारतीय जीवन बीमा निगम भारतीय जैन संगठना भारतीय थल सेना भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा भावांतर योजना मध्यप्रदेश टूरिज्म अवार्ड मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग मध्यप्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग मनकामेश्वर महादेव मल्टीप्लेक्स सिनेमा महात्मा गांधी महाशिवरात्रि महिला आयोग महिला एवं बाल विकास विभाग माछलिया घाट मिशन इन्द्रधनुष मीजल्स रूबेला मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार मुख्यमंत्री कन्यादान योजना मुख्यमंत्री कप मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान मुस्लिम समाज मुहर्रम मूवी रिव्यु मेघनगर मेरे दीनदयाल सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता मैराथन दौड़ मोड़ ब्राह्मण समाज मोदी मोहल्ला मोहनखेड़ा यातायात युवा दिवस युवा शक्ति संगठन यूनीसेफ योग शिविर रक्तदान रंगपुरा रतलाम राजगढ़ राजगढ नाका राजनेतिक राजपुत समाज राजवाडा चौक राज्यपाल राणापुर राम शरणम् झाबुआ रामशंकर चंचल रामा रायपुरिया राष्ट्रीय एकता दिवस राष्ट्रीय खेल दिवस राष्ट्रीय पोषण मिशन राष्ट्रीय बालरंग राष्ट्रीय बॉडी बिल्डिंग चैम्पियनशीप राष्ट्रीय मानवाधिकार राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ रेल्वे स्टेशन रोग निदान रोजगार मेला रोटरी क्लब लक्ष्मीनगर विकास समिति लाडली शिक्षा पर्व लोक सेवा केन्द्र लोकरंग शिविर वनवासी कल्याण परिषद वरदान नर्सिंग होम वर्ल्ड रिकॉर्ड वाटसएप विद्युत प्रदाय विधायक विधायक शांतिलाल बिलवाल विश्व आदिवासी दिवस विश्व उपभोक्ता संरक्षण दिवस विश्व विकलांग दिवस विश्व हिन्दू परिषद वेटलिफ्टिंग वेलेंटाईन डे वैश्य महासम्मेलन व्यापारी प्रीमियर लीग शरद पूर्णिमा शहीद सैनिक शारदा विद्या मंदिर शासकीय महाविद्यालय झाबुआ शिक्षा शिवगंगा शौर्य दिवस श्रद्धांजलि सभा श्रावण सोमवार श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर सकल व्यापारी संघ संगीत सत्यसाई सेवा समिति सदभावना दौड संपादकीय सर्वब्राह्मण समाज साज रंग झाबुआ सामाजिक सामूहिक सूर्य नमस्कार सारंगी सांसद सांस्कृतिक साहित्य सिंधी समाज सीपीसीटी परीक्षा सुर श्री स्थापना दिवस स्वच्छ भारत मिशन स्वतंत्रता दिवस हज हजरत दीदार शाह वली हनुमान जयंती हरितालिका तीज हरियाली अमावस्या हाथीपावा हाथीपावा महोत्सव हिन्दू नववर्ष होर्डिग्स होली झाबुआ
Showing posts with label religious. Show all posts

सजा भोले नाथ का दरबार, भक्तो ने दुध, दही से अभिषेक कर चढाये बिलपत्र

मंदिरों में गूंजे ऊॅं नमः शिवाय के स्वर 

झाबुआ। श्रावण के पहले सोमवार मे शहर के भोले नाथ के मंदिरो की साज सज्जा अलसुबह से ही शुरू कर दी गयी। सोमवार को सुबह से ही भक्तो के द्वारा भगवान भोले नाथ का अभिषेक किया गया। मंदिरो में श्रावण के पहले दिन से विशेष साज सज्जा का आयोजन किया गया। वही शहर के सभी भोलेनाथ के मंदिरो पर जगमग लाईटे लगाई गई।   
शहर में पहले सोमवार को सभी भगवान भोलेनाथ के मंदिरो पर दर्शनो के लिये भक्तो की सुबह से ही लंबी कतार लगी हुई दिखी। वही मंदिरो में भक्तो के द्वारा भगवान भोलेनाथ का अभिषेक दुध, दही , मक्खन एवं बिल पत्र चढाकर किया गया। वही भोलेनाथ से भक्तो ने अपनी मनोकामना के लिये प्रार्थना की। शहर के सिद्धेश्वर कॉलोनी स्थित भोलेनाथ महादेव मंदिर पर विशेष साज सज्जा एवं रंग बिरंगी लाईटो से मंदिर को सजाया गया। वही भोलेनाथ के शिवलिंग को चुनरी रंग के साफे के साथ पगडी बांधकर सुशोभित किया गया। मंदिरो में विशेष फुलो से सजाया गया। 
        श्रावण मास के प्रारंभ होते ही भगवान भोलेनाथ शिवशंकर की आराधनाएं आरंभ हो गई। श्रावण माह के चलते विभिन्न संगठनो द्वारा कावड यात्रा का आयोजन भी किया जाता है। विश्व हिन्दू परिषद्, शिवगंगा, सिद्धेश्वर महोदव समिति सहित अन्य संगठन देवझिरी से मॉ नर्मदा का पानी भरकर शहर के शिवालयो में अभिषेक करते है। विश्व हिन्दू परिषद् द्वारा कावड यात्रा के बाद धर्मसभा का आयोजन भी किया जाता है। शिवगंगा द्वारा पिछले कई वर्षो से कावड यात्रा के साथ ही बौद्धिक सत्र किया जाता है। शिवम कावड यात्री पिछले तीन दशक से कोटेश्वर से झाबुआ तक पैदल कावड यात्रा निकालते आ रहे है। इस वर्ष भी वे 8 अगस्त को कोटेश्वर के लिए रवाना होंगे। 
जगह जगह होगी आराधनाएं
श्रावण मास के शुरू होते ही भगवान भोलेनाथ के मंदिरो में भक्तो का तांता लगा हुआ है। डीआरपी लाईन स्थित गोपेश्वर महादेव मंदिर में भी पूरे श्रावण के महिने सहित सोमवार के दिन श्रृद्धालुआ की भीड लगी। सुबह से ही श्रृद्धालुओ के द्वारा पुजा अर्चना करने की भीड उमड पडी। वही सायंकाल मंदिर पर विशेष महाआरती का आयोजन कर महाप्रसादी वितरीत की जायेगी।
       सिद्धेश्वर कॉलोनी स्थित सिद्धेश्वर महादेव मंदिर पर भी शिवभक्त एकत्रित होकर भगवान भोलेनाथ की आराधना करेंगे। मंदिर को आकर्षक रूप से सजाया गया। सोमवार की शाम को यहां भोलेनाथ का आकर्षक श्रृंगार भी किया गया। श्रृंद्धालुओ द्वारा फरियाली खिचडी भी वितरीत की जाएगी। 
      छोटे तालाब स्थित मनकामेश्वर महादेव मंदिर को विद्युत रोशनी से सजाया गया है। यहां सोमवार की सुबह शिवभक्त भगवान भोले की आराधना मे लीन रहे। शाम को भोले बाबा का आकर्षक श्रृंगार किया गया। इस मंदिर में 14 अगस्त से लेकर 20 अगस्त तक प्रतिदिन नवग्रह की कथा आयोजित की जायेगी। 
        विवेकानंद कॉलोनी स्थित उमापति महादेव मंदिर मे भी भोलेनाथ के दर्शन के लिए श्रद्धालु कतारबद्ध दिखाई दिये। यहां भी प्रतिदिन महाआरती के साथ महाआरती का आयोजन किया जायेगा।
        कॉलेज मार्ग स्थित नजर बाग के सोमेश्वर शिव मंदिर व रामद्वारा स्थित बडकेश्वर महादेव मंदिर पर भी श्रावण मास के तहत प्रतिदिन भगवान का श्रृंगार किया जायेगा। साथ ही सोमवार को विशेष झांकी भी सजाई गयी। 
उपवास एवं व्रत रखे जा रहे 
इस दौरान श्रृद्धालुओं द्वारा उपवास एवं व्रत भी रखे जा रहे है। क्षमतानुसार किसी श्रद्धालु द्वारा पूरे श्रावण माह में तो किसी भक्त द्वारा प्रत्येक सोमवार को व्रत एवं उपवास रखकर फरियाली ग्रहण किया जायेगा। इसके साथ ही घरों में प्रतिदिन भगवान शिवजी की पूजा-अर्चना एवं आराधना की जायेगी साथ ही जाप किए जा जायेगे। 
पुष्प एवं धतुरे से हो रहीं पूजन
भगवान शिवजी की मंदिरों में तरह-तरह के पुष्पों एवं शिवजी को प्रिय धतुरे तथा बिल्व पत्र से पूजन की जा रहीं है। इसके साथ ही जल, दूध से अभिषेक किया जा रहा है एवं पूजन सामग्री में अबीर, गुलाब, चंदन का उपयोग किया जा रहा है। भाग एवं मेवे की प्रसाद भी भोले भंडारीजी को चढ़ाई जा रहीं है। प्रत्येक सोमवार को मंदिरों में शिवजी के जयकारे गूंजायमान होंगे तथा रात्रि में झांकी एवं आकर्षक विद्युत सज्जा भी मंदिरों पर दिखाई देंगी।
अमरनाथ एवं महांकाल मंदिर के दर्शन के लिए जा रहे भक्तजन
इन दिनों में भक्तजन उज्जैन स्थित महांकाल मंदिर, अमरनाथ यात्रा एवं अन्य शिवजी के तीर्थ स्थलों पर भी दर्शन के लिए जा रहे है एवं वहां दर्शन एवं पूजन कर मनोकामनाएं मांग रहे है। इसके साथ ही शहर से सटे देवझिरी तीर्थ स्थल पर भी प्रत्येक सोमवार को श्रृद्धालुओं का मेला लगेगा। प्रत्येक सोमवार को श्रृद्धालुओं की मंदिर में अत्यधिक भीड़ लगी रहेगी। यहां भक्तों द्वारा पवित्र कुंड में स्नान करने के बाद मंदिर में भगवान के दर्शन कर नारियल बदारा जायेगे। इसके अलावा झाबुआ-मेघनगर मार्ग पर स्थित श्री पारदेश्वर एवं श्री दूधेश्वरमहादेव मंदिर में भी दर्शन के लिए भक्तों का तांता लग रहा है एवं विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम श्रावण माह के दौरान किये जायेगे।
कावड़ यात्राओं का होगा दौर 
श्रावण माह में पूरे जिलेभर में कावड़ यात्रा भी निकलना शुरू हो गयी है। जिसमें हजारों की संख्या में कावड़ियों ने शामिल होकर जयघोष करते हुए पूरे शहर में भ्रमण करेंगे। पश्चात् विशाल धर्मसभा का भी आयोजन होगा। आगामी दिनों में शिवगंगा एवं शिवम कावड़ यात्रा भी कावड़ यात्रा निकाली जाएगी, जिससे पूरा जिला धर्ममय होगा।

श्रावण मास श्रावण सोमवार- shrawan somvar jhabua

श्रावण मास श्रावण सोमवार- shrawan somvar jhabua

श्रावण मास श्रावण सोमवार- shrawan somvar jhabua

श्रावण मास श्रावण सोमवार- shrawan somvar jhabua

श्रावण मास श्रावण सोमवार- shrawan somvar jhabua

जिले में 1 हजार से अधिक एवं झाबुआ में 500 घरों में संपन्न हुआ दीप यज्ञ

झाबुआ। शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में पूरे प्रदेश  में 22 जून को गायत्री जयंती एवं गंगा दशहरा के उपलक्ष में दीप यज्ञ का आयोजन हुआ। इसी क्रम में झाबुआ जिले में 1 हजार से अधिक एवं झाबुआ शहर में 500 से अधिक घरों में दीप यज्ञ कार्यक्रम संपन्न हुआ। स्थानीय कॉलेज मार्ग स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर उक्त कार्यक्रम शाम 7 से 8 बजे के बीच हुआ। पश्चात् महाआरती एवं महाप्रसादी का भी आयोजन किया गया।  
       यह जानकारी देते हुए गायत्री परिवार के जिला समन्वयक पं. घनष्याम बैरागी ने बताया कि गंगा जयंती एवं गंगा दषहरा के उपलक्ष में गायत्री शक्तिपीठ कॉलेज मार्ग पर जहां सुबह गर्भात्सव संस्कार (पुंसवन संस्कार) एवं पचंकुंडीय यज्ञ संपन्न हुआ। जिसमें करीब 90 महिलाएं शामिल हुई। पश्चात् शाम 7 से 8 बजे के बीच मंदिर में दीप यज्ञ रखा गया। सर्वप्रथम पं. घनष्याम बैरागी द्वारा उपस्थित सभी गायत्री परिजनों एवं युवाओं को गायत्री जयंती एवं गंगा दशहरा के महत्व के बारे में बताया गया। साथ ही बताया कि आज वेद माता मां गायत्रीजी का आराधना करने का विषेष दिन है। इसके साथ ही आज गुरूदेव आचार्य पं. श्री राम शर्मा आचार्यजी का महाप्रयाण दिवस भी है, इसलिए आज पूजा-अर्चना करने से काफी पुण्य लाभ प्राप्त होगा एवं अपार सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।
दीप प्रज्जवलित किए गए
इसके पश्चात् समस्त गायत्री परिजनों, जिसमें महिला-पुरूषों के साथ युवाओं द्वारा मंदिर परिसर में दीप प्रज्जवलित किए गए। महिलाओं द्वारा मां गायत्री, पं. श्री राम आचार्यजी एवं मां भगवतीदेवी शर्मा के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्जवलन किया गया वहीं पुरूषों ने समीप स्फटिक शिव मंदिर में भगवान शिवजी के सम्मुख दीप प्रज्जवलित कर गायत्री मंत्रोच्चार के साथ शिव मंत्रोच्चार कर पूजन की। दीप यज्ञ नारी शक्ति जागरण अभियान की जिला संयोजिका श्रीमती नलिनी बैरागी द्वारा संपन्न करवाया गया। इसके साथ ही इसी दौरान निर्धारित किए गए समय पर झाबुआ में 500 घरों एवं पूरे जिले में 1 हजार घरों में भी गायत्री माताजी, के सम्मुख दीप प्रज्जवलन के साथ घरों के द्वारां-आंगनों में भी दीप प्रज्जवलित कर पूजन कर गायत्री मंत्रो का उच्चारण किया गया। जिससे पूरे जिले में धर्म के प्रति अपनी अपार आस्था एवं श्रद्धा का लोगों ने संदेश दिया। 
महाआरती एवं महाप्रसादी का हुआ आयोजन
रात्रि 8 बजे गायत्री शक्तिपीठ पर महाआरती हुई। पहले वेद माता गायत्रीजी की आरती की गई। पश्चात् भगवान शिवजी की आरती कर संयुक्त रूप से सभी द्वारा मंत्रोच्चार किया गया। इसके पश्चात् महाप्रसादी के रूप में 50 किलो केसरिया भात श्रद्धालुओं को वितरित की गई। संपूर्ण आयोजन को सफल बनाने में गायत्री परिवार की महिला श्रीमती मनोरमा डावर, किरण निगम, मोना भट्ट ‘स्मृति’, कृष्णा शेखावत, कृष्णा शर्मा, पार्वती लष्करे, श्रीमती सोनी, प्रेमलता शुक्ला, लीना नागर के साथ पुरूषों में प्रकाश डावर, शातिलाल लष्करे, सुरेश निगम, राजेश नागर, ऋतुराजसिंह राठौर, देवेन्द्र पटेल आदि उपस्थित थे। 

झाबुआ जिले में 1 हजार स्थानों पर दीप यज्ञ होगा 

भारत को विश्व गुरू बनाने के लिए आध्यात्मिक पहल 

झाबुआ। शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में देश से आतंकवाद, भ्रष्टाचार जैसी समस्याएं खत्म करने के लिए, विश्व शांति बनाए रखने के लिए तथा भारत विश्व गुरू बनने की ओर अग्रसर हो, इस हेतु गायत्री परिवार द्वारा विशाल आध्यात्मिक पहल की जा रहीं है। जिसमें 22 जून गायत्री जयंती एवं गंगा दशहरा पर प्रदेश के 51 जिलों में 51 हजार स्थानों पर एक साथ एक समय पर दीप यज्ञ होगा। इसी के तहत झाबुआ जिले में 1 हजार घरों में दीप यज्ञ करवाया जाना गायत्री परिवार द्वारा तय किया गया है।  
विश्व शांति हेतु 22 जून को प्रदेश के 51 हजार स्थानों पर एक साथ होगा दीपयज्ञ
        यह जानकारी देते हुए गायत्री परिवार झाबुआ के जिला समन्वयक पं. घनष्याम बैरागी एवं नारी शक्ति जागरण अभियान की जिला संयोजिका श्रीमती नलिनी बैरागी ने बताया कि आज देश से आंतकवाद एवं भ्रष्टाचार को खत्म करने की नितांत आवष्यकता है। पूरे विश्व में शांति बनी रहे, यह गायत्री परिवार का उद्देष्य के साथ संदेश भी है। साथ ही भारत देश को विश्व गुरू बनाने की भी पहल करने के लिए शांतिकुंज हरिद्वार के निर्देश पर पूरे मप्र में 22 जून को गायंत्री जयंती एवं गंगा दशहरा पर यह ऐतिहासिक आयोजन करने का निर्णय गायत्री परिवार द्वारा लिया गया है। इसके तहत प्रदेश के गांव, शहर और कस्बों में दीप यज्ञ कर धर्म के प्रति जनजागृति भी लाई जाएगी। आज धर्म से जुड़ने की लोगों को सख्त आवष्यकता है।
एक साथ एक समय पर होगा दीप यज्ञ
पं. घनष्याम बैरागी एवं श्रीमती नलिनी बैरागी ने बताया कि इस आयोजन की सबसे बड़ी खासियत यह है कि दीप यज्ञ एक साथ एक समय पर पूरे प्रदेश में आयोजित किया जाएगा। निर्धारित किए गए कार्यक्रमानुसार 22 जून को शाम 7 से 7.15 बजे तक पूजन, 7.15 से 7.30 बजे तक सामूहिक गायत्री मंत्र जाप एवं रात्रि 7.30 से 8 बजे दीप यज्ञ होगा। इसी क्रम में झाबुआ जिले में जिसमें विशेषकर जिला मुख्यालय झाबुआ सहित जिले के मेघनगर, थांदला, पेटलावद, नौगांव, परवलिया में उक्त समय पर उक्त कार्यक्रम होगा। 
जोर-शोर से की जा रहीं तैयारियां
श्रीमती नलिनी बैरागी के अनुसार उक्त भव्य आयोजन के लिए तैयारियां जोर-शोर से की जा रहीं है। साथ ही आयोजन को लेकर जिम्मेदारियां भी सौंपी गई है। जिलेभर में सतत लोजो से संपर्क कर इस दिन अपने घरों में उक्त आयोजन करने हेतु आव्हान किया जा रहा है। निर्धारित किए गए अनुसार प्रत्येक घर में परिवार के सदस्य पूजन पश्चात् 5 दीपक प्रज्जवलित करेंगे। बाद 24 बार गायत्री मंत्र का जाप किया जाएगा। 
मनाया जाएगा
इसके साथ ही 22 जून को झाबुआ के कॉलेज मार्ग स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर गायत्री परिवार द्वारा पं. श्रीराम शर्मा आचार्यजी का महाप्रयाण दिवस मनाया जाएगा। इस दिन पं. श्रीराम शर्मा आचार्यजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलित कर सुबह 9 बजे पंचकुंडीय यज्ञ होगा। इस दौरान गर्भवती महिलाओं के गर्भोत्सव संस्कार एवं अन्य संस्कार संपन्न होंगे। शाम को 500 दीप यज्ञ के साथ महाआरती होगी। पश्चात् महाप्रसादी का वितरण किया जाएगा। पं. घनष्याम बैरागी एवं श्रीमती नलिनी बैरागी ने समस्त जिलेवासियों से आव्हान किया है कि 22 जून को अपने घरों में आवष्यक रूप से निर्धारित समय पर पूजन, गायत्री मंत्र का जाप कर दीप यज्ञ करे।

झाबुआ। जिले के रामा विकासखंड के ग्राम उमरकोट में श्री राम शरणम् भवन के निर्माण हेतु भूमिपूजन कार्यक्रम संपन्न हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्री राम शरणम् झाबुआ से जुड़े परम् भक्त आनंद विजयसिंह शक्तावत एवं रष्मि शक्तावत उपस्थित थी। पं. हिमांशु शुक्ल द्वारा मुख्य पुरोहित के रूप में उपस्थित रहकर विधि-विधान से पूजा-अर्चना, आरती संपन्न करवाई गई। पश्चात् महाप्रसादी का वितरण हुआ।  
          विगत वर्ष ग्राम उमरकोट में बस स्टेंड के समीप 60 बाय 80 कुल 4800 वर्गफिट का भूखंड श्री राम शरणम् समिति को दान के रूप में उपलब्ध करवाया गया था। मुख्य अतिथि के साथ साधक विजेन्द्रसिंह राठौर, शंभुलाल राठौर, गजराजसिंह डामोर, राजू पंचाल, भूरालाल राठौर, घनष्याम प्रजापत, शंकरलाल चैधरी, पूर्व सरपंच मोहन डामोर सहित अन्य पंचों ने गेती चलाकर निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। 
श्री राम नामजी के जाप हुए
भूखंड पर सुबह 7.30 से 8.30 बजे तक तक श्री राम नामजी के जाप संपन्न हुए। जिसमें उमरकोट, पारा, रानापुर, रायपुरिया, बोलासा, दत्तीगांव, राजगढ़ एवं कालीदेवी के साधक शामिल हुए। पश्चात् 9 से 10 बजे तक अमृतवाणी पाठ एवं संकीर्तन कल्याणपुरा के साधकों के नेतृत्व में संपन्न हुआ। 10.15 से 12 बजे तक भूमिपूजन कार्यक्रम में झाबुआ, दाहौद, कुषलगढ़ के अतिरिक्त आसपास के ग्राम झीरी, दूधी, गोपालपुरा, खुुलचरपाड़ा, भाडनकुआं, जामकुंडी, मऊड़ी, वान्यामुंडली, आमलीपाड़ा, रूपाखेड़ा, बालेड़ी, सेमलघाटा, खजरूगो, देवली, भीमकुंड के साधक परिवार उपस्थित थे।   
दो दिनों में शुरू हो जाएगा निर्माण कार्य
संस्था अध्यक्ष सुशील शर्मा ने बताया कि एक-दो दिन में ले आउट अनुसार निर्माण कार्य ठेकेदार साधक हेमेन्द्र पटेल एवं इंजिनियर साधक निर्मलकुमार शर्मा की देखरेख में आरंभ कर दिया जाएगा। दत्तीगांव के बबलूभाई, राजगढ़ के गौरव पंवार, कालीदेवी से संतोष राठौर, कल्याणपुरा से अनिलसिंह राठौर कारसेवा से निर्माण कार्य का दायित्व संभालेंगे।
चारो ओर होगा रामनाम का तेजी से विस्तार
स्मरण रहे कि इस क्षेत्र में पेटलावद और बोलासा में श्री राम शरणम् के भव्य भवन में सत्संग संचालित हो रहे है। विगत 8 मार्च शीतला सप्तमी को रायपुरिया में भी भूमिपूजन के बाद निर्माण कार्य प्रगति पर है। अब उमरकोट में भी निर्माण की आधार शिला रखी गई है। संस्था सचिव पंकज कोठारी ने कहा कि तारखेड़ी ग्राम में रामभक्त हनुमानजी विराजमान है। अब उनके चारों ओर रामनामजी का विस्तार तेजी से होगा।

Shri-Ram-Saranm-building-work-started-umarkot-jhabua-राम नाम के जाप के साथ शुरू हुआ श्री राम शरणम् भवन निर्माण कार्य

आचार्य श्री सुयष सूरिष्वरजी की निश्रा में होगा भव्य आयोजन

झाबुआ । श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमार्थिक ट्रस्ट देवझिरी के तत्वधान में पवित्र तीर्थ देवझिरी में 29 व 30 अप्रेल लब्धी पूर्णिमा वैशाख पूर्णि के पावन अवसर पर पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पावन निश्रा में दो दिवसीय माणीभद्र वीर हवन पूजन का धार्मिक आयोजन किया गया है । श्वेताम्बर जैन श्री संघ के संरक्षक सोहनलाल कोठारी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रथम तीर्थंकर भगवान श्री आदिनाथ प्रभू के तीर्थ क्षेत्र देवझिरी में परम पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पान निश्रा में श्री माणरभद्र वीर अष्ठम आहुति हवन पूजन महोत्सव का लब्धी पूर्णिमा के दिन 29 व 30 अप्रेल को दो दिवसीय महामंगलकारी कार्यक्रम आयोजित होगें 29 अप्रेल को प्रातः 5-30 बजे से भक्ताबर स्त्रोत का मंगलपाठ, 7-30 बजे से नवकारसी, 8-30 बजे से पूज्य आचार्य श्री सुयशसूरिश्वरजी का मंगल प्रवेश व मांगलिक, 11-30 बजे से श्री आदिनाथ पंच कल्याणणक पूजन एवं सायंकाल 5 बजे स्वामी भक्ति का आयोजन होगा । 
     30 अप्रेल सोमवार को प्रातः 5-30 बजे भक्तांबर स्त्रोत का मंगलपाठ, प्रातः 7 बजे अभिशेक एवं पूजन, एवं इसके बाद नवकारसी,प्रातः 8 बजे स्नात्र पूजन, के बाद पूज्य सुयशसूरीश्वरजी मसा के प्रवचन, प्रातः 10 बजे श्री नवपद पूजन, प्रातः 11 बजेसे स्वामी वात्सल्यका आयोजन होगा  विधिकारक हर्षदभाई जैन इन्दौर द्वारा श्री माणीभद्र वीर हवन पूजन संपन्न कराया जावेगा  दापेहर 12-39 बजे कुंभ स्थापना, दीपक स्थापना व हवन मे आहूतियों के साथ हवन की पूर्णाहूति एवं आरती संपन्न होगी एवं सायंकान को स्वामीवात्सल्य होगा ।
   श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमाािर्थक ट्रस्ट के निर्मल मेहता, यशवंत भंडारी, अशोक राठौर, बाबुलाल शाह,मनोहर भंडारी, धर्मचन्द्र मेहता, भरत बाबेल, ओच्छबलाल जैन, सुभाष कोठारी,  मनोहर मोदी संजय महेता, संजय कांठी, प्रतिक मेहता, वीरेन्द्र कोठारी, अनील रूनवाल रिंकू रूनवाल आदि ने तीर्थस्थल देवझिरी मे आयोजित दो दिवसीय धार्मिक आयोजन में सभी से सहभागी होने की अपील की है ।

Devjhiri-jain-tirth-remain-in-the-pilgrimage-for-two-days-देवझिरी जैन तीर्थस्थल मे दो दिनों तक बहेगी धर्म एवं आध्यात्म की गंगा

   बैठक में 15 मार्च से 20 मार्च के बीच गणगौर पर्व आयोजन रखने पर सहमति व्यक्त की गई। इस अवसर पर संकल्प ग्रुप की भारती सोनी ने शिव-पार्वतीजी का गणगौर उत्सव में महत्वता पर प्रकाश डाला। नानालाल कोठारी ने बताया कि यह परंपरा झाबुआ में रजवाड़ों के समय से चली आ रहीं है। कुंता सोनी ने सुझाव दिया कि सभी बच्चों को शिव-पार्वतीजी बनाकर रथ में बैठाकर भ्रमण करवाया जाना चाहिए। सुश्री रूक्मणी वर्मा ने भजन प्रतियोगिता रखने की बात कहीं।  
          कृष्णा सोनी ने कहा कि गणगौर के झालावाट प्रथम दिन दिए जाए एवं साथ ही कन्याओं के कार्यकम भी रखे जाए। रेखा शर्मा ने कहा कि कोई भी महिला गणगौर का उद्यापन नहीं करवा पाएगी, तो उसे ब्राहा्रण समाज करवाएगा। श्रीमती देराश्री ने बेटी बचाओ का संदेष देने की बात कहीं। भूमिका माहेष्वरी ने बेटियो के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने की मांग करते हुए गणगौर में यह संदेष बनाने की बात कहीं। किरण माहेष्वरी ने सुझाव दिया कि सभी को एक समान पुरस्कार दिया जाना चाहिए। चंचला सोनी ने समाज की एकजुटता के लिए गुरूकुल की स्थापना करने का सुझाव दिया। श्रीमती गुप्ता ने कहा कि फूल-पाती का आयोजन भी होना चाहिए। 
विभिन्न विषयों पर हुई चर्चा
इस अवसर पर समाजसेवी अशोक शर्मा ने कहा कि समाज मे सभी महिलाएं अधिक से अधिक प्रचार कर इस कार्यक्रम में सभी को जोड़े। इस अवसर पर अतिथि के रूप में पवित्रा भावसार देवकन्या सोनगरा, जयंतीलाल राठौर, श्यामल अरोड़ा, चेतना चैहान विभिन्न समाजों के प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन गणगौर उत्सव समिति के संयोजक नीरजसिंह राठौर ने किया एवं आभार सहयोगी रविराजसिंह राठौर ने माना। बैठक में  विभिन्न संदेष को लेकर चर्चाएं की गई। जिसमें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बेटी,बढ़ाओं, पाॅलिथीन मुक्ति, स्वच्छ झाबुआ-सुंदर झाबुआ, पानी बचाओ, वृक्ष लगाओ, नशामुक्ति जैसे अनेक विषयों पर चर्चा की गई।
15 मार्च से शुरू होंगे आयोजन
समिति के अजय रामावत ने बताया कि 15 मार्च से गणगौर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की शुरूआत हो जाएगी। प्रतिदिन 7 से 10 बजे के बीच कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। महिलाओं के अलावा बालिकाओं को समूह में प्रवेश दिया जाएगा। 15 मार्च को भजन प्रतियोगिता, 16 मार्च को डाषबाल एवं चेयर रेस प्रतियोगिता, 17 मार्च को सांस्कृतिक कार्यक्रम, 18 मार्च को नींबू रेस, दोहे एवं कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन होगा। शोभायात्रा 20 मार्च को शाम 5 बजे  राजवाड़ा परिसर से निकाली जाएगी। जिसमें बैंड, ढोल एवं रथ शामिल रहेगा। शोभायात्रा शहर के राधाकृष्ण मार्ग, जैन मंदिर, तेलीवाड़ा मौहल्ला, थांदला गेेट, बाबेल चैराहा, आजाद चैक, मनोकामना चौराहा एवं राजवा़ड़ा होती हुई पैलेस गार्डन पर पहुंकचर संपन्न होगी। जहां पुरस्कार वितरण समारोह एवं अल्पाहार फूलहारी का आयोजन होगा।

पारा। धर्म रक्षक सेवा समिति के तत्वादान मे जिले मे वृंदावन धाम के महामंडलेश्वर 1008 स्वामी प्रणवानंद जी सरस्वती के सानिध्य मे चल रही छः दिवसीय धर्म जागरण यात्र का आज समिपस्थ ग्राम बलोला मे अखण्डानंद बाहुबली भोलेनाथ की स्थापना के साथ समापन हुआ। 
                 छः दिवसीय धर्म जागरण यात्रा के आज अंतिम दिन बुधवार को करिब साढे तीन फिट की भगवान भोलेनाथ व नंदी की विशाल प्रतिमा की स्थापना भैरवबाबा वाले माल फलिए के निमार्णाधिन मंदिर मे प्राण प्रतिष्ठा हवन पुजन के साथ महामण्डलेश्वर स्वामी प्रणवानंद सरस्वती शिव गंगा के प्रमुख महेश जी शर्मा व सेमलिया के संत कानुराम जी महाराज उपस्थिति मे की गई। प्राण प्रतिष्ठा के बाद विशाल भण्डारे  का  आयोजन किया गया जिसमे सेकडो श्रद्धालुओ ने प्रसादी ग्रहण की। इस के साथ ही छः दिवसीय धर्म जागरण यात्रा का समापन हुआ। 
          भण्डारे के पुर्व स्वामी जी ने अपने आर्शिवचन मे माता शबरी व सनातन धर्म के बारे विस्तार से बताया व कहा की जब दुरस्थ अचंलो मे कोई मुर्ति तस्वीर आदी नही थी तब भी आदीवासी समाज के लोग राम राम कर एक दुसरे का अभिवादन किया करते थै । माता शबरी ने भी राम को राम के जन्म से पहले याद करना शुरु कर दिया था । बाद मे जब राम मीले तो उनका पथ प्रर्दशन भी किया। 
        स्वामी जी ने बताया कि उन्होने 13 वर्ष की उम्र मे संन्यास ले लिया था इसी से जुडे एक प्रसंग मे बताया की जीवन के निर्माण मे मंदिर का बहुत महत्व हे। जिले मे उनके द्वारा बनाए जाने वाले चार मंदिरो मे यह पहला हे।सतं महेश जी शर्मा व कानुजी महाराज ने भी श्रद्धालुओ को अपने आर्शीवचन कहे। यज्ञ व हवन पुजन विधि का कार्य वुंदावन से आए पण्डित सुरेन्द्र आचार्य ने समपन्न करवाए।
               इस अवसर पर धर्म रक्षक प्रमुख वालसिह मसानया, अमर सिह कटारा,उमेश डामोर,विजेन्द्र बघेल,राकेश सिंगार दिवान डामोर, प्रत्रकार भुपेन्द्र नायक पिटोल सहीत सेकडो श्रद्धालु जन उपस्थित थे।  

पारा। धर्म रक्षक सेवा समिति छः दिवसीय धर्म जागरण यात्रा का समापन ,अखण्डानंद बाहुबली भोलेनाथ की हुई स्थापना


झाबुआ। शहर के डीआरपी लाईन स्थित श्री गोपेश्वर महादेव मंदिर परिसर में गोपाल सोनी मित्र मंडल एवं विशाल कटकानी मित्र मंडल द्वारा संयुक्त रूप से महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर भजन संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें देशभर में ख्याति प्राप्त भजन गायक पं. अनिरूद्ध मुरारी एवं उनकी टीम ने भगवान शिवजी एवं अन्य भगवानों के प्रस्तुत समधुर एवं संगीतमय भजनों से समां बाधा किया। यह कार्यक्रम लगातार ढ़ाई से तीन घंटे तक सत्त चला। शुभारंभ भगवान भोलेनाथजी के सुंदर चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर मुख्य अतिथि वरिष्ठ समाजसेवी बृजेन्द्र चून्नू शर्मा, पुलिस अधीक्षक महेशचन्द्र जैन एवं महाराज तथा सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर द्वारा किया गया। पश्चात् भजन संध्या प्रारंभ हुई। शुरूआत गणेश वंदना से की गई। पश्चात् पं. अनिरूद्ध मुरारी द्वारा संगीतमय भगवान शिवजी के साथ गणेशजी, शिरडी वाले साई बाबा, गोपेश्वर महादेवजी एवं अन्य भजन प्रस्तुत कर उपस्थित दर्शकों का मन मोह लिया गया। कई भजनों पर तो जमकर तालियां भी बजी एवं जमकर दाद मिली।  
     पं. मुरारी के साथ आई टीम द्वारा वाद्य  यंत्रों पर अपनी मनमोहक प्रस्तुति से समां बांधा गया। यह कार्यक्रम रात 8 बजे से शुरू हुआ। भजन संध्या के दौरान बीच-बीच में गोपेश्वर महादेवजी के जमकर जयकारे भी लगाए गए। इस बीच भजन संध्या का आनंद लेने नपा अध्यक्ष श्रीमती मन्नूबेन डोडियार भी पहुंची। अतिथियों एवं पं. मुरारी तथा उनकी टीम का भावभरा स्वागत आयोजक गोपाल सोनी एवं विशाल कटकानी तथा अन्य सदस्यों द्वारा किया गया। 
इनका रहा सराहनीय सहयोग 
भजन संध्या में सहयोगी संस्था के रूप में सकल व्यापारी संघ के सचिव कमलेश पटेल, सह-सचिव पंकज जैन मोगरा, कोषाध्यक्ष राजेश शाह, राजवाड़ा मित्र मंडल से जुड़े से जुड़े भाऊभाई, पार्षद अजय सोनी के अलावा आसरा ट्रस्ट से सुधीर कुशवाह, नीमा समाज से जितेन्द्र शाह, बहादुर चौहान सहित अन्य विभिन्न सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं के पदाधिकारी-सदस्यों के साथ बड़ी संख्या में भक्तजनों ने शामिल होकर भजन संध्या का आनंद लिया। संचालन जयेन्द्र बैरागी ने किया। 

पारा।  धर्म रक्षक सेवा समिति के तत्वादान मे जिले मे चल रही छः दिवसीय धर्म जागरण यात्र आज अपने अंतिम चरण मे प्रवेश कर गई हे। वृंदावन धाम के महामंडलेश्वर 1008 स्वामी प्रणवानंद जी सरस्वती के सानिध्य मे चल रही इस यात्रा का समापन आज पारा क्षेत्र के ग्राम बलोला मे होगा। इसी के चलते मंगलवार को बलोला से पारा व फिर बलोला तक करीब चार किलोमीटर तक की भगवान शिव व नंदी की विशाल शोभायात्रा 101 कलश सर पर धारण किए कन्याओ के साथ नगर के प्रमुख मार्गो से निकाली। जहा जगह जगह कलशयात्रा व भगवान शिव प्रतिमा का स्वागत धर्म प्रेमी जनता ने पुष्प वर्षा कर किया।  
        कलश यात्रा मे वृंदावन धाम के महामण्डलेश्वर स्वामी प्रणवानंद सरस्वती जी भी पेदल चल रहे थे। साथ ही यात्रा मे प्रमुख आकृषण का केन्द्र झाबुआ जिले व पारा के प्रख्यात गायक मानसिह भुरिया व विक्रमसिह डोडीया डीजे साउन्ड पर अपनी प्रस्तुति देते हुए चल रहे थे। बुधवार को भगवान शिवजी व नंदी की प्रतिमा की स्थापना भैरवबाबा वाले माल फलिए के निमार्णाधिन मंदिर मे प्राण प्रतिष्ठा की जावेगी। प्राण प्रतिष्ठा के बाद विशाल भण्डारे का भी आयोजन रखा गया हे। इस के साथ ही धर्म जागरण यात्रा का समापन होगा।ज्ञात होकी मंदिर व स्वामी जी का आश्रम बनाने के लिए किसानो ने करिब तीन बिघा भुमी दान मे दि हे। जिस पर विशाल आश्रम बनाया जाना प्रस्तावित हे। इस आश्रम परिसर मे युवा व बेरोजगारो को विभिन्न प्रकार के रोजगार मुलक प्रशिक्षण देकर स्वालम्बी बनया जावेगा। जोकि धार्मिक आश्रम द्वारा अनुठी पहल होगी व जिले भर मे इसी प्रकार के पंाच छः आश्रम खोलने की हार्दिक इच्छा हे। जिसे भी शिघ्र मुर्त रुप देगे।

  • पारा भगवान भोलेनाथ की निकली शोभायात्रा कल होगी स्थापना

हम किसी भी धर्म के विरुद्ध नही : स्वामी प्रणवानंद सरस्वती 

पारा।  वनवासी अंचल मे शिवरात्री के पावन अवसर पर वृदांवन के महामंडलेश्वर 1008 आचार्य स्वामी प्रणवानंद सरस्वती अपनी छः दिवसीय विशाल धर्म जागरण यात्रा आरंभ शुक्रवार 9 फरवरी को ग्राम रोटला से किया। नगर से करीब डेढ़ किलोमीटर की कलश यात्रा निकाल कर हजारो की संख्या मे आदिवासी बंधुओ ने स्वामी जी का स्वागत किया व ग्राम रोटला मे ले गए। जहा विशाल धर्म सभा को संबोधित करते हुए स्वामी प्रणवानंद जी ने कहा कि हम किसी भी धर्म के आलोचक या विरोधी नही है । वे अपने धर्म का पालन करे व हमे अपने धर्म का पालन करने दे । हम धर्म परिवर्तन के सख्त खिलाफ है । किसी की मजबुरी का फायदा उठाकर धर्म परिवर्तन करवाना कहा की नैतिकता है । धर्म सभा मे स्वामी जी ने माता शबरी व महर्षि वाल्मीकि के बारे मे विस्तार बताया साथ ही झाबुआ कि संस्कृति व आदिवासी भाईयो के उनके पुर्वजो के बारे मे बताया कि उनके पुर्वज कोन थें। केसा उनका जीवन था व वे किस धर्म का पालन करते थै। 
पांच परिवार लोटे अपने घर
धर्म जागरण यात्रा के पहले दिन गाम रोटला मे स्वामी प्रणवानंद सरस्वती जी के द्वारा धर्म की व्याख्या सुन कर धर्म विशेष अपना चुके पांच परिवारो ने आज पुनः वेदिक रिति से हिन्दु मे वापसी की व अपने हिन्दु होने पर गर्व महसुस किया व कहा की हम कतिपय लोगो के बहकावे मे आकर अपने धर्म से भटक गए थै। अपने धर्म मे आकर अपना पन महसुस कर रहे हे। हिन्दु यार्म से बडा कोई धर्म नही हे। 
        इस अवसर पर स्वामी जी के साथ धर्म यात्रा मे शिवगंगा के महेश शर्मा, जीतेन्द्र महाराज रायपुरीया, कानुजी महाराज, संत श्री जोसाजी महाराज ने भी धर्म सभा को संबोधित किया। पश्चात महाप्रसादी वितरीत की गई रोटला मे कार्यक्रम के संयोजक केसरसिह भुरिया थै। वही पर रात्री मे भजन संध्या कर स्वामी जी ने रात्री विश्राम भी रोटला मे ही किया। इस अवसर पर हजारो कि संख्या मे आदिवासी श्ऱद्धालु उपस्थित थे।   

शिवरात्री के पावन अवसर पर वृदांवन के महामंडलेश्वर 1008 अचार्य स्वामी प्रणवानंद सरस्वती अपनी छः दिवसीय विशाल धर्म जागरण यात्रा आरंभ

झाबुआ। भारत की सांस्कृृतिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक एकता के महान दार्शनिक , संत एवं संस्कृत साहित्यकार, अद्वैत वैदान्त के प्रणेता सनातन धर्म के ओजस्वी शक्ति प्रदाता आदि गुरू शंकराचार्य के अतुलनीय योगदान के सबंध में जन जागरण करने तथा ओंकारेष्वर में शंकराचार्य जी की प्रतिमा स्थापना के लिए धातु संग्रहण करने हेतु ‘‘एकात्म यात्रा‘‘ का आयोजन किया जा रहा है। एकात्म यात्रा 4 स्थानों यथा ओंकारेष्वर, उज्जैन, पंचमठा (रीवा) एंव अमरंकटक से एक साथ दिनांक 19 दिसंबर 2017 को प्रारंभ होकर दिनांक 21 जनवरी 2018 तक प्रदेश के 51 जिलो से सांकेतिक धातु संग्रहण एवं जन जागरण करते हुए ओंकारेश्वर पहुॅचेगी। यहाॅ पर 22 जनवरी 18 को प्रतिमा की स्थापना हेतु भूमि पूजन, शिलान्यास तथा जन संवाद कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। 
     यह हमारा सोभाग्य है कि यात्रा दिनांक 02 जनवरी 18 से 5 जनवरी 18 तक जिले में प्रवास पर रहेगी। इस यात्रा में हमें करीब 20 प्रमुख संतो के साथ-साथ स्थानीय संतो, महंतो का आशीर्वाद प्राप्त होगा। यात्रा में प्रत्येक ग्राम केन्द्र एवं नगरीय वार्डो से धातु संग्रहण किया जाएगा। इस दौरान जिले में 03 जनसंवाद एवं 04 संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। इसी को लेकर दिनांक 31/12/2017 को क्षैत्रीय विधायक शांतीलाल बिलवाल के नेतृत्व में स्थानीय संत कानु महाराज, खुूमसिंह महाराज की उपस्थिति मेंनगर में आने वाली यात्रा के पुर्व निर्धारित यात्रा मार्ग पर प्रतिकात्मक यात्रा निकाली गई। 
    यात्रा का शुभारम्भ भाजपा जिलाध्यक्ष दौलत भावसार एवं यात्रा के जिला संयोजक पर्वत मकवाना, शांतिलाल पालीवाल ने यात्रा ध्वज विधायक शांतिलाल बिलवाल को सौंपकर किया जिसमें यात्रा में ढोल मान्दल की थाप पर सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों की भागीदारी रहीं। यात्रा में नगर मंडल अध्यक्ष बबलु सकलेचा एवं जिला आयोजन समिति के विजय नायर, मेगजी अमलियार जिला पंचायत सदस्य, अजय सोनी पार्षद, किर्ती भावसार, जयेन्द्र बैरागी, के.के.त्रिवेदी, कल्याण डामोर सहित भील सेवा संघ के अध्यक्ष मुकेश अजनार, युवा मोर्चा नगर अध्यक्ष अवि भावसार, उदय बिलवाल, संदीप पाल, राकेश परमार, मनीष राठौर, टुई पंवार, अंकुर पाठक, सोमसिंह सोलंकी, महेन्द्र भुरीया सहित समाज कार्य पाठ्यक्रम के छात्रगण एवं ब्लाक समन्वयक, मेन्टर्स की सक्रीय उपस्थिति में प्रतिकात्मक यात्रा गोपाल कालोनी स्थित गोपाल मन्दिर से बसंत काॅलोनी, कालिका माता मंदिर, चारभुजानाथ मंदिर, राजवाडा चौक, राधाकृष्ण मार्ग, फंवारा चौक, थांदला गेट होते हुए आजाद चौक पर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा एवं आदि गुरू शंकराचार्यजी के चित्र पर माल्यार्पण कर समाप्त हुई। यात्रा में यात्रा मार्ग पर सम्बन्धित व्यवस्थाओं का निरीक्षण भी झाबुआ एसडीडम के.सी.परते, नगर पालिका सीएमओ निगवाल एवं तहसीलदार शक्तीसिंह द्वारा किया गया।  




गुरू सप्तमी पर शहर के जिनालयों में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए रहीं भीड़

झाबुआ। गुरू सप्तमी पर्व पर झाबुआ के पांचों जिनालय, जिसमें श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में विशेष धार्मिक कार्यक्रम होने के साथ श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर, दादावाड़ी गणधर मंदिर, महावीर बाग, श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए भीड़ रहीं। प्राचीन चत्मकारिक श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में पूज्य दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के दर्षन एवं पूजन के लिए समाजजन एवं गुरूभक्तों का जमावड़ा रहा। मंदिर में गुरूदेवजी के दर्शन एवं पूजन सुबह से लेकर शाम तक समाजजनों ने किए। सुबह गुरू हाॅल में गुरूपद महापूजन का भी आयोजन हुआ। इस दिन राजगढ़ में स्थित प्रसिद्ध मोहनखेड़ा तीर्थ पर मेले जैसा माहौल रहा। 
श्वेतांबर जैर श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल ने बताया कि सुबह 6 बजे भक्ताम्र स्त्रोत पाठ, गुरू गुण इक्कीसा, स्नात्र पूजन, केशर पूजन, आदिनाथ भगवान एवं गुरूदेवजी का अभिषेक के साथ विशेष रूप से 8 बजे श्री राजेन्द्र सूरी गुरू पद महापूजन का आयोजन हुआ। यह पूजन श्री संघ झाबुआ द्वारा पढ़ाई गई। विधि विधिकारक ओएल जैन ने संपन्न करवाई वहीं मंत्रोच्चार एवं काव्य पाठ श्री संघ के उपाध्यक्ष यषवंत भंडारी द्वारा किया गया। पूजन में बड़ी संख्या में समाजजन शामिल हुए। पूजन पश्चात् आरती का लाभ लीलाबेन भंडारी परिवार द्वारा लिया गया। पश्चात् भाता का वितरण हुआ। इोपहर 2 बजे से सामूाहिक सामायिक का आयोजन हुआ। जिसका लाभ श्रीमती शकुंतला स्व. कांतिलाल रूनवाल परिवार द्वारा लिया गया। शाम को गुरूदेवजी के जाप किए। जिसका लाभ राजेन्द्र मेहता परिवार ने अर्जित किया। शाम को गुरूदेवजी की महाआरती भी हुई। गुरू मंदिर पर विषेष सज्जा की गई।
यहां भी हुए विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम
इसी प्रकार नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर में भी समाजजनों द्वारा पहुंचकर श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथजी, भैरवजी, महालक्ष्मीजी, महा सरस्वतीजी के दर्शन किए गए एवं पूजन की गई। श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर पर अष्टप्रकारी पूजन हुई। पूजन का लाभ अशोक राठौर, जीवनबेन पोरवाल द्वारा लिया गया। महावीर बाग में दादा गुरूदेवजी की पूजन कांतिलाल बाबेल, रमेश भाठिया एवं रिकू रूनवाल द्वारा की गई। श्री राज हेमेन्द्र पुष्प आयमिल खाता भवन में अध्यक्ष अशोक राठौर, सुरेशभाई कांठी द्वारा गुरूदेवजी के चित्र के सम्मुख दीप-धूप किया गया एवं पूजन की गई। इसके साथ ही शहर के समीपस्थ रंगपुरा जैन मंदिर में भी अष्टप्रकारी पूजन पढ़ाई। लाभ शशांक संघवी ने लिया। देवझिरी स्थित श्री मणिभद्र जैन मंदिर में भी दर्शन के लिए समाजजन पहुंचे। यहां आरती निर्मल मेहता ने की।
मोहनखेड़ा तीर्थ पर रहीं खचाखच भीड
राजगढ में स्थित मोहनखेड़ा तीर्थ पर पांच दिवसीय महोत्सव मनाया गया। गुरू सप्तमी पर सोमवार को यहां सुबह से देष के दूरस्थ क्षेत्रों एवं कस्बों से समाजजनो एवं गुरू भक्तों का आना होना शुरू हो गया। यहां मेला लगा। मेले में झूले-चकरी, विभिन्न सामग्रीयों के अनेकों दुकाने रहीं। समजाजनों एवं गुरू भक्तों ने दादा गुरूदेवजी के चरणों में नमन कर उनका आशीर्वाद  प्राप्त किया।

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

धर्मप्रेमियों से सहभागी होने की अपील

थांदला । प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष भी पदमावति नदी के पावन तट पर तीर्थ स्थल श्री सरस्वतीनंदनजी महाराज अन्नदाताजी के प्रकाट्य महोत्सव के मंगलमय अवसर पर थांदला स्थित वैकुठधाम गुरूद्वारा मे 26 दिसम्बर मंगलवार से 2 जनवरी मंगलवार तक अष्ठ दिवसीय अखण्ड नाम संकीर्तन सप्ताह का आयोजन किया जा रहा है । इस मंगलमय आयोजन के पूर्व गुरूद्वारे में 4 दिसम्बर से  25 दिसम्बर सोमवार तक महा अनुष्ठान का आयोजन चल रहा है।   
    न्यास एवं आयोजन समिति के अध्यक्ष राजेन्द्रप्रसाद अग्निहौत्री,  उपाध्यक्ष श्री रंग आचार्य, कंचनभाई पाटनवाडिया,  कोषाध्यक्ष भागवत शुक्ला, आश्रम प्रभारी भूदेव आचार्य एवं सचिव डा. जया पाठक ने संयुक्त रूप से जानकारी देते हुए बताया कि श्री वैकुण्ठधाम गुरूद्वारा के भक्त मंडल द्वारा आयोजित अखण्ड नाम संकीर्तन सप्ताह का शुभारंभ 26 दिसम्बर को प्रातः होगा , 31 दिसम्बर को वैकुठधाम पर विद्यार्थी सम्मान समारोह का प्रातः 10 बजे से आयोजन होगा वही 2 जनवरी अखण्ड नाम संकीर्तन का समापन मध्यान्ह 1 बजे महाआरती एवं महाप्रसादी के साथ होगा । 
[ads-post]
      श्री अग्निहौत्री ने बताया कि  इस आयोजन मेे देश विदेश से बडी संख्या में श्रद्धालुजनो का आगमन होगा । विभिन्न समितियों का गठन किया जा चुका है जिसमें श्रीजी भेंट समिति, पूजा प्रभार समिति, अन्नपूर्णा प्रभार समिति, संयोजना प्रभार समिति, भजन प्रभार समिति, महिला भजन प्रभार समिति एवं फोटो साहित्य प्रभार समिति का गठन कर जिम्मेवारिया सौपी जाचुकी है । श्री अग्निहौत्री ने सभी श्रद्धालुओं से अधिक से अधिक संख्या में पधार कर धर्म लाभ लेने की अपील की है ।
[right-post]

गुरू हमारे जीपीएस सिस्टम है जो हमे मार्ग से भटकने नही देते और गंतव्य एवं लक्ष्य तक पहूंचाते है - घनश्याम  बैरागी

झाबुआ ।  जीवन के जन्म जन्मान्तरों के संस्कारों ,के कारण ही दुश्चिंतन एवं मानसिक विकृतियों का शमन प्रभूकृपा एवं आराधना से प्राप्त होता है । अवतारों का इस पावन धरा पर अवतरण विशेष प्रयोजन से होता है।ऐसे ही अवतारी स्वरूप  के रूप में श्री सत्यसाई बाबा के अवतार को भी लेवे  तो अतिशयोक्ति नही मानना चाहिये ।  एक गरीब परिवार मे जन्मे सत्यसाई बाबा में बाल्यकाल से ही आध्यात्मिकता के दर्शन होते रहे है  । मात्र 14 साल की आयु में ही उन्हे ज्ञान प्राप्त हुआ और मानव सेवा-माधव सेवा के महामंत्र को लेकर विश्वकल्याण एवं जन जन के आध्यात्मिक विकास में उन्होने अवतार होने की घोषणा कर अपने विचारों एवं सन्देशों के माध्यम से जन जन को अपने आराध्य के प्रति पूर्ण विश्वास कर जनसेवा को जनार्दन सेवा के रूप  में बताया।  
       1926 में 23 नवम्बर को श्री सत्यसाई का जन्म हुआ, 1926 में ही गायत्री शक्तिपीठ की मां भगवती देवी अवतरित हुई थी , 1926 में ही महर्षि अरविदों ने आध्यात्मिक अवतरण की घोषणा की ,1926 में ही पूज्य गुरू श्रीराम शर्मा का आध्यात्मिक जन्म हुआ था । हमारे गुरूओ ने  जो  सन्देश दिया उसका हम कितना पालन कर रहे है , यह हमारे लिये ही मनन का विषय हे । गुरू का जीवन में प्रवेश ज्ञान के लिये होता है । जिस तरह वाहनों में जीपीएस सिस्टम होता है, उसी तरह गुरू भी हमारे जीपीएस सिस्टम है  जो हमे मार्ग से भटकने नही देते  और गंतव्य एवं लक्ष्य तक पहूंचाते है । यह गुरू कृपा ही है  । परमात्मा को अन्तरआत्मा से पुकारा जाना चाहिये वह हमतारी मदद के लिये जरूर आता है। मीरा, रामकृष्ण परमहंस इसके साक्षात उदाहरण है जिन्हे कृष्ण और काली की प्रतिमा से आराध्य का साक्षात्कार हुआ था । आज हमारी स्थिति यह है कि सही दिशा के लिये हमे मार्ग मालुम होने के बाद भी हम उसेके लिये प्रयास नही करते है । 
      ओम तीन अक्षरों अ, उ और म से बना प्रणव शब्द है। अ का अर्थ अपने मन के विकारो  को हटाना, उ का अर्थ उन्नति प्रदान करने वाला तथा म से महानता प्रदान कर अपनी भावनाओं को शद्ध करना होता है। जीवन में चार शत्रु सदैव विद्यमान रहते  है आलस्यता, स्वार्थ परता, भौतिकता, कामुकता इनको अपने  जीवन से हटा दिया जावे तो हम भीआध्यात्म के पथ पर चल करि प्रभू कृपा प्राप्त कर सकते है । भगवान पर विश्वास रखने वाला कभी निराशा को प्राप्त नही कर सकता है यह धु्रव सत्य है । इसलिये  महापुरूषो के वचनों को अपने जीवन में आत्मसात किया जावे । उक्त सारगर्भित विचार श्री सत्यसाई सेवा समिति झाबुआ द्वारा सत्यसाई के 92 वें जन्मोत्सव के अवसर पर विवेकानंद कालोनी में सत्यधाम पर आयोजित श्री  सत्यसाई बाबा के जन्मोत्सव के अवसर पर आध्यात्मिक उदगार व्यक्त करते हुए गायत्री शक्तिपीठ के पण्डित घनश्याम बैरागी ने व्यक्त किये 
नाम संर्कीतन एवं भजनों से हुआ वातावरण भक्तिमय
श्री सत्यसाई सेवा समिति द्वारा गुरूवार 23 नवम्बर को उमंग एवं उल्लास के  साथ श्री सत्यसाई बाबा का जन्मोत्सव मनाया गया । प्रातःकाल ओंकारम सुप्रभातम, लक्ष्यार्चना, नारायण सेवा का आयोजन किया गया । पूरे सत्यधाम पर हिमांशु पंवार द्वारा आकर्षक झांकी लगाई गई । सायंकाल 7-30 बजे से  नाम संकीर्तन की संगीतमय प्रस्तुति दी गई तत्पश्चात मुख्यवक्ता घनश्याम बैरागी ने सारगर्भित प्रवचन दिया । शांति प्रार्थना के साथ महामंगल आरती समिति कन्वीनर राजेन्द्रकुमार सोनी ने उतारी । कार्यक्रम का संचालन सौभाग्यसिंह चैहान ने किया । महाआरती के बाद बडी संख्या में उपस्थित श्रद्धालुओं को  लड्डू प्रसादी का वितरण किया गया । इसी के साथ साई सप्ताह का समापन हुआ ।

झाबुआ। स्थानीय दिगंबर जैन समाज द्वारा आयोजित चतुर्दिवसीय धार्मिक आयोजन में भक्ति एवं आध्यात्म की निर्झरिणी सुहासित हो रही है। गुरूवार को चौथे दिन दिगंबर समाज द्वारा स्थानीय पैलेस गार्डन में प्रातःकाल भव्य मंगलाष्टक एवं शांतिधारा का आयोजन किया गया । इस अवसर पर श्री जिनेन्द्र भगवान के अभिषेक के आयोजन के अवसर पर सैकडो की संख्या में समाजजन उपस्थित रहे। शांतिधारा के लाभार्थी अखिलेषजी लक्ष्मीचंद जैन रहे। इसके बाद नित्य नियम पूजन का अभिनव आयोजन किया गया। तत्पष्चात हवन द्वारा कार्यक्रम की पूर्णाहुति सम्पन्न हुई। 
         भूमिका आशीष डोषी ने बताया कि भव्य शौभा यात्रा का आयोजन राजवाडा से होकर लक्ष्मी बाई मार्ग, थांदला गेट, सुभाष मार्ग होता हुआ पुनः नसियाजी में पहुचा। शौभायात्रा में पांरम्परिक वेषभुषा पहनकर समाज की महिलाओं ,पुरूषो एवं बालिकाओं के द्वारा नृत्य करते हुए नगर भ्रमण किया। तत्पष्चात् नसियाजी में पहुचकर भगवान को विराजमान से लेकर शिखर एवं कलश स्थापना एवं जिनवाणी एवं छत्र व चंवर स्थापना प्रदिप भैया अषोक नगर के द्वारा विधिविधान द्वारा किया गया। भगवान चन्द्रप्रभु की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी अनिल पन्नालाल मेहता एवं भगवान पाष्र्वनाथ की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी लक्ष्मीचन्द्र जैन एवं भानूलाल शाह। छत्र एवं चंवर आरोहण के लाभार्थी जयंत सज्जनलाल शाह, रीना पारस गांधी, प्रदीप गुवाडिया, नम्रता श्रीकांत शाह, षिल्पा जेकेष दाणी रहे।
         भविष्य में धातु की मुनिसुव्रतनाथ भगवान की प्रतिमा को विराजमान करने के लाभार्थी रमेषचंद्र डोषी एवं डाॅ सुरेषचंद्र जैन रहेगे। श्रीखर पर कलष एवं ध्वजा दण्ड के लाभार्थी जयंन्तिलाल शाह एवं अखिलेष लक्ष्मीचंद्र जैन रहे। घण्टा एवं वंदनवार (तौरणद्वार) के लाभार्थी संजय वागमल शाह, पियूष भण्डारी एवं पुनित डोषी है। मंदिर का भव्य द्वार खोलने के लाभार्थी जयंतीलालजी इंदरमलजी शाह परिवार द्वारा रहे। दोपहर में समाजजनो एवं आंगतुको के लिये पैलेस गार्डन में स्वामी वात्सल्य का आयोजन भी किया गया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसद कांतिलाल भूरिया उपस्थित रहे। जिनका सामाज की ओर से बहुमान किया। समापन अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह वितरीत किये गये वही प्रतिष्ठा समिति के अध्यक्ष रमेष डोषी ने आभार व्यक्त किया। 

नीमा समाज ने भी आयोजित किया तुलसी विवाह 
 झाबुआ । श्री मैढ क्षत्रिय स्वर्णकार समाज द्वारा मंगलवार को रात्री में राधाकृष्ण मार्ग स्थित समाज के श्री सत्यनारायण मंदिर मे तुलसी विवाह का अभिनव एवं आध्यात्मिक आयोजन किया । धुमधाम से पुष्पकरण सोनी के निवास से गाजो बाजों के साथ भगवान श्री बालगोपाल की बारात नगर के मुख्य बाजारों से होती हुई मंदिर पर पहूंची जहां वहां उनका भव्य स्वागत किया गया । इस अवसर पर पण्डित गणेश उपाध्याय एवं पण्डित प्रदीप भ्ट्ट ने मंत्रोच्चार एवं मंगलाचरण के साथ तुलसी का विवाह संपन्न करवाया । मुख्य यजमान विश्वनाथ एवं श्रीमती नीता सोनी थे । इस अवसर पर स्वर्णकार समाज की श्रीमती कुंता सोनी, लक्ष्मी सोनी, विमला सोनी, चंचला सोनी, पमिता सोनी, राजकुमारी सोनी, कृष्णा सोनी, शिवकुमारी सोनी आदि सहित बडी संख्या में समाजजन एवं श्रद्धाजुजन उपस्थित थे । तुलसी विवाह के पश्चात महिला मंडल द्वारा सुमधुर भजनों की प्रस्तुति देकर वातावरण को भक्तिमय कर दिया । इसी तरह दशा नीमा समाज के चारभूजा नाथ मंदिर में भी पण्डित विश्वनाथ एवं पण्डित हिमांशु शुक्ला द्वारा विधि विधान से तुलसी विवाह को मंत्रोच्चार के साथ संपन्न करवाया गया । इस विवाह के मुख्य यजमान राजेन्द्र बद्रीलाल शाह एवं श्रीमती संगीता शाह थे । 
         स्थानीय राधकृष्ण सरकार मंदिर में भी तुलसी विवाह महंत मनीष बैरागी द्वारा वही स्था धुमधाम से सम्पन्न करवाया गया वही स्थानीय गोवर्धननाथ जी की हवेली मे भी मंगलाचरण के साथ तुलसी विवाह का आयोजन किया गया । इस अवसर पर दीप सज्जा भी की गई । 

 बाडी हनुमान मंदिर में श्रद्धा एवं भक्ति के साथ हुआ अन्नकूट महोत्सव का आयोजन 

 झाबुआ । श्री मेवाडा माली समाज द्वारा बुधवार को दोपहर 12 बजे से श्री बाडी हनुमानजी को बाजो गाजों के साथ अन्नकूट का नैवेद्या अर्पित किया । बडी संख्या में श्रद्धालुओं ने महाआरती में भाग लिया तथा सभी समाजजनों एवं अन्य श्रद्धालुओं ने भगवान के समक्ष मत्था टेका । इस पुनित अवसर पर जम कर आतिशबाजी की गई तथा बालिकाओं के लिये रांगालीे प्रतियोगिता एवं फेंसी ड्रेस प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया जिसमे बडी संख्या में बालिकाओं ने फुलों एवं रंगो से आकर्षक रांगोलियों को उकेरा । इस आयोजन को सफल बनाने में शांतिलाल चैहान, हेमेन्द्र चैहान, सोहनलाल गेहलोत, महेन्द्र गेहलोत, निर्मला सेनी, सपना गेहलोत, सुनिता गेहलोत, विजय चैहान माली, नित्यप्रकाश चैहान, रमाकांत गेहलोत,चन्दुलाल माली, राजू माली आदि का सराहनीय सहयोग रहा ।

महिलाओं ने संगीत मय भजनों की प्रस्तुति दी अन्नकूट मे  

झाबुआ । स्थानीय गायत्री शक्तिपीठ कालेज मार्ग झाबुआ पर सायंकाल 7-30 बजे से आवंला नवमी के पावन अवसर पर श्रद्धा एवं भक्ति के साथ मां गायत्री एवं स्फटिक महाकाल को अन्नकोट के नैवेद्य अर्पण का कार्यक्रम आयोजित किया गया । गायत्री शक्तिपीठ के पण्डित घनश्याम बैरागी ने इस अवसर पर हिन्दू पर्वो के महत्व को बताते हुए कहा कि आंवला नवमी के बारे में ऐसी मान्यता है कि इस दिन द्वापर युग का आरंभ हुआ था। कहा जाता है कि इसी दिन विष्णु भगवान ने कुष्माण्डक दैत्य को मारा था और उसके रोम से कुष्माण्ड अर्थात आवलें की बेल हुई। इसी कारण कुष्माण्ड का दान करने से उत्तम फल मिलता है। 
         इस पर्व के अवसर पर भगवान या अपने आराध्य को अन्नकूट प्रसादी का नैवेद्य अर्पित करने से कोटी प्रसादी का पूण्य प्राप्त होमता है। पण्डित बैरागी ने आंवला नवमी पर आंवला पूजन एवं विधि विधान से तुलसी का विवाह कराने से भी कन्यादान तुल्य फल मिलता है। गायत्री शक्तिपीठ पर इस आयोजन के पूर्व मां गायत्री एवं भगवान स्फटिक महाकाल की महा आरती की गई । गायत्री परिवार की महिलाओं ने श्रीमती नलिनी बैरागी के नेतृत्व में युग संगीत एवं भजन कीर्तन का आयोजन किया ।
          इस अवसर पर श्रीमती मनोरमा डावर, विजिय बजाज, हरिप्रिया पाठक, किरण निगम, गायत्री सांवला, अर्चना राठौर, निर्मला गोयल,पार्वति लश्करे , ललिता वर्मा, शिवकुमारी सोनी, सुलोचना चौहान आदि महिलाओं ने भजन कीर्तन के कार्यक्रम में सभागिता की । गायत्री मंदिर में मां गायत्री एवं स्फटिक महादेव अन्नकूट प्रसादी का नैवेद्य अर्पित किया गया तथा सामुहिक भोजन प्रसादी का आयोजन किया गया जिसमे बडी संख्या में श्रद्धाल्रुओं ने अन्नकूट भोजन प्रसादी ग्रहण की । इस कार्यक्रम को र्सफल बनाने में विशेष सहयोग घनश्याम बैरागी, जीतसिंह भूरिया, प्रकाश डावर, सुरेश निगम का रहा । 

झाबुआ । कार्तिक पूर्णिमा के पावन दिन 4 नवम्बर को स्थानीय तलुसी गली स्थित खेडापति हनुमान मंदिर मे भगवान कोे खेडापति हनुमान भक्त मंडल द्वारा सायंकाल छप्पन भोग की प्रसादी का नैवेद्य अर्पित किया जावेगा । मंडल के ओम प्रकाश सोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि कार्तिक पूर्णिमा पर सायंकाल 5-30 बजे भगवान हनुमानजी की बेंड बाजों व आतिशबाजी के साथ महामंगल आरती की जावेगी तथा 56 भोग हनुमानजी को अर्पित किये जावेगें । 
         श्री सोनी ने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा पर ही प्राणरक्षक हनुमान मंदिर करडावद बडी में प्रातः 11 बजे गाजो बाजें के साथ प्राणरक्षक हनुमानजी की महा मंगल आरती के बाद छप्पन भोग प्रसादी का नैवेद्य अर्पित किया जावेगा । भक्त मंडल ने नगरवासियों से कार्तिक पूर्णिमा के शुभ अवसर परनगरवासियों से इस धार्मिक आयोजन में भाग लेकर धर्मलाभ लिये जाने की अपील की है ।

खेडापति हनुमान एवं प्राणरक्षक हनुमान को अर्पित होगा छप्पन भोग नैवेद्य-Chhappan-Bhog-Naivedya-will-be-offered-to-Khedapati-Hanuman-Mandir-Jhabua
खेडापति हनुमान मंदिर

ख्यातनाम भजन गायक विक्की पारेख भी रहे उपस्थित, हुआ रतजगा

झाबुआ । या देवी सर्वभूतेषू शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमःके जय घोष से पूरा राजवाडा चौक गरबोत्सव के दारैरान मां जगदम्बा की शक्ति एवं भक्ति से सराबोर हो गया । शारदेय नवरात्री की अष्टमी को  श्री देवधर्मराज मंदिर पर पूरी श्रद्धा एवं भक्ति के साथ शास्त्रोक्त मंत्रोच्चार के साथ मां दुर्गा का महापूजन किया गया तथा हवन आयोजित करके आहूतिया दी गई । हवन पूजन के  यजमान अनुज  एवं श्रीमती पूजा चौहान, राजेन्द्र एवं श्रीमती शैलू नीमा व प्रमोद एवं श्रीमती दीपिका परमार ने धर्म लाभ लिया । श्री देवधर्मराज मंदिर मे बिराजित मां दुर्गा की महा मंगल आरती रात्री 8-30 बजे ढोल ढमाकों एवं बेंड की धुनों पर आयोजित की गई जिसमे पूरा मंदिर परिसर मां की आरती के श्रद्धालुओं से भर गया । इस अवसर पर श्री देवधर्मराज मंदिर समिति, राजवाड़ा मित्र मंडल व महिला मंडल तीनों ही समितियों के संरक्षक, पदाधिकारी व सदस्यों ने सपरिवार उपस्थित होकर माताजी की महाआरती की ।
संगीत की स्वरलहरियों पर थिरके सैकेडो पांव
रात्री 9 बजे से राजवाडा मित्र मंडल के पदाधिकारियों के कुशल नेतृत्व में मां दुर्गा की महाष्टमी के अवसर पर आयोजित महागरबा मे सैकडो की संख्या में युवक, महिलाये एवं श्रद्धालुजन रंग बिरंगी एवं गुजराती गरबों के अनुरूप परिधान पहिन कर गरबों मे शामील हुए । इस विहंगम दृश्य को लोग एक टक भक्ति भावना से निहारते रहे । महागरबा का आनदं लेने के लिये दूर दूर से गा्रमीण जन भी गरबा पाण्डाल में उपस्थित रहें । देर रात्री तक गुजराती रंगत लिये गरबों को निहारने के लिये पूरा राजवाडा चैक खचाखच भरा रहा ।
बृजेन्द्र शर्मा का नगरपालिका ने किया सम्मान
श्री देवधर्मराज महादुर्गाेत्सव समिति एवं राजवाडा मित्र मंडल द्वारा आयोजित परंपरागत गरबों के सफलतम आयोजन के लिये नगरपालिका अध्यक्ष श्रीमती मन्नू डोडियार एवं नगरपालिका के पार्षदों ने नगर पालिका परिषद झाबुआ की और से राजवाडा मित्र मंडल के संरक्षक बृजेन्द्र शर्मा व समस्त मित्र मंडल का शहर में भव्यातिभव्य अति सुंदर आयोजन के लिए सम्मान किया व उन्हे प्रतिक चिन्ह भेंट कर उनका साधुवाद ज्ञापित किया गया ।
विधायक बिलवाल एवं निर्मला भूरिया ने भी खेले गरबे
गुरूवार को  राजवाडा चौक पर आयोजित गरबोत्सव में क्षेत्रीय विधायक शांतिलाल बिलवाल भी अपनी मित्र मंडली के साथ राजवाड़ा पहुँचे  एवं मा दुर्गा के के दर्शन किए, तथा गरबों के दौरान मंच की शोभा बढ़ाई । विधायक शांतिलाल बिलवाल ने नगर मे अनुठे,मनमोहक उवं सर्वप्रिय गरबों का माहौल देख वे भी अपने को रोक न पाए और उन्होने भी गरबो प्रमियों के साथ गरबे खेल कर गरबों का आनन्द उठाया । श्री बिलवाल काफी देर तक गरबों की कर्णप्रिय धुनों एवं बोलों पर थिरकते हुए देखे गये उन्होने राजवाडा चैक पर आयोजित गरबोत्सयव की मुक्त कंठ से सराहना की साथ ही सभी को अष्टमी, नवमीं व दशहरे की शुभकामनाएं भी दी ।वही गरबोंत्सव में पेटलावद विधायक सुश्री निर्मला भूरिया पहूंची और उन्होने भी मां के दर्शनलाभ् लिये तथा गरबों का आनन्द प्राप्त कर कार्यक्रम के आयोजन की प्रसंशा की ।
कन्नड़ फिल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री रूपाली सिसौदिया पहूंची-खेला गरबा
राजवाडा चौक पर आयोजित लोकप्रिय गरबों को निहारने  एवं सहभागिता करने के लिये कन्नड फिल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री ’रुपाली सिसोदिया’ भी पहूंची और उन्होंनेे भी महिलाओं के साथ जमकर गरबा खेला । राजवाड़ा परिसर, उसकी आकर्षक विद्युत सज्जा, लय-ताल मैं सुंदर परिधानों से सज्जित खेलने वालों की मनमोहक प्रस्तुति, इतनी बड़ी संख्या में दर्शक व उनके उत्साह व कार्यकर्ताओं के अनुशासन को देखकर वे काफी प्रसन्न हुई आश्चर्य चकित हो गई । उन्होंने सभी की दिल खोलकर प्रशंसा की वह पुनः यहाँ आने की इच्छा भी जाहिर की ।
भजन गायक विक्की पारेख भी रहे उपस्थित
शुक्रवार को महानवमी के अवसर पर राजवाडा चौक मे आयोजित गरबोत्सव में देश के मशहूर भजन गायक’विक्की पारेख (मुम्बई)’ ने भी अपनी उपस्थिति से पूरे माहौल को दुर्गामय कर दिया । राजवाड़ा मित्र मंडल द्वारा उनका सम्मान किया गया तथा नगर की परंपरानुसार उन्हें  प्रतिक चिन्ह प्रदान कर उनका नागरिक सम्मान किया गया ।
           राजवाडा मित्र मंडल एवं देवधर्मराज दुर्गोत्सव समिति द्वारा बताया गया कि शुक्रवार को महानवमीं पर नवरात्रि के अंतिम दिन कार्यक्रम को यादगार बनाने के लिए विशेष तैयारियाँ की गई हैं । गरबा पांडाल को आकर्षक साजसज्जा से आकर्षक एवं नया रूप दिया गया हैं । शुक्रवार महानवमी को अलसुबह तक गरबो का दौर जारी रहा। गरबा परिसर में आने  वाले प्रत्येक दर्शकों के लिए स्वल्पाहार व जल-पान की व्यवस्था भी की गई है । रात्री मे पूरा माहौल गरबों से सराबोर रहेगा तथा माताजी का रतजगा किया जावेगा वही शनिवार को प्रातः 6 बजे माताजी की प्रतिमा का सम्मान विसर्जन होगा । मित्र मंडल के संरक्षक बृजेन्द्र शर्मा चुन्नु भैया ने झाबुआ शहरवासियों का नौ दिनों तक सतत कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये आत्मीय आभार व्यक्त करते हुए संपूर्ण जिलेवासियों को विजयादशमी पर्व की शुभकामनाएं भी दी ।तथा उन्होने कहा कि असत्य पर सत्य की विजय का महापर्व दशहरा सभी को सुख समृद्धि एवं आरोग्यता प्रदान करें । उन्होने शास्त्रो मे उल्लेखित प्रार्थना ’’लोका समस्ता सुखिनः भवन्तु’’ की कामना करते हुए सभी को बधाईया भी दी।

Trending

[random][carousel1 autoplay]

More From Web

आपकी राय / आपके विचार .....

निष्पक्ष, और निडर पत्रकारिता समाज के उत्थान के लिए बहुत जरुरी है , उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ समाचार पत्र भी निरंतर इस कर्त्तव्य पथ पर चलते हुए समाज को एक नई दिशा दिखायेगा , संपादक और पूरी टीम बधाई की पात्र है !- अंतर सिंह आर्य , पूर्व प्रभारी मंत्री Whatsapp Status Shel Silverstein Poems Facetime for PC Download

आशा न्यूज़ समाचार पत्र के शुरुवात पर हार्दिक बधाई , शुभकामनाये !!!!- निर्मला भूरिया , पुर्व विधायक

जिले में समाचार पत्रो की भरमार है , सच को जनता के सामने लाना और समाज के विकास में योगदान समाचार पत्रो का प्रथम ध्येय होना चाहिए ... उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ सच की कसौटी और समाज के उत्थान में एक अहम कड़ी बनकर उभरेगा - कांतिलाल भूरिया , पुर्व सांसद

आशा न्यूज़ से में फेसबुक के माध्यम से लम्बे समय से जुड़ा हुआ हूँ , प्रकाशित खबरे निश्चित ही सच की कसौटी ओर आमजन के विकास के बीच एक अहम कड़ी है , आशा न्यूज़ की पूरी टीम बधाई की पात्र है .- शांतिलाल बिलवाल , पुर्व विधायक झाबुआ

आशा न्यूज़ चैनल की शुरुवात पर बधाई , कुछ समय पूर्व प्रकाशित एक अंक पड़ा था तीखे तेवर , निडर पत्रकारिता इस न्यूज़ चैनल की प्रथम प्राथमिकता है जो प्रकाशित उस अंक में मुझे प्रतीत हुआ , नई शुरुवात के लिए बधाई और शुभकामनाये.- कलावती भूरिया , पुर्व जिला पंचायत अध्यक्ष

मुझे झाबुआ आये कुछ ही समय हुआ है , अभी पिछले सप्ताह ही एक शासकीय स्कूल में भारी अनियमितता की जानकारी मुझे आशा न्यूज़ द्वारा मिली थी तब सम्बंधित अधिकारी को निर्देशित कर पुरे मामले को संज्ञान में लेने का निर्देश दिया गया था समाचार पत्रो का कर्त्तव्य आशा न्यूज़ द्वारा भली भाति निर्वहन किया जा रहा है निश्चित है की भविष्य में यह आशा न्यूज़ जिले के लिए अहम कड़ी बनकर उभरेगा !!- डॉ अरुणा गुप्ता , पूर्व कलेक्टर झाबुआ

Congratulations on the beginning of Asha Newspaper .... Sharp frown, fearless Journalism first Priority of the Newspaper . The Entire Team Deserves Congratulations... & heartly Best Wishes- कृष्णा वेणी देसावतु , पूर्व एसपी झाबुआ

महज़ ३ वर्ष के अल्प समय में आशा न्यूज़ समूचे प्रदेश का उभरता और अग्रणी समाचार पत्र के रूप में आम जन के सामने है , मुद्दा चाहे सामाजिक ,राजनैतिक , प्रशासनिक कुछ भी हो, हर एक खबर का पूरा कवरेज और सच को सामने लाने की अतुल्य क्षमता निश्चित ही आगामी दिनों में इस आशा न्यूज़ के लिए एक वरदान साबित होगी, संपादक और पूरी टीम को हृदय से आभार और शुभकामनाएँ !!- संजीव दुबे , निदेशक एसडी एकेडमी झाबुआ

Contact Form

Name

Email *

Message *

E-PAPER
Layout
Boxed Full
Boxed Background Image
Main Color
#007ABE
Powered by Blogger.