Articles by "cultural"

1 26 january 1 abvp 39 Administrative 1 b4 cinema 1 balaji dhaam 1 bhagoria 1 bhagoria festival jhabua 2 bjp 1 cinema hall jhabua 19 city 14 crime 15 cultural 33 education 2 election 11 events 12 Exclusive 1 Famous Place 6 gopal mandir jhabua 15 Health and Medical 65 jhabua 4 jhabua crime 1 Jhabua History 1 matangi 3 Movie Review 5 MPPSC 1 National Body Building Championship India 4 photo gallery 13 politics 2 ram sharnam jhabua 42 religious 5 religious place 2 Road Accident 3 sd academy 60 social 13 sports 1 tourist place 23 Video 1 Visiting Place 11 Women Jhabua 2 अखिल भारतीय किन्नर सम्मेलन 1 अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद 1 अंगूरी बनी अंगारा 1 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 14 अपराध 1 अल्प विराम कार्यक्रम 5 अवैध शराब 1 आदित्य पंचोली 1 आदिवासी गुड़िया 1 आरटीओं 1 आलेख 1 आवंला नवमी 3 आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट 1 ईद 1 उत्कृष्ट सड़क 19 ऋषभदेव बावन जिनालय 3 एकात्म यात्रा 2 एमपी पीएससी 1 कलाल समाज 1 कलावती भूरिया 3 कलेक्टर 14 कांग्रेस 6 कांतिलाल भूरिया 1 कार्तिक पूर्णिमा 2 किन्नर सम्मेलन 2 कृषि 1 कृषि महोत्सव 3 कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ 1 केरोसीन 2 क्रिकेट टूर्नामेंट 4 खबरे अब तक 1 खेडापति हनुमान मंदिर 15 खेल 1 गडवाड़ा 1 गणगौर पर्व 1 गर्मी 6 गायत्री शक्तिपीठ 2 गुड़िया कला झाबुआ 1 गोपाल पुरस्कार 3 गोपाल मंदिर झाबुआ 1 गोपाष्टमी 1 गोपेश्वर महादेव 12 घटनाए 1 चक्काजाम 2 जनसुनवाई 1 जय आदिवासी युवा संगठन 5 जय बजरंग व्यायाम शाला 1 जयस 6 जिला चिकित्सालय 2 जिला जेल 2 जिला विकलांग केन्द्र झाबुआ 1 जीवन ज्योति हॉस्पिटल 8 जैन मुनि 6 जैन सोश्यल गुुप 1 झकनावदा 59 झाबुआ 1 झाबुआ इतिहास 1 झाबुआ का राजा 3 झाबुआ पर्व 9 झाबुआ पुलिस 1 झूलेलाल जयंती 1 तुलसी विवाह 5 थांदला 3 दशहरा 1 दस्तक अभियान 1 दिल से कार्यक्रम 3 दीनदयाल उपाध्याय पुण्यतिथि 1 दीपावली 2 देवझिरी 31 धार्मिक 5 धार्मिक स्थल 6 नगरपालिका परिषद झाबुआ 5 नवरात्री 4 नवरात्री चल समारोह 3 नि:शुल्क स्वास्थ्य मेगा शिविर 1 निर्वाचन आयोग 4 परिवहन विभाग 1 पर्यटन स्थल 2 पल्स पोलियो अभियान 5 पारा 1 पावर लिफ्टिंग 11 पेटलावद 1 प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय 3 प्रतियोगी परीक्षा 1 प्रधानमंत्री आवास योजना 25 प्रशासनिक 1 बजरंग दल 1 बाल कल्याण समिति 1 बेटी बचाओं अभियान 2 बोहरा समाज 1 ब्लू व्हेल गेम 1 भगोरिया पर्व 1 भगोरिया मेला 2 भगौरिया पर्व 1 भजन संध्या 1 भर्ती 2 भागवत कथा 21 भाजपा 1 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान 1 भारतीय जैन संगठना 3 भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा 1 भावांतर योजना 2 मध्यप्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग 1 मल्टीप्लेक्स सिनेमा 2 महाशिवरात्रि 1 महिला आयोग 1 महिला एवं बाल विकास विभाग 1 मिशन इन्द्रधनुष 1 मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना 2 मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान 8 मुस्लिम समाज 1 मुहर्रम 3 मूवी रिव्यु 6 मेघनगर 1 मेरे दीनदयाल सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता 2 मोड़ ब्राह्मण समाज 1 मोदी मोहल्ला 1 मोहनखेड़ा 1 यातायात 1 रंगपुरा 2 राजगढ़ 9 राजनेतिक 8 राजवाडा चौक 3 राणापुर 6 रानापुर 5 रामशंकर चंचल 1 रामा 1 रायपुरिया 1 राष्ट्रीय एकता दिवस 2 राष्ट्रीय बॉडी बिल्डिंग चैम्पियनशीप 4 राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना 1 राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण 1 रोग निदान 2 रोजगार मेला 12 रोटरी क्लब 2 लक्ष्मीनगर विकास समिति 1 लाडली शिक्षा पर्व 2 वनवासी कल्याण परिषद 1 वरदान नर्सिंग होम 1 वाटसएप 1 विधायक 4 विधायक शांतिलाल बिलवाल 1 विश्व उपभोक्ता संरक्षण दिवस 2 विश्व विकलांग दिवस 2 विश्व हिन्दू परिषद 1 वेलेंटाईन डे 3 व्यापारी प्रीमियर लीग 1 शरद पूर्णिमा 5 शासकीय महाविद्यालय झाबुआ 30 शिक्षा 1 श्रद्धांजलि सभा 3 श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर 7 सकल व्यापारी संघ 2 सत्यसाई सेवा समिति 1 संपादकीय 2 सर्वब्राह्मण समाज 3 साज रंग झाबुआ 28 सामाजिक 1 सारंगी 10 सांस्कृतिक 1 सिंधी समाज 1 सीपीसीटी परीक्षा 3 स्थापना दिवस 2 स्वच्छ भारत मिशन 4 हज 3 हजरत दीदार शाह वली 5 हाथीपावा 2 होली झाबुआ
Showing posts with label cultural. Show all posts

झाबुआ। गणतंत्र दिवस 26 जनवरी समारोह का आयोजन शहीद चन्द्रशेखर आजाद महाविद्यालय प्रांगण झाबुआ में किया गया। कार्यक्रम में रंग-बिरंगी ड्रेसेस पहने विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों ने नृत्य, देश भक्ति गीत एवं सद्भावना गीतों के तरानो से प्रांगण में देश भक्ति का माहौल बनाया। प्रातः 9.00 बजे कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रभारी मंत्री सुरेन्द्रसिह बघेल ने ध्वजारोहण किया एवं परेड की सलामी ली। तत्पष्चात मुख्य मंत्री के संदेश का वाचन किया। कार्यक्रम में परेड ने हर्ष फायर एवं जय घोष किया एवं मार्च पास्ट किया। मुख्य अतिथि ने परेड कमान्डरों का परिचय प्राप्त किया। रंग-बिरंगे गुब्बारे आकाश में छोडे गये। 
     पुलिस बेन्ड द्वारा राष्ट्रीय धुन प्रस्तुत की गई एवं विभिन्न शासकीय विभागों द्वारा शासन की योजनाओं से संबंधित झांकियों का प्रदर्षन किया गया। समारोह में स्कूली विद्यार्थियों द्वारा पी टी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का प्रदर्षन किया गया। समारोह के अन्त में विभिन्न विभागों के उत्कृष्ट कार्य करने वाले शासकीय सेवकों विधार्थियो, समारोह में प्रदर्षन करने वाले परेड दलों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम का संचालन लोकेन्द्र चौहान, हरिश कुण्डल एवं डॉ. गीता दुबे द्वारा किया गया। कार्यक्रम में, विधायक झाबुआ  जी.एस.डामोर, विधायक थांदला वीरसिंह भूरिया, कलेक्टर प्रबल सिपाहा, मुख्य कार्य पालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिडे, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती शांति राजेश डामोर, झाबुआ नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती मन्नू डोडियार, पुलिस अधीक्षक विनीत जैन, सभी विभागों के शासकीय सेवक जनप्रतिनिधिगण, विद्यार्थी एवं बडी संख्या में नागरिक गण उपस्थित थे।
समारोह में ये हुवे पुरस्कृत
गणतंत्र दिवस के अवसर पर उत्कृष्ट कार्य हेतु विभिन्न विभागों के शासकीय सेवको को पुरस्कृत किया गया एवं कार्यक्रम स्थल पर परेड प्रदर्षन में प्रथम पुरस्कार एस.ए.एफ प्लाटून, एवं होमगार्ड दल झाबुआ को, द्वितीय पुस्कार वन रक्षक दल झाबुआ एवं तृतीय एनसीसी सीनियर दल एवं पेरामिलीट्री दल झाबुआ को प्रदान किया गया एवं सभी परेड दलों को सहभागिता पुरस्कार दिया गया। 
सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रथम पुरस्कार जन जातीय छात्रावास झाबुआ को, द्वितीय पुरस्कार कन्या अवासीय शिक्षा परिसर एवं तृतीय पुरस्कार शा.उत्कृष्ट उ.मा.वि. झाबुआ को प्रदान किया गया। 
झांकी प्रदर्षन में प्रथम पुरस्कार सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग झाबुआ को, द्वितीय पुरस्कार कृषि विभाग झाबुआ एवं तृतीय पुरस्कार महिला एवं बाल विकास विभाग झाबुआ को प्रदान किया गया।
उत्कृष्ट कार्य के लिए शासकीय अधिकारी/कर्मचारी अमित डावर सहायक ग्रेड-3, सवेसिग गामड कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी, सुनील सक्सेना निज सहायक,सीईओ जिला पंचायत, गंगा महिला बचत समूह ग्राम सुतरेटी, लक्ष्मी महिला बचत समूह ग्राम उन्नई पेटलावद, अनिल निनामा सरपंच रामपुरिया, श्रीमती संगीता डामोर सरपंच छोटी धामनी, श्रीमती ज्योति भाबोर खण्ड समन्वयक जनपद पंचायत थांदला, रतना झणिया संचिव छोटी धामनी, खेमचन्द बाबु थांदला, सुशीला खोखर थांदला, जे.एस परमार लेखापाल, अरूण टेलर प्राचार्य, आर पी बोहरे प्राचार्य, श्रीमती शीला सिसौदिया वरिष्ठ अध्यापक, श्रीमती सुनिता बारिया अधीक्षक, प्रमोद पाण्डे क्षेत्रीय प्रबधक, श्रीमती ममता आंगनवाडी कार्यकर्त्ता,  राजेश नागर आसरा परमार्थीक ट्रस्ट, श्री जुवानसिंह सेमलिया वन रक्षक, श्री हेमेन्द्र डिण्डोर वन रक्षक, श्री ऐ.के.मण्डलाई उपयंत्री, श्री भरतसिंह व्ही.पी.सी, श्री षान्तीलाल नायक, श्री गटटेसिंह सैनिक, कु. नेहा भटेवरा, श्री निलेष राठौर, डी एन के पठान जिला स्वास्थ्य अधिकारी, श्रीमती चंचल भूरिया स्टॉफ नर्स, कु. सुनिता तोमर स्टाफॅ नर्स, श्री अजय रामावत प्रभारी लेखापाल, श्री अवलोक शर्मा खेल प्रशिक्षक, श्री जेवेन्द्र बोराडे तीरंदाजी प्रशिक्षक, श्री तेजस गुप्ता, कु.सिया सिसौदिया, कु. ललीता डोडीयार, श्री राहुल बारिया, श्री अर्थव बारिया, श्री कैलाश मेडा, श्री विभोर व्यास, श्री हिन्दुल मेडा, कु. रीना डामोर, श्री समर्थ सिकरवार, श्री चित्रांषी बैरागी, श्री सिकन्दर चौहान, श्री जवानसिंह भूरिया, एवं श्री नानुराम सोलंकी नेशनल खिलाडी, श्री जी एस त्रिवेदी उप संचालक कृषि झाबुआ, श्री एनएस नर्गेष परियोजना संचालक, श्री एस एस मौर्य सहायक संचालक कृषि, श्री राजेन्द्र सिंह मंडलोई ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, श्री गोरव मेहरा ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, श्री ब्रजेष कुमार गोठवाल कम्प्यूटर प्रोग्रामर, श्री जयसिह भूरिया भृत्य, श्री एन एस मण्डलोई संभागीय कार्यपालन यंत्री, श्री कौशल्या चौहान निरीक्षक, श्री भीमसिह सिसौदिया उप निरीक्षक, श्री विजय वास्कले उप निरीक्षक, श्री राजेन्द्र शर्मा सब उप निरीक्षक, श्री प्रकाश चौहान सब उप निरीक्षक, श्री शेख आदिल प्रधान आरक्षक 155, श्री कमलेश बामनिया प्रधान अरक्षक, श्रीमती मंजु चौहान, श्री सवेसिंह बामनिया आरक्षक, श्री मोतीलाल आरक्षक, कु सुन्दरी बघेल प्रहरी, नई मुददीन शेख पटवारी, रामसिंह डामोर,शाखा प्रबंधक श्री अजीतसिंह शाखा प्रबंधक श्री भीमसिंग डूडवे सहायक आपूर्ति अधिकारी, श्री लक्ष्मण दिपाजी ग्राम मियाटी विकासखण्ड थांदला, श्री मोहनलाल समाजी ग्राम रूपगढ विकासखण्ड पेटलावद, श्रीमती ईसु धनसिंह ग्राम बरोड विकासखण्ड झाबुआ, श्रीमती शांति खुशहाल सिंह ग्राम नौगांवा विकासखण्ड मेंघनगर, श्री चेनिया नरसिंह ग्राम पाटडी विकासखण्ड थांदला, सांई महिला बचत समूह ग्राम बिसोली विकासखण्ड झाबुआ को, उत्कृष्ट कार्य करने हेतु पुरस्कृत किया गया। 
       प्रभारी मंत्री श्री सुरेन्द्रसिंह बद्येल के कर कमलों से कीटनाशक उपचारित मच्छरदानी का वितरण भी आज से प्रतीकात्मक रूप से किया गया। एल.एल.आई वितरण में हितग्राही श्री बाबु केवला, श्री कुका सकरा, श्री रामसिंह छगन एवं श्री ललीत नेवला ग्राम रानापुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र राणापुर को पुरस्कृत किया गया।
इसी प्रकार शेक्षणिक संस्थाओं को उत्कृष्टता पुरस्कार योजना में कु. अंजलि तेरसिंह मचार शा.कन्या उ.मा.वि. मेघनगर एवं कु. नेहा पिता महेश भटेवरा शा.कन्या उ.मा.वि. थांदला को 5-5 हजार, शाखा प्रबंधक समिति कन्या प्रा.वि. ढेकलबडी 10 हजार, शाखा प्रबंधक नवीन मा. वि. डुॅगराधन्ना को 15 हजार का पुरस्कार योजना वर्ष 2018-19 में जिला स्तर पर चयनित होने पर पुरस्कृत किया गया।













झाबुआ। आयुक्त लोक शिक्षण श्रीमती जयश्री कियावत ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों को भोपाल के इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय बालरंग में समन्वय के साथ बेहतर व्यवस्था किये जाने के निर्देश दिये हैं। राष्ट्रीय बालरंग 19 से 21 दिसम्बर तक आयोजित होगा। बालरंग में देश भर के विभिन्न राज्यों के स्कूलों के बच्चे सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति देंगे।
           बालरंग में 19 दिसम्बर को राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के अन्तर्गत संभाग स्तर पर साहित्यिक, सांस्कृतिक, संस्कृत, मदरसा और निरूशक्त बच्चों की प्रतियोगिता होंगी। राष्ट्रीय बालरंग का उद्घाटन समारोह 20 दिसम्बर को प्रातरू 10 बजे और समापन 21 दिसम्बर को दोपहर 3 बजे होगा।
            राष्ट्रीय बालरंग में 16 प्रदेश और 7 उत्तर पूर्व प्रदेशों के करीब 600 प्रतिभागी बच्चों समेत अधिकारी शामिल होंगे। यह बच्चे अपने प्रांतों के लोक नृत्यों की प्रस्तुतियाँ देंगे। लघु भारत प्रदर्श्नी और समर्थ भारत बालरंग के विशेष आकर्षण होंगे। बालरंग के दौरान 5 से 6 हजार बच्चों की प्रतिदिन सहभागिता रहती है। साहित्यिक प्रतियोगिता में स्व-रचित काव्य पाठ, वाद-विवाद, प्रश्न-मंच, तात्कालिक भाषण और सुलेख प्रमुख है। सांस्कृतिक प्रतियोगिता में सुगम संगीत, वादन, शास्त्रीय नृत्य, लोकगीत और लोकनृत्य, प्रमुख हैं। संस्कृत प्रतियोगिता में नृत्य-नाटिका, वेद पाठ, भाषण और निबंध, मदरसा प्रतियोगिता में गजल, कव्वाली, निबंध लेखन प्रमुख होंगे। निरूशक्त बच्चों के लिये सुगम संगीत, वादन, नृत्य, एकल अभिनय, सामूहिक अभिनय प्रमुख होंगे। 

भोपाल के इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय बालरंग-Indira-Gandhi-National-Human-Museum-of-Bhopal-will-be-a-better-arrangement-for-organizing-National-Balrang-Competition

झाबुआ। जिले के दो दिवसीय भ्रमण पर आये झाबुआ जिले के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग ने स्वतंत्रता समारोह के पश्चात हाथी पावा पहाडी पर विकसित पर्यटन स्थल पर पहुंच कर मध्यप्रदेश का तीसरा सबसे ऊंचा 100 फीट ऊंचा तिरंगा फहराया। हाथीपावा पहाडी पर सनसेट पाइंट का अवलोकन किया एवं जिले मे विकसित इस पर्यटन स्थल के लिए कलेक्टर आशीष सक्सेना, पुलिस अधीक्षक महेशचंद्र जैन, सामाजिक संगठन एवं आमजन द्वारा किये गये प्रयासो की सराहना की। प्रभारी मंत्री सारंग ने हाथीपावा पर्यटन स्थल पर घुडसवारी की एवं झूला झूलने का आनंद भी लिया।
          झाबुआ में स्वतन्त्रता दिवस के अवसर पर हाथीपावा की पहाड़ी पर 400 फीट की ऊंचाई पर 100 फीट का पोल बना कर तिरंगा लहराया  गया। बता दें हाथीपावा पहाड़ी की ऊंचाई 400 फीट है, यह तिरंगा 4 किमी की दूरी से भी दिखाई देगा। रात को यह तिरंगा दिखाई दे इसके लिए 4 हाई मास्ट लैम्प लगाए गए हैं। वहीं झंडा जल्दी खराब ना हो, इसके लिए इसे पोलिस्ट से बनाया गया है। जिला प्रशासन ने पोलिस्टर के 6 और तिरंगे बनवाये हैं ताकि जरूरत पड़ने पर इन्हें बदला जा सके। इस तिरंगे को पुणे की एक फर्म ने तैयार किया है। यह कंपनी पहले भी वाघा बार्डर, दिल्ली, नागपुर सहित बुरहानपुर में ऊंचाई पर तिरंगे लगाने का काम कर चुकी है।

100-feet-tiranga-in-jhabua-प्रभारी मंत्री सारंग ने हाथीपावा पहाडी पर फहराया प्रदेश का तीसरा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

100-feet-tiranga-in-jhabua-प्रभारी मंत्री सारंग ने हाथीपावा पहाडी पर फहराया प्रदेश का तीसरा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

100-feet-tiranga-in-jhabua-प्रभारी मंत्री सारंग ने हाथीपावा पहाडी पर फहराया प्रदेश का तीसरा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन परिचय के बारे में बच्चों को दी जानकारी

राजेश थापा , झाबुआ। जिले के ग्राम झकनावदा स्थित मानस एक्टीविटी एकेडमी स्कूल में 11 अगस्त को स्कूल संस्था की प्राचार्या श्रीमती सीमा सुशील कुमार जैन के मार्गदर्शन में 15 अगस्त के पूर्व नन्हे-मुन्ने बच्चो का फेन्सी ड्रेस का आयोजन रखा। जिसमें समस्त नन्हे-मुन्ने स्कूली छात्र-छात्राओं को हमारे देश को आजाद करवाने में फेंसी ड्रेस के माध्यम से बने चंद्रशेखर आजाद, जवाहरलाल नेहरू, भगतसिंह, झांसी की रानी, लाल बहादुर शास्त्री एवं भारत माता को दिखाते हुए बच्चो को जानकारी दी।  
         इस अवसर पर प्राचार्य श्रीमती जैन ने बताया की हमारे देष को अंग्रजो से आजादी दिलाने में इन सभी स्वतंत्र सेनानियां का महत्वपूर्ण योगदान रहा। जिससे हम आज स्वतंत्र है एवं अपनी मर्जी से कही भी आ जा सकते है। हमारी मर्जी से जो करना है, कर सकते है। हमारे पूर्वज अंग्रजो के गुलाम रहे, इसलिए हमें हमेषा इनके बलिदानो को जीवन में अंगीकार उनकी  पूजा करना चाहिए एवं उनके पद् चिन्हो पर चलना चाहिए। इस अवसर पर समस्त बच्चो में एक अलग ही उत्साह का माहौल देखने को मिला। बच्चे बडे ही उत्साह व उमंग के साथ स्कुल में भारत माता की जय, वंदे मातरम् के नारे लगाते नजर आए।। श्रीमति सीमा जैन ने बताया की स्कूली बच्चां को उनके पालको द्वारा घर से ही तैयार कर स्कूल भेजा गया था। साथ ही कहा कि समस्त पालक इसी प्रकार हमें सहयोग प्रदान करते रहे। जिससे हम लोग बच्चां को और नित नये आयाम से जोड़ सके।
यह रहे फेंसी ड्रेस में विजेता
फेन्सी ड्रेस के माध्यम से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी बनकर आए बच्चो में प्राचार्या एवं स्टॉफ द्वारा प्रथम,द्वितीय तृतीय का चयन किया गया। जिसमें पूर्व प्राथमिक कक्षा में कुमारी लक्षिता-मितेश कुमट (झांसी की रानी लक्ष्मीबाई) ने प्रथम स्थान, अरिहंत-मनीष कुमट (झाबुआ जिले की शान चंद्रशेखर आजाद) व प्रसन्न-मनीष कोठारी (जवाहरलाल नेहरू) ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। इसी क्रम में  प्राथमिक विद्यालय में चिन्मय-प्रकाश भांगु (भगतसिंह) ने प्रथम स्थान, कु. निष्ठा-आशीष भांगु (जवाहरलाल नेहरू), हितलेश-विजय बहादुरसिंह राठौर (झांसी की रानी लक्ष्मीबाई) ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया। साथ ही स्कूल प्राचार्य ने बताया की समस्त विजेता बच्चो को 15 अगस्त को प्रोत्साहित किया जाएगा। इस अवसर पर श्रीमति मोना जैन, शिल्पा सोनी, पायल मांडोत, निकीता वैरागी, दर्शना जैन, शिवानी सोनी, निलेश चौहान आदि उपस्थित थे।

72वां स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में मानस स्कूल में हुआ फैंसी ड्रेस का आयोजन-fansi-dress-competetion-held-on-manas-school

रोटरी क्लब द्वारा  ‘सूर श्री’ सीजन-4 का आयोजन-rotary-club-sur-shree-singing-competetion-jhabua-2018-rotary district 3040-
झाबुआ। रोटरी इंटरनेशनल डिस्ट्रीक्ट 3040 का ‘सूर श्री’ सीजन-4 का ऑडिशन किया जा रहा है। इसमें गायन के कलाकारों के प्रदेश स्तरीय चयन हेतु गायन प्रतियोगिता रखी गई है। झाबुआ में यह गायन चयन प्रतियोगिता रोटरी क्लब झाबुआ द्वारा की जा रहीं है। इसी के तहत 11 अगस्त को झाबुआ स्तर की गायन चयन प्रतियोगिता एवं 16 अगस्त को जिला स्तर की गायन प्रतियोगिता का आयोजन इंदौर पब्लिक स्कूल झाबुआ में हांगा। जिसमें विद्यालयों के कक्षा 9वीं से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थी सम्मिलित हो सकेंगे।
         यह जानकारी देते हुए कार्यक्रम संयोजक रो. यशवंत भंडारी, रो. उमंग सक्सेना एवं रो. भरत मिस्त्री ने संयुक्त रूप से बताया कि रोटरी इंटरनेशनल एक विष्व व्यापी संस्था है, जो समाजसेवा के विभिन्न आयामों पर सेवा कार्य करती है। इसी क्रम में युवाओं में गायन प्रतिभा को विकसित एवं उन्हें उचित मंच प्रदान करने हेतु वरिष्ठ रोटेरियन असीम जिंदल के मार्गदर्शन एक प्रादेशिक स्तर की एकल गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें कक्षा 9वीं से 12वीं तक के छात्र-छात्राएं सम्मिलित होना है।
11 एवं 16 अगस्त को होगा झाबुआ एवं जिला स्तर का ऑडिशन
आयोजक संस्था रोटरी क्लब झाबुआ के अध्यक्ष रो. अमितसिंह जादौन एवं सचिव रो. हिमांशु त्रिवेदी ने बताया कि आईपीएस में झाबुआ ऑडिशन 11 अगस्त को सुबह 10 बजे से प्रारंभ होगा। जिसमें शहर के स्कूलों के विद्यार्थी हिस्सा लेंगे। इसी प्रकार जिला स्तरीय ऑडिशन 16 अगस्त से इसी स्कूल में सुबह 10 बजे से होना है, जिसमें जिला स्तर के छात्र-छात्राएं शामिल हो सकेंगे। इसके पश्चात् क्वार्टर फायनल भी झाबुआ में होगा। सेमीफायनल भोपाल एवं ग्रांड फिनाले इंदौर में रखा गया है, उसकी तिथि सूचित की जाएगी। प्रतियोगिता के अंतिम पड़ाव में विजेता होने के बाद प्रथम पुरूस्कार एक लाख एक हजार रू. द्वितीय पुरूस्कार इकावन हजार रू. एवं तृतीय पुरूस्कार इक्कीस हजार रू. रखा गया है। इसके साथ ही कई आकर्षक उपहार एवं सांत्वना पुरस्कार भी प्रतिभोगियों को अलग-अलग स्तर की प्रतियोगिता में प्रदान किए जाएंगे।
आयोजन की तैयारियां जोर-शोर से जारी
झाबुआ ऑडिशन एवं जिला स्तरीय ऑडिशन को सफल बनाने में रोटरी क्लब झाबुआ के उपाध्यक्ष अर्पित संघवी, सह-सचिव यसिल शाह, कोषाध्यक्ष कर्तिक नीमा, निखिल भंडारी, इन्हरव्हील क्लब चेयरमेन श्रीमती अर्चना राठौर, रोटरेक्ट क्लब से अध्यक्ष रिंकू रूनवाल, उपाध्यक्ष दौलत गोलानी, सचिव राकेश पोतदार सह-सचिव जावेद शेख, कोषाध्यक्ष राजेश चौहान, सह-कोषाध्यक्ष भावेश सोलंकी आदि आयोजन को सफल बनाने हेतु पूर्व तैयारियों में लगे हुए है।

हाथीपावा पहाड़ी पर किया पौधारोपण 

झाबुआ। बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओं के साथ पर्यावरण सरंक्षण का संदेश को लेकर 5 हजार किलोमीटर की लंबी साइकिल यात्रा पर निकली हरियाणा की सुनिता चौकन ने आज झाबुआ में शहीद चंद्रशेखर आज़ाद की जयंति पर उन्हे याद कर पौधा रोपण किया। इस दौरान सुनिता का शहर में विभिन्न सामाजिक संगठनों ने भव्य स्वागत किया। 15 जुलाई को गुजरात के सोमनाथ से शुरू हुई यह यात्रा 40 दिनों के सफर के दौरान 5 राज्यों से होते हुए नेपाल में समाप्त होगी। सुनिता प्रतिदिन सुबह 5 बजे अपनी यात्रा शुरू करती है। प्रतिदिन करीब 100 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद रात्री विश्राम होता है। पूरी यात्रा में 5 हजार किलोमीटर की दूरी तय होगी जो सिक्किम से होते हुए नेपाल तक जाएगी। सुनिता को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान में अपनी भूमिका के लिये साल 2016 में तत्कालिन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी नारी शक्ति सम्मान से और 2017 में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर हरियाणा हिरो सम्मान से सम्मानित कर चुके है। यात्रा को लेकर सुनिता के कई अनुभव भी है जो यादगार है। साथ ही अपनी यात्रा के दौरान बेटियों के प्रति सुरक्षा का भाव भी महसूस हुआ।
             सुनितासिंह चौकेन ने सोमवार सुबह 8 बजे स्थानीय विजय स्तंभ तिराहे से अपनी साईकिल से शहर के मुख्य बाजारों में भ्रमण किया। इस बीच उनका जगह-जगह विभिन्न सामाजिक संस्थाओं एवं अनेक समाजजनों द्वारा स्वागत करते हुए कहीं पुष्पमालाएं पहनाई गई तो कहीं पुष्प वर्षा कर सुश्री चौकेन का शहर प्रवेश कर स्वागत हुआ। आजाद चौक पहुंचने पर यहां सुश्री चौकेन ने शहीद चन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। यहां उनका पूरे शहर की ओर से विभिन्न सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं द्वारा नागरिक अभिनंदन किया गया। यहां से सुश्री चौकेन ने हाथीपावा पहाड़ी पर पहुंचकर कलेक्टर आशीष सक्सेना के साथ पौधारोपण भी किया। सुश्री सुनितासिंह के समस्त कार्यक्रमों में रोटरी क्लब के पदाधिकारी एवं सदस्य पूरे समय उनके साथ रहे।


        अपने निर्धारित कार्यक्रम के तहत सुश्री सुनितासिंह चौकेन ने स्थानीय विजय स्तंभ तिराहे से अपनी साईकिल यात्रा प्रारंभ की। यहां पर सीधी समाज की ओर से सुभाष गिधवानी, लक्की गिरधानी, अशोक सावलानी, गायत्री सावलानी, श्याम सावलानी, पंजाबी समाज से सुभाष छाबड़ा के साथ इंदरसेन संघवी एवं इन्हरव्हील क्लब की ज्योति रांका के नेतृत्व में क्लब की अन्य महिलाओं द्वारा सुश्री चौकेन का पुष्प गुच्छ भेंटकर स्वागत किया गया। यहां से यात्रा ढोल और ताषों के साथ आगे बढ़ी। जिला चिकित्सालय मार्ग से बस स्टेंड स्थित फव्वारा चौक पहुंचने पर यहां जिला कराते एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष उमंग सक्सेना, सचिव सूर्यप्रतापसिंह के साथ अन्य पदाधिकारियों एवं कराते के खिलाड़ियों ने मिलकर भारत की बेटी का स्वागत करते हुए बालिका खिलाड़ियों ने उन्हें पुष्पमालाएं पहनाई एवं हाथ मिलाकर अभिवादन किया। पंतजलि एवं विष्व हिन्दू परिषद् की ओर से हिमांशु त्रिवेदी, रोशन सावलानी ने स्वागत किया। यात्रा ने मेन बाजार से थांदला गेट पहुंचने पर यहां साज रंग की ओर से, बाबेल चौराहा के बाद आजाद चौक पर पहुंचने पर यहां सर्वप्रथम सुश्री सुनितासिंह ने आजाद की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। 
भव्य सम्मान किया गया 
अलग-अलग सामाजिक एवं धार्मिक संस्थाओं द्वारा सुश्री चौकेन का सम्मान किया गया। जिसमें रोटरी क्लब की ओर से प्रकाश रांका, प्रदीप रूनवाल, अमितसिंह जादौन (यादव), हिमांशु त्रिवेदी, अर्पित संघवी, कार्तिक नीमा, यशिल शाह, मनोज पाठक, रोटरेक्ट क्लब से दौलत गोलानी, इन्हरव्हील क्लब मेन, जिला आजाद साहित्य परिषद, सकल व्यापारी संघ, आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट से राजेश नागर, सुधीर कुशवाह, श्रीमती वंदना व्यास, जिला पंतजलि योग समिति से सुश्री रूक्मणी वर्मा, भारत स्काउट एवं गाईड से जयेन्द्र बैरागी, शशि त्रिवेदी, प्रदीप पंड्या एवं बृजकिशोर सिकरवार एवं स्काउट के छात्र-छात्राओं, ओटला ग्रुप, साज रंग, परहित जन सेवा संस्था, गायत्री परिवार से पं. घनष्याम बैरागी एवं अन्य परिजनों, नगरपालिका की ओर से पपीश पानेरी, राजवाड़ा मित्र मंडल की ओर से ओमप्रकाश शर्मा, श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना की ओर से रविराजसिंह राठौर, जिला बजरंग व्यायाम शाला से सुशील वाजपेयी एवं उनकी टीम, संकल्प ग्रुप की ओर से श्रीमती भारती सोनी, मुकेश जैन ‘नाकोड़ा’, अमित मेहता, निखिल भंडारी, अरविन्द लोढ़ा, जिला कर सलाहकार परिषद की ओर से प्रमोद भंडारी, सर्व ब्राह्मण समाज की ओर से अष्विन शर्मा, पपीश पानेरी, विशाल शर्मा, विरेन्द्रसिंह ठाकुर, हर्ष भट्ट, पुलिस विभाग, नीमा समाज, नर्मदा-झाबुआ ग्रामीण बैंक सहित शहर की अन्य सामाजिक-धार्मिक संस्थाओं द्वारा मिलकर सुश्री चौकेन का पुष्प गुच्छ भेंटकर एवं शाल ओढ़ाकर तथा श्रीफल भेंटकर भावभरा सम्मान किया गया। 
मेरी यात्रा का उद्देष्य बेटियों की सुरक्षा और पर्यावरण को बढ़ावा देना
आजाद चौक पर आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए हरियाणा की ब्रांड एम्बेसेडर एवं नारी शक्ति अवार्ड से सम्मानित सुश्री चौकेन ने अपने उद्बोधन में कहा कि वह हरियाणा राज्य के रेवाड़ी क्षेत्र की रहने वाली है और उन्होंने यह यात्रा इसलिए शुरू की है, ताकि पूरे देश में बेटियों की सुरक्षा के लिए शासन-प्रशासन के साथ हर कोई सजग हो सके, हम बेटियों का सम्मान करे, उन्हें पढ़ाएं और निरंतर प्रगति की ओर से अग्रसर करे। साथ ही पर्यावरण को लेकर कहा कि मैं अपनी भारत यात्रा के दौरान जिन स्थानों से होकर निकल रहीं हू, वहां आवष्यक रूप से पौधारोपण कर हरियाली को बढ़ावा देना एवं उसके प्रति लोगों में जागृति लाना भी मेरा मकसद है। इस दौरान सुनितासिंह के साथ रोटरी मंडल 3040 इंदौर के प्रेसिडेंट आशीत राजकुटिया एवं वूमन रोटरी चेयरमेन श्रीमती अर्चना राजकोटिया एवं हरियाणा रेवाड़ी से चीफ कोर्डिनेटर अरूण गुप्ता भी विशेष रूप से उपस्थित थे। 
हाथीपावा पर किया पौधारोपण 
यहां से सुश्री चौकेन नेहरू मार्ग, राजवाड़ा चौक, कैलाश मार्ग, मारूति नगर होते हुए हाथीपावा पहाड़ी  पर अपनी साईकिल से पहुंची। जहां कलेक्टर आशीष सक्सेना के साथ सुश्री चौकेन ने स्वयं श्रमदान करते हुए गड्ढ़ा खोदकर पौधारोपण किया एवं भारत माता तथा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं के घोष लगाए गए। इस अवसर पर रोटरी क्लब से यशवंत भंडारी, उमंग सक्सेना, जयेन्द्र बैरागी द्वारा सुश्री चौकेन को अभिनंदन-पत्र प्रदान किया गया। इसके पश्चात् सुश्री चौकेन ने साईकिल से अपनी अगली यात्रा के लिए झाबुआ से प्रस्थान किया। 

लाइव वीडियो 
लाइव फोटो 


आजाद अमर रहे .... अमर रहे .... के जयघोष लगाए गए 

झाबुआ। देश के वीर सपूत, महान क्रांतिकारी शहीद चन्द्रशेखर आजाद की 112वीं जयंती स्थानीय शासकीय शहीद चन्द्रशेखर आजाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय में जनभागीदारी समिति एवं कॉलेज प्रशासन द्वारा मिलकर मनाई गई। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कॉलेज के जनभागीदारी समिति अध्यक्ष यशवंत भंडारी एवं सदस्य श्रीमती अर्चना राठौर उपस्थित थी। अध्यक्षता महाविद्यालय प्राचार्य डॉ. एचआर अनिजवाल ने की। इस अवसर विशेष रूप से संस्था के वरिष्ठ प्राध्यापकगण उपस्थित थे।  
कार्यक्रम के प्रारंभ में सभी अतिथियों द्वारा महाविद्यालय परिसर में स्थापित आजाद के चित्र पर धूप-दीप कर माल्यार्पण किया गया। इसके पश्चात् उपस्थित सभी प्रध्यापकगणों के साथ छात्र-छात्राओं ने भी आजाद की प्रतिमा पर माल्यार्पण करते हुए उन्हें नमन किया तथा उनके आदर्शो पर चलने का संकल्प लिया। इसके पश्चात् सामूहिक रूप से चन्द्रषेखर आजाद अमर रहे .... अमर रहे .... के जयघोष लगाए गए। 
        कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि जनभागीदारी समिति अध्यक्ष श्री भंडारी ने कहा कि चन्द्रशेखर आजाद का जन्म झाबुआ के समीपस्थ आलीराजपुर जिले के चन्द्रशेखर आजाद नगर (भाबरा) में हुआ। उनका देश की आजादी में विशेष सहयोग रहा। आप युवा छात्र-छात्राओं को आजाद से प्रेरणा लेकर उनके बताए मार्गों पर चलने की आवष्यकता है। आजाद हमेशा आदर्श पुरूष रहे और उन्होंने अंतिम सांस तक देश की आजादी के लिए निरंतर लड़ाई लड़ी। कार्यक्रम को जनभागीदारी समिति सदस्य श्रीमती अर्चना राठौर एवं प्राचार्य श्री अनिजवाल ने भी संबोधित करते हुए आज की युवा पीढ़ी को आजाद के जीवन से प्रेरणा लेने की बात कहीं।
ये थे उपस्थित 
इस अवसर पर पीजी कॉलेज की वरिष्ठ प्राध्यापिका डॉ. गीता दुबे, डॉ. सुरेशचन्द्र जैन, डॉ. रविन्द्रसिंह, डॉ. जेसी सिन्हा, प्रो. केसी कोठारी, श्रीकांत शाह, वीरसिंह कटारा, अंजना मुवेल, मंजुला गिरवाल सहित अन्य प्राध्यापकगण तथा बड़ी संख्या में महाविद्यालयीन छात्र-छात्राएं उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ प्राध्यापक एवं जनभागीदारी समिति प्रभारी डॉ. गोपाल भूरिया ने किया। 

शहीद चन्द्रशेखर आजाद की 112वी जयंती पर विभिन्न संगठनो ने पुष्पांजलि अर्पित की -112th shaid chandra shekhar azad jyanti 2018

सर्व ब्राहम्ण समाज ने शहीद चन्द्रशेखर आजाद की 112वी जयंति पर आजाद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की 

झाबुआ। सर्व ब्राहम्ण समाज के पदाधिकारीयों एव सदस्यों ने प्रातः 09ः00 बजे स्थानीय आजाद चौक स्थित शहीद चंन्द्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर माल्यापर्ण एवं दीप प्रज्जवलित कर उन्हें भावभीनी पुष्पांजलि अर्पित की । ब्राहम्ण समाज के जननायक कांतिकारी अमर शहीद चन्द्रशेखर आजाद का जन्म 24 जुलाई  1906 को ब्राहमण परिवार में हुआ था, उनके पिता  श्री  सीताराम तिवारी एवं माता जगरानी देवी था, आजाद का प्रारंभिक जीवन आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों आदिवासीयों के साथ में व्यतित हुआ था । शहीद चंन्द्रशेखर आजाद ने देश की आजादी के लिये आजाद ने अपने प्राणों का बलीदान देकर ब्राहम्ण समाज को गौरवान्वित किया ।
            शहीद चन्द्रशेखर आजाद अपने नाम के समान ही सदेव अंग्रेजों के हाथों में नहीं आये और आजाद रहकर ही अपने प्राणों का बलिदान दिया । इस अवसर पर ब्राहम्ण समाज के संरक्षक डॉ के.के.त्रिवेदी समाज के पदाधिकारी हर्ष भट्ट, आचार्य नामदेव, अष्विनी शर्मा,सुनिल शर्मा, भागवत शुक्ला, जनार्दन शुक्ला,पपीश पानेरी, आशीश पाण्डे,  राजेश नागर, ओमप्रकाश शर्मा, महिला पदाधिकारी, वीणा भार्गव,रेखा शर्मा, विजीया लक्ष्मी शुक्ला, लीला त्रिवेदी, मधु जोशी, ज्योति जोशी ,ज्योति त्रिवेदी,शशिकला त्रिवेदी आदि भारी संख्या में सर्व ब्राहम्ण समाज के लोग उपस्थित रहें । 
समाज की महिला ईकाई द्वारा इस अवसर पर रातितलाई स्कुल में जाकर शहीद चन्द्रशेखर आजाद की जीवन परिचय एवं कविता पाठ प्रतियोगीता करवाई, तथा प्रतिभाशाली छात्रों को पुरूस्कृत कर स्वच्छता का संदेश दिया ।  


सर्व ब्राहम्ण समाज ने शहीद चन्द्रशेखर आजाद की 112वी जयंति पर आजाद की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की- 112th shaid chandra shekhar azad jyanti 2018

इंदौर के प्रख्यात ट्रेनर अलग-अलग विद्याओं के लिए लेंगे आडिशन 

झाबुआ। जिले की साहित्यिक, सांस्कृतिक संस्था साज रंग झाबुआ द्वारा स्थानीय थांदला गेट स्थित एकलव्य संस्कृति भवन में तांडव सीजन-3, आडिशन का वृहद आयोजन किया जा रहा है। इस ऑडिशन शो में 4 विद्याओं नृत्य, गायन, एक्टींग एवं माडलिंग का इंदौर के प्रख्यात ट्रेनर आडिशन लेंगे। जिसके आधार पर उनका सिलेक्शन किया जाएगा। इस प्रोग्राम का एसआर चेनल  के माध्यम से प्रदेश के 130 शहरों में प्रसारण भी होगा। 
      यह जानकारी देते हुए साज रंग संस्था के कार्यकारिणी अध्यक्ष कमलेश पटेल ने बताया कि ऑडिशन-शो की तैयारियां आयोजक संस्था द्वारा जोर-शोर से की जा रहीं है। 1 जुलाई को तांडव सीजन-3, सुबह 10 से शाम 4 बजे तक चलेगा। इसे एप्रोच इंडिया गॉट टेलेंट सीजन-5 की विनर रागिनी मक्कड़ इंदौर द्वारा किया जाएगा। शो को लेकर उनके झाबुआ आने की संभावना व्यक्त की जा रहीं है। इसके साथ ही शो के जजेस के रूप में दिनेश परिहार, रोहित अमेरिया, दीपिका मुंडढ़े उपस्थित रहेंगी। जिनके द्वारा शो में हिस्सा लेने वाले प्रतिभोगियों का उनकी विधाओं में दी गई प्रस्तुति के आधार पर सिलेक्शन होना है। प्रोड्यूसर महेश सेंगर रहेंगे एवं प्रस्तुतकर्ता कोटिल्य एकेडमी इंदौर रहेगा। 
मेगा आडिशन में होंगे शामिल 
इस आडिशन में जो प्रतिभागी सिलेक्टेड होंगे, वह आगामी समय में इंदौर में होने वाले मेगा आडिशन में भाग लेंगे। श्री पटेल ने बताया कि इस प्रोग्राम का एसआर चेनल विशेष प्रसारण दिखाएगा। एसआर के माध्यम से प्रदेश के 130 शहरो में इसका प्रसारण किया जाएगा। आडिशन में किसी भी आयु वर्ग के प्रतिभागी शामिल हो सकते है, उन्हें अपना फार्म जमा करवाना होगा। फार्म प्राप्त करने के लिए एवं आडिशन में हिस्सा लेने के लिए साज रंग संस्था के मुकेश बुंदेला से उनके मोबाईल नं. -ः 98936-08033, आलोक रावत 98935-28012 के साथ यग्नेष मालवीय, विनय तिवारी एवं अभिषेक निनामा से संपर्क कर किया जा सकता है।  



झाबुआ। वर्तमान भौतिकता की चकाचौंध में नन्हे से बालक से लेकर बुजुर्ग अवस्था के व्यक्ति के हाथ में संचारक्रांति का एक ऐसा माध्यम आ गया जिसके चलते पलभर में दुनिया की खोज खबरें तो पा लेता है। साथ ही संचार की इस क्रांति व भौतिकता की चकाचौंध में साहित्य व संगीत जो पोराणिक काल में चलता था वह अब शनै:-शनै: विलुप्त होने लगा और पाश्चात्य संगीत ठेठ गांव, खेड़ों से लेकर महानगरों तक ऐसा हावी हुआ कि शास्त्री संगीत सुनना ही कर्णभेदी लगने लगा और पाश्चात्य संगीत इतना कर्णप्रिय हो गया कि जो गीत-संगीत पूर्व में शास्त्री संगीतों के आधार पर थे। उन्हे भी भौतिकता की चकाचौंध व पाश्चात्य संस्कृति के संगीत ने ऐसा संजोया कि हर कोई पूर्व के शास्त्री संगीत सुनने की बजाय ''रिमिक्स" शास्त्री उर्फ पाश्चात्य संगीत सुनना पसंद करते है। स्थिति यह हो गई कि पाश्चात्य संस्कृति व भौतिकता की चकाचौंध में विश्व पटल से शास्त्री संगीत विलुप्त होने लगा। जब तक शास्त्री संगीत के क्षेत्र में कुमार गंधर्व थे तब तक यह माना जा रहा था कि पौराणिक काल से लेकर वर्तमान तक शास्त्री संगीत जीवन्त है, लेकिन शास्त्री संगीत के महान गायक कुमार गंधर्व के देवलोक गमन होते ही शास्त्री संगीत पर पाश्चात्य संगीत हावी होने लगा।  
           ऐसे में शास्त्री संगीतकार स्वर्गीय कुमार गंधर्व के सुपुत्र पंडीत भुवनेश्वर ने शास्त्री संगीत का वर्चस्व कायम करने का संकल्प लिया और अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए शास्त्री संगीत का न केवल अलख जगाना शुरू किया अपितु अपने पिता की तर्ज पर नए शिष्यों को भी शास्त्री संगीत की शिक्षा देने लगे। उन्ही में से पंडित भुवनेश्वर कौमकली देवास का एक शिष्य डॉ. दीनदयाल चौरसिया भी शामिल हुआ। 
शासकीय संगीत शिक्षक हैं 
प्रदेश भर में शास्त्री संगीत का अलख जगा रहे युवा डाक्टर चौरसिया-Youth-Artist-Chaurasia-waking-up-the-classical-music-of-the-stateयुवा तुर्क 42 वर्षिय डॉ. दीनदयाल चौरसिया वर्तमान में देवास जिले में जवाहर नवोदय विद्यालय में संगीत शिक्षक है। इससे पूर्व डाक्टर चौरसिया आदिवासी बाहुल झाबुआ जिले के थांदला स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय में भी संगीत शिक्षक रह चुके है। गत 14 वर्षों से न केवल शासकीय सेवा में ईमानदारी से अपना कर्तव्य निभाते हुए जवाहर नवोदय विद्यालय में शास्त्री संगीत का अलख जगा रहे अपितु अवकाश के दिनों में प्रदेश भर में विशेष कर प्रदेश के पिछड़ा व आदिवासी बाहुल जिलों के निजी तथा सरकारी स्कूलों में पहुंचकर शास्त्री संगीत का अलख जगा रहे है। 
           इसी कड़ी में डाक्टर दीनदयाल चौरसिया बीते दिनों जिला मुख्यालय स्थित शारदा विद्या मंदिर में पहुंचे जहां संस्थापक ओम शर्मा, किरण शर्मा सहित पूरे स्टाफ ने न केवल डाक्टर चौरसिया का स्वागत व सम्मान किया अपितु शास्त्री संगीत की शिक्षा बच्चों में देने हेतु अनोपचारिक कार्यक्रम आयोजित किया। उक्त कार्यक्रम में डाक्टर दीनदयाल चौरसिया ने तनपुरे के संगीत के साथ न केवल सरस्वती वंदना पेश की अपितु नन्हे विद्यार्थियों से लगाकर संस्था के स्टाफ को भी अवगत कराया कि शास्त्री संगीत का जो महत्व पौराणिक काल में था वह अब भी है पर हमारी कुछेक गलतियों की वजह से पाश्चात्य संगीत हम पर हावी होने लगा है। तय है हम जिस तरह एक बीज रोप कर पौधा पनपाते है और उस पौधे को जिस ओर झूकाना चाहते है उस ओर झुकता है। फर्क सिर्फ हमारी शुद्ध सोच और संस्कृति में है।
         डाक्टर चौरसिया द्वारा शारदा विद्या मंदिर में दिये गये नि:शुल्क शास्त्री संगीत प्रशिक्षण और बच्चों को दिये गये ज्ञान की बच्चों ने कर्तल ध्वनि से स्वागत किया तो संस्था ने भी कार्यक्रम के अंत में प्रदेशभर में पिछड़ों व आदिवासी बाहुल जिलों मे शास्त्री संगीत का अलख जगाए रखने वाले युवा तुर्क डाक्टर दीनदयाल चौरसिया का भावभीना सम्मान किया। इस अवसर पर संस्था संचालक ओम शर्मा ने कहा कि शास्त्री संगीत के क्षेत्र में जो कार्य डाक्टर चौरसिया कर रहे है वह न केवल सराहनीय है अपितु भौतिकता की चकाचौंध में विलुप्त होती संस्कृति बचाने का सार्थक प्रयास है। अभी तो सिर्फ एक संस्था में ही आयोजन हुआ। भविष्य में जिले की अन्य शासकीय अशासकीय संस्था में भी पहुंचकर डाक्टर चौरसिया शास्त्री संगीत का अलख जगाए ऐसा प्रयास हम सब मिलकर करेंगे।

साढ़े 3 घंटे में प्रस्तुत 15 प्रस्तुतियों ने समां बांध दिया 

शिविर के हिस्सा लेने प्रतिभोगियों एवं साज रंग के समस्त कलाकारों को किया गया पुरस्कृत

झाबुआ। साज रंग झाबुआ द्वारा आयोजित 24 दिवसीय रंग संस्कार शिविर का समापन ऐतिहासिक और गरिमामय समारोह के साथ हुआ। समापन अवसर पर शिविर में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों, पूर्व प्रतिभागियों एवं कलाकारों द्वारा प्रस्तुत अद्भुत एवं आकर्षक नृत्य, संगीत और नाटक ने अतिथियों सहित उनके अभिभावकों एवं दर्षकों को रामोंचित कर दिया। रात 8 से लेकर 11.30 बजे तक सत्त प्रस्तुत 15 प्रस्तुतियों को देखकर सभी ने समापन समारोह की मुक्त कंठ से प्रशंसा की। अंत में रंग संस्कार शिविर में हिस्सा लेने सभी प्रतियोगियों एवं साज रंग के समस्त कलाकारों को रोटरी क्लब झाबुआ की ओर से प्रषस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह प्रदान किए गए।
        साज रंग का रंग संस्कार शिविर 7 मई से प्रारंभ हुआ, जो अनवरत् 30 मई तक चला। बुधवार रात्रि समापन समारोह का आयोजन स्थानीय उत्कृष्ट विद्यालय मैदान परिसर में किया गया। जिसमें अतिथि के रूप में भाजपा जिलाध्यक्ष मनोहर सेठिया, भाजपा के प्रदेष कार्यकारिणी सदस्य शैलेष दुबे, वरिष्ठ भाजपा नेता प्रवीण सुराना, नगर मंडल अध्यक्ष दीपेश बबलू सकलेचा, नपा उपाध्यक्ष श्रीमती रोशनी डोडियार के साथ सकल व्यापारी अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर, रोटरी क्लब अध्यक्ष उमंग सक्सेना, संस्था के वरिष्ठ संरक्षक यषवंत भंडारी, मनीष व्यास, रोटरी क्लब आजाद से संजय कांठी, अजय रामावत उपस्थित थे। जिनके द्वारा मां सरस्वतीजी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर समारोह का शुभारंभ किया गया। स्वागत भाषण संस्था के शैलेन्द्रसिंह राठौर ने दिया एवं संस्था का प्रगति प्रतिवेदन वरिष्ठ रंगकर्मी भरत व्यास ने प्रस्तुत किया। साथ ही 24 दिवसीय रंग षिविर के बारे में जानकारी दी। अतिथियों का स्वागत संस्था से जुड़े मुकेश बुंदेला, यग्नेष मालवीय, विनय शुक्ला, कुलदीप त्रिवेदी, दर्षन कहार, विवेक धाकरे, अभिषेक तिवारी, अभिषेक निनामा, ख्याति मंडोड़, पिंकी व्यास आदि ने किया। इसके साथ ही उक्त कलाकारों की प्रस्तुत अभिनयों में भी सराहनीय भूमिका रहीं। 
एक के बाद एक 15 प्रस्तुतियों ने समां बांधा
पश्चात् एक के बाद एक 15 प्रस्तुतियों ने उत्कृष्ट विद्यालय परिसर का माहौल अलग-अलग कलाओं और रंगों से सराबोर कर दिया। शिविर में हिस्सा लेने वाले छोटे बच्चों से लेकर, साज रंग से जुड़े कलाकारों एवं पूर्व प्रतिभागियों ने मंच पर एकल, समूह में नृत्य की प्रस्तुतियां दी। आकर्षक लाईट एवं सुंदर साउंड की व्यवस्था तथा मंच का सुंदर दृष्य के बीच कलाकारों की प्रस्तुति की हर किसी ने मुक्त कंठ से सराहना की एवं षिविर समापन के इस अभिनव आयोजन की भूरी-भूरी प्रशंसा की। साथ ही बच्चों के साथ आए उनके अभिभावकों ने अपने बच्चों का काफी हौंसला अफजाई किया एवं उनकी प्रस्तुति देखकर वे अत्यंत प्रसन्नचित हुए बिना भी नहीं रहे।
          छोटे बच्चों ने परी डांस करने से लेकर घुमर-घुमर जैसा डांस बालिकाओं ने नृत्य प्रस्तुत कर दातो तले उंगलियां चबाने को मजबूर किर दिया। समारोह में नृत्य के साथ गीत-संगीत की भी कलाकारों ने प्रस्तुति दी एवं दर्षकों का भरपूर मनोरंजन किया। अंत में प्रस्तुत पंच परमेष्वर नाटक, जिसके निर्देषक भरत व्यास एवं संगीत निर्देषक अभिषेक दुबे सागर तथा सहायक निर्देषक दर्षन शुक्ला एवं रघुवीरसिंह चैहान थे, उक्त नाटक को काफी सराहना मिली। नाटक के माध्यम से पात्रों ने यह सीख दी कि चाहे  आपस  में हमारी कितनी भी घनिष्ठ मित्रता हो, लेकिन पंचायत में फैसले के दौरान हमे सहीं का ही साथ देना चाहिए, इसमें नन्हें बालक क्रिष रूनवाल की सराहनीय भूमिका की काफी प्रसंषा की गई।
प्रतीक चिन्ह भेंट किए गए
समारोह के बीच में पधारे सभी अतिथियों को संस्था की ओर से प्रतीक चिन्ह देकर सम्मान साज रंग के कार्यकारिणी अध्यक्ष कमलेश पटेल, शैलेन्द्रसिंह राठौर द्वारा किया गया। साथ ही समापन अवसर पर रोटरी क्लब झाबुआ के सौजन्य से सभी प्रतिभागियों एवं सभी कलाकारों को संस्था के संरक्षक श्री भंडारी, श्री व्यास,  अध्यक्ष धर्मेन्द्र मालवीय ‘बाबा’, रोटरी क्लब अध्यक्ष उमंग सक्सेना, सकल व्यापारी संघ अध्यक्ष नीरजसिंह राठौर द्वारा प्रतीक चिन्ह एवं प्रषस्ति पत्र प्रदान कर सभी का उत्सावर्धन किया गया। साथ ही उनके स्वलापाहार की भी व्यवस्था अमन इलेक्ट्रानिक्स के अतिशय देशलहरा की ओर से की गई। समारोह में विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों, पत्रकारों, गणमान्य नागरिकों के साथ बच्चों के अभिभावकों की बड़ी संख्या में सहभागिता रहीं। समारोह का सफल संचालन श्रीमती पूजा मुकेश कोठारी के साथ कु. चेलसी पटेल एवं अनंष जैन ने किया एवं अंत में सभी के प्रति आभार साज रंग संस्था के सचिव दर्षन शुक्ला ने माना।

अद्भुत एवं आकर्षक नृत्य, संगीत और नाटक के साथ साज रंग के रंग शिविर का हुआ समापन-Closing-ceremony-of-colorful-camps-with-wonderful-and-fascinating-dance-saaz-rang-jhabua

अद्भुत एवं आकर्षक नृत्य, संगीत और नाटक के साथ साज रंग के रंग शिविर का हुआ समापन-Closing-ceremony-of-colorful-camps-with-wonderful-and-fascinating-dance-saaz-rang-jhabua

अद्भुत एवं आकर्षक नृत्य, संगीत और नाटक के साथ साज रंग के रंग शिविर का हुआ समापन-Closing-ceremony-of-colorful-camps-with-wonderful-and-fascinating-dance-saaz-rang-jhabua

अद्भुत एवं आकर्षक नृत्य, संगीत और नाटक के साथ साज रंग के रंग शिविर का हुआ समापन-Closing-ceremony-of-colorful-camps-with-wonderful-and-fascinating-dance-saaz-rang-jhabua

झाबुआ । कैमरा क्लब आॅफ झाबुआ एवं जेसीएम फोटोग्राफिक सोसायटी (नई दिल्ली) के संयुक्त तत्वावधान मे अंतर्राष्ट्रीयफोटो प्रतियोगिता का दो दिवसीय आयोजन संपन्न हुआ। चयन समिति के सदस्य अंतरराष्ट्रीय ख्याती प्राप्त छायाकार चित्रांगद कुमार नई दिल्ली, अखिल हार्डिया एवं पदमाकर गाडे इंदोर थे। कैमरा क्लब आॅफ झाबुआ के सचिव हिमांशु भटट ने जानकारी देते हुए बताया की उक्त आयोजन 3 एवं 4 मई को क्लब कार्यालय पर रखा गया। प्रतियोगिता मे विश्व के 29 देशों के 329 छायाकारों ने अपनी प्रविष्टीयां इंटरनेट के माध्यम से भेजी थी। प्रतियोगिता मे कलर , श्वेत- श्याम, ट्रेवल, नेचर , जर्नलिज्म, वाईल्ड लाईफ जैसे विषय पर 6000 से अधिक छायाचित्र प्राप्त हुए थे। प्राप्त छायाचित्रों का चयन ज्यूरी सदस्यो द्वारा 3 एवं 4 मई को किया गया। चयन के बाद कुल 1000 से अधिक छायाचित्र प्रदर्शनी हेतु एवं 176 अवार्ड के लिए चयन किए गए है।   


         आयोजित प्रतियोगिता के परिणाम 15 मई तक घोषित किए जाएंगे। इसके पश्चात चयनित चित्रों का प्रदर्शन स्लाईड शो के माध्यम से किया जाएगा। जिसकी तिथी जल्द ही घोषित की जाएगी। क्लब के अध्यक्ष श्याम त्रिवदी ने बताया कि जिले के शोकिया एवं व्यावसायिक फोटोग्राफरो को संगठित करने व फोटोग्राफी के कलात्मक विकास को बढावा देने के उददेश्य से पिछले वर्ष सितंबर 2017 मे कैमरा क्लब आॅफ झाबुआ का गठन किया गया था। जिसकी मान्यता फोटोग्राफिक सोसायटी आॅफ अमेरिका (अमेरिका) से ली गई। क्लब का उददेश्य जिले की आदिवासी लोक संस्कृति को फोटोग्राफी के माध्यम से प्रदेश, देश एवं विश्व स्तर पर पहचान दिलाना है।
          आयोजित की गई प्रतियोगिता फोटोग्राफिक सोसायटी आॅफ अमेरिका (अमेरिका), आईसीएस (अमेरिका), आईयुपी (फ्रांस), डब्ल्युपीएआई (नई दिल्ली) से संबंद्व थी। दो दिनों तक चले इस आयोजन के दौरान जिले के कई फोटोग्राफरो ने अपनी सहभागिता देते हुए ज्यूरी सदस्यो से फोटोग्राफी संबंधी चर्चा कर जानकारी प्राप्त की एवं आधुनिक तकनीक की फोटोग्राफी को समझा। ज्यूरी के सदस्य कुमार, हार्डिया एवं गाडे द्वारा फोटोग्राफी की बारिकीयों से सभी को अवगत कराते हुए जिज्ञासा का समाधान किया गया। आयोजन के अंतिम दिन ख्यात लेखक डा रामशंकर चंचल, क्लब अध्यक्ष श्याम त्रिवेदी एवं मुनीन्द्र त्रिवेदी ने प्रतिक चिन्ह भेेंट कर ज्यूरी सदस्यों का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर जितेन्द्र वर्मा, गितांशु भट्ट,अनिमेश भट्ट, रितेश त्रिवेदी, मनीष त्रिवेदी सहित कई फोटोग्राफर उपस्थित थे।

जिले मे अंतरराष्ट्रीय फोटो प्रतियोगिता का आयोजन संपन्न , विश्व के 29 देशो के छायाकारों ने भेजी प्रविष्टीयां-Camera-Club-Jhabua-Organized-International-Photographic-Contest-Distributed-by-Films-of-29-Countries-of-the-World

संस्कृति विभाग के नृतक दल रहेगे आकर्षण का केन्द्र  

झाबुआ। झाबुआ जिले की शान भगौरिया उत्सव इस वर्ष 23 फरवरी से प्रारंभ होकर 1 मार्च तक चलेगा। होलिका दहन के एक सप्ताह पूर्व से प्रारंभ होने वाले इस उत्सव के दौरान जिले में बच्चे, बुढे, जवान सभी सज धजकर पूरे उत्साह के साथ शामिल होते है एवं झूले चकरी के साथ-साथ विशेष खान-पान का आनंद लेते है। झाबुआ जिले में पूरे सप्ताह इन तिथियों एवं स्थलो पर उत्सव का आयोजन रहेगा। 
  • स्थान       विकासखण्ड दिनांक वार
  • कालीदेवी    रामा 23/2/2018     शुक्रवार
  • भगोर मेघनगर -‘‘- -‘‘-
  • मांडली मेघनगर -‘‘- -‘‘-
  • वैकल्दा पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • मेघनगर मेघनगर 24/2/2018     शनिवार
  • बामनिया पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • रानापुर रानापुर -‘‘- -‘‘-
  • झकनावदा        पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • झाबुआ झाबुआ 25/2/2018     रविवार
  • काकनवानी थांदला -‘‘- -‘‘-
  • रायपुरिया पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • ढोल्यावाड रानापुर -‘‘- -‘‘-
  • कुन्दनपुर रानापुर 26/2/2018    सोमवार
  • रंभापुर मेघनगर -‘‘- -‘-
  • पेटलावद पेटलावद          -‘‘- -‘-
  • मोहनकोट          -‘‘-          -‘‘- -‘‘-
  • पिटोल झाबुआ 27/2/2018     मंगलवार
  • खरडू          -‘‘-          -‘‘- -‘‘-
  • अंधारवाड रानापुर -‘‘- -‘‘-
  • थांदला थांदला -‘‘- -‘‘-
  • तारखेडी पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • बरवेट -‘‘- -‘‘- -‘‘-
  • कल्याणपुरा झाबुआ 28/2/2018    बुधवार
  • ढेकल -‘‘- -‘‘- -‘‘-
  • उमरकोट पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • माछलिया झाबुआ -‘‘- -‘‘-
  • रजला रानापुर -‘‘- -‘‘-
  • मदरानी मेघनगर -‘‘- -‘‘-
  • करवड पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • बोडायता पेटलावद -‘‘- -‘‘-
  • पारा झाबुआ 01/03/2018    गुरूवार 
  • समोई रानापुर -‘‘- -‘‘-
  • हरिनगर थांदला -‘‘- -‘‘-
  • सारंगी पेटलावद -‘‘- -‘‘-
jhabua-bhagoria-festiwal-started-23-febuary-2018-23 फरवरी से 1 मार्च तक मनेगा भगौरिया उत्सव , भगोरिया मेले में पूरे सप्ताह रहेगा उत्साह भगौरिया पर्व के दौरान झाबुआ जिले में मध्यप्रदेश शासन के संस्कृति विभाग द्वारा जनजातीय नृत्यो पर एकाग्र ‘‘सम्पदा समारोह‘‘  का आयोजन भी इस वर्ष किया जाएगा। भगौरिया पर्व के दौरान पारंपरिक नृत्य दलो के 135 कलाकारो द्वारा प्रतिदिन हाट बाजारो में नृत्यो की प्रस्तुति दी जाएगी । तीन छोटे वाहन भी भगौरिया पर्व की दृष्टि से सुसज्जित किये जायेगे जिनमें एलईडी, ध्वनि एवं अन्य तकनीकी उपकरण रहेगे साथ ही भगौरिया से संबंधित फोटो एवं विडियों का प्रदर्शन भी किया जाएगा। जिले में भगौरिया उत्सव के दोैरान उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले नृत्य दल को प्रशासन द्वारा पुरस्कृत भी किया जायेगा। 

झाबुआ। मध्यप्रदेश स्थापना दिवस 1 नवम्बर के अवसर पर आज उत्कृष्ट विद्यालय झाबुआ के परिसर में आयोजित कार्यक्रम में आज कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री चैतन्य कश्यप उपाध्यक्ष राज्य योजना आयोग म.प्र. शासन ने ध्वजारोण कर मुख्यमंत्री जी के संदेश का वाचन किया। मुख्य अतिथि श्री कश्यप ने सभी को मध्यप्रदेश के विकास के लिए अपना योगदान देने के लिए संकल्प दिलाया। कश्यप ने मौजुद लोगों को प्रदेश सरकार की विभिन्न योजना की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन किया। साथ ही मौजुद लोगों को मध्यप्रदेश के सर्वागिण विकास में अपने योगदान के लिये संकल्प भी दिलवाया गया। मीडिया से बातचीत में कश्यप ने सीबीआई द्वारा व्यापम घोटाले में मुख्यमंत्री को क्लीनचीट दिये जाने की बात कहते हुए इसे कांग्रेस की मुख्यमंत्री को बदनाम करने की कांग्रेस की साजिश बताया। स्थापना दिवस के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों नाटक एवं योग अभ्यास का प्रदर्शन भी स्कूली बच्चो ने किया। कार्यक्रम में विधायक झाबुआ श्री शांतिलाल बिलवाल, कलेक्टर श्री आशीष सक्सेना, पुलिस अधीक्षक श्री महेशचंद जैन स्वच्छ भारत प्रदेश समन्वयक श्री कल्याणसिंह डामोर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती जमुना भिडे, एडीसनल एसपी श्रीमती रचना भदौरिया सहित जनप्रतिनिधि, शासकीय सेवक एवं नागरिकगण उपस्थित थे। 
 शासकीय स्कूल तलावली के बच्चों ने दिखाया योग 
 जिले के झाबुआ ब्लाक के शासकीय स्कूल तलावली के बच्चों जिनका चयन राष्ट्र स्तरीय योग प्रतियोगिता के लिए हुआ है, कार्यक्रम में योग का प्रदर्शन किया। विकलांग केन्द्र रंगपुरा के विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन श्री हरिश कुण्डल ने किया। विभिन्न शासकीय योजनाओं के हितग्राहियों को अतिथियों द्वारा हितलाभ का वितरण किया गया।
 कौन है जिम्मेदार नाटक का हुआ मंचन 
आनंद विभाग द्वारा संचालित गतिविधियों में स्वयं का मूल्यांकन कर अपनी गलती को दूर करने की गतिविधियों पर आधारित ‘‘कौन है, जिम्मेदार‘‘ नाटक का मंचन किया गया। जिसमें बताया गया कि हम कैसे अपनी छोटी-छोटी गलतियो की वजह से बडी-बडी दुर्घटनाओ का शिकार होते है। यदि हम थोडा सोचकर उन गलतियों को ना करे तो कई बडे नुकसान होने से बच सकते है। 
प्रदर्शनी का किया अवलोकन 
 कार्यक्रम स्थल पर जनसंपर्क विभाग द्वारा आयोजित शासन की विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं लाडली लक्ष्मी योजना, उज्जवला योजना, अन्नपूर्ण योजना, सुशासन, भावांतर योजना, कन्यादान योजना, जन धन योजना इत्यादि योजनाओ से संबंधित प्रदर्शनी का अवलोकन भी अतिथियों एवं कार्यक्रम में आये जनप्रतिनिधियों, आम नागरिकों ने किया। 
 दो नवम्बर को महिला सबंधि कार्यक्रमो का होगा आयोजन 
 स्थापना दिवस के तीन दिवसीय कार्यक्रम के दूसरे दिवस 2 नवम्बर को महिला संबंधी कार्यक्रम आयोजित किये जायेगे। कार्यक्रम का आयोजन उत्कृष्ट विद्यालय झाबुआ में प्रातः 11 बजे से दोपहर दो बजे तक किया जायेगा। दोपहर 12 बजे से 1 बजे तक नाटक, 1 बजे से 1.30 बजे तक नींबू रेस, रंगोली, मेहंदी, चेयर रेस, प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा। कार्यक्रम स्थल पर पोषण आहार संबंधी व्यंजन स्टाॅल भी लगाये जायेगे। कार्यक्रम में आने वाली महिलाओ, किशोरी बालिकाओ का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जायेगा।

प्रणय दिवस को लेकर श्री उपाध्याय के बेवाक विचार 
झाबुआ । पाश्चात्य संस्कृति में 14 फरवरी वेलेंटाईन दिवस का दुष्प्रभाव आज देश के युवा वर्ग पर सबसे अधिक दिखाई देता है । युवा वर्ग इस दिवस को अपने अलग ही अंदाज में मना कर अपनी पूरातन संस्कृति से विमुख हो रहे है  । नगर के साहित्यकार एवं समाजसेवा मे अग्रणी, कवि एवं हिन्दुधर्म के विद्वान पण्डित गणेश प्रसाद उपाध्याय ने  वेलेंटाईन दिवस को लेकर चर्चा में बताया कि हमारी संस्कृति में अपने पूर्वजों ने मकरसंक्रांति, होली, गुढीपाडवा, गणेशोत्सव तथा दीपावलीके समान विशेषतापूर्ण त्योहार किस प्रकार मनाए जाते हैं, यह सिखाया है। किंतु हम 1 जनवरी को नव वर्षारंभ, प्रेमिकाओं का दिन ‘वेलेंटाईन डे’ ‘मदर्स-डे’, ‘चॉकलेट डे’ इस प्रकारके अनेक विकृत ‘डे’ मनाते हैं । इन विभिन्न ‘डे’द्वारा वासना, कामांधता, विकृति, अश्लीलता एवं अनैतिकताका दर्शन होता है । ये सभी सुख क्षणिक हैं । इस प्रकारका अधर्माचरण करने से चरित्रका हनन होता है, भोगवाद विलासवाद  फैलता है, कामांधता बढती है तथा अनाचारोंकी मात्रा बढती है ।
Celebrating-Valentine-Day-is-the-biggest-corruption-in-Indian-culture-भारतीय संस्कृति में वेलेंटाईन डे मनाना सबसे बडा नैतिक पतन - पण्डित गणेश उपाध्याय पण्डित उपाध्याय के अनुसार युवक-युवतियां एकत्रित होकर 14 फरवरी को प्रेमिकाओं का दिन मनाते हैं । इस दिन वे एक-दूसरेको भेंटवस्तु तथा फूल अथवा ‘पार्टी’ देकर प्रेम व्यक्त करते हैं । वैलेंटाईन डे मनाना, पश्चिमी संस्कृति की अनैतिकता का अनुसरण व हिन्दू संस्कृति का अवमूल्यन है । आर्थिक लाभ हेतु प्रसारमाध्यम ,शुभकामना पत्र-निर्माता इसका प्रसार करते हैं । इससे हिन्दुओं के एक दिन के राष्ट्रांतरण एवं धर्मांतरण को प्रोत्साहन मिलता है । उनका कहना है कि यदि आपने प्रेमिकाओ का दिन 26 वें वर्ष र्में मनाया होगा, तो आपके बालक 16 वें वर्ष में ही वह मनाएंगे । यदि हममें अनैतिकता की मात्रा 40 प्रतिशत होती है, तो बालकों में वह 70 प्रतिशत होती हुई दिखाई देगी । ध्यान में रखें कि आपके बालक आपकी अपेक्षा सभी बातों में आगे बढ रहे हैं । यदि आप धर्माचरण कर रहे हैं, तो आपके बालक भी आपसे आगे बढकर धर्माचरण करेंगे । यदि आप अनैतिकताका आचरण करेंगे, तो भविष्यकी पीढी भी अनैतिक होगी ।
पण्डित गणेश उपाध्याय-pandit-ganesh-upadhyay
पण्डित गणेश उपाध्याय
श्री उपाध्याय का कहना है कि क्रांतिकारियो ने देश को स्वतंत्रता प्राप्त होने के लिए अत्यंत परिश्रम किए । क्रांतिकारी देश के लिए फांसी पर चढ गए, अपने घरों का त्याग किया, उस समय छोटे-छोटे बालक भी पथ पर उतरे । क्या उन्होंने यह त्याग इस हेतु ही किया था कि हम अनैतिकताका आचरण करें ? हमें यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि ब्रिटिशों ने जब देशमें अनैतिकता फैलाना प्रारंभ किया, उस समय हमारी संस्कृति पर होनेवाले तीव्र अन्याय का भान होकर लडाई करनेके लिए क्रांतिकारी उनके विरोध में रस्ते पर उतरे । कुछ क्रांतिकारियों के प्राणत्याग करने के पश्चात ही भारतको स्वतंत्रता प्राप्त हुई है । 
            भारतीय संस्कृति विश्व की एकमात्र महान संस्कृति होने के कारण उसकी रक्षा करने के लिए ही हमारे पूर्वजों ने त्योहार मनाना आरंभ किया तथा उसमें भी ब्रिटिशों द्वारा अडचनें उत्पन्न करने के कारण क्रांतिकारियो ने एकत्रित होकर आंदोलन किया । क्रांतिकारियों ने भारत देश स्वतंत्र करने के पीछे विशिष्ट उद्देश्य रखा था । हम हमारे देश में प्राचीन कालावधि से जो भी त्योहार-उत्सव मनाते आए हैं, वे उसी पद्धति से मनाए जाने चाहिए । त्योहार के दिन परिवार के सर्व सदस्य एकत्रित होने के पश्चात देश तथा धर्म के संदर्भ में बातचीत होती थी । उनमें से ही देश प्रेम जागृत होकर पारिवारिक संबंध स्थापित किए जाते थे । क्रांतिकारियों को इस बात का पता था कि हमारी संस्कृति विश्व की एकमात्र महान संस्कृति है । उसका रक्षण करने हेतु हमारे पूर्वज त्योहार मनाते थे, साथ ही धर्माचरण भी करते थे । ब्रिटिशों द्वारा उसमें अडचनें उत्पन्न करना आरंभ करते ही क्रांतिकारियों ने एकत्रित होकर  ब्रिटिशो के विरोध में आंदोलन किया ।
उन्होने आगे कहा कि ये प्रेमिकाओं का दिन हमारे मन एवं बुद्धि पर कौन सी संस्कृति अंकित करता है ? इससे आपके सामने कौन सा आदर्श स्थापित होता है ? इसका उत्तर आपके पास है, किंतु उसका उत्तर देने में आपको लज्जा आती है । प्रेमिकाओं का दिन अर्थात एक-दूसरे के अतिरिक्त अन्य कोई भी नहीं । वही सर्वस्व, उसके लिए ही जन्म, ऐसे मूढ भ्रम में रहने वाले प्रेमी उस दिन मिलते हैं । प्रेमिकाओं का दिन मनाना, अर्थात इसे मूर्खताकी परमावधि ही कहनी पडेगी । ईश्वरने क्यों हमारी सृष्टि की है ? भारतकी संस्कृति, क्रांतिकारियों का त्याग, साथ ही माता-पिता द्वारा किया गया पालन पोषण, इस सभीका विस्मरण कर हम प्रेमिका का दिन मनाते हैं । एक कहावत है, पागल कुत्ता उनके स्वामी को कभी भी नहीं काटता किंतु यहां मानव ही कुत्ते की अपेक्षा नीच हो गया है । 
14 फरवरी को हिंदु प्रेमी-प्रेमिका माता-पिता का विस्मरण कर उनके मनके विरूद्ध आचरण करते हैं । उस क्षणिक सुखके लिए आत्महत्या तक के लिए भी प्रवृत्त होते हैं । क्या प्रेमिका का दिन यही आदर्श सिखाता है ? इस प्रश्नका निर्लज्ज लोग यहां’ ऐसा ही उत्तर देते हैं । यदि आप वास्तव में हिंदुस्थान में जन्मे हैं अथवा आपके माता-पिता ने आपके बचपन में आप पर अच्छे संस्कार किए हैं तथा आपको चरित्रहीन होने से दूर रहना है, तो 14 फरवरी, यह दिन मनाना छोड दें तथा उसे मनाने वालों का प्रबोधन कर उन्हें इससे दूर करें, तो ही आपका जन्म सार्थक होगा । श्री उपाध्याय का कहना है हिन्दुओं की विवाह संस्कृति संयमी व नैतिक प्रेम जीवन सिखाती है । इसीलिए भविष्य में राष्ट्र-धर्मप्रेमियों द्वारा स्थापित होनेवाले धर्माधिष्ठित हिन्दू राष्ट्र में यह भोगवादी डे प्रथा नहीं रहेगी !

Trending

[random][carousel1 autoplay]

More From Web

आपकी राय / आपके विचार .....

निष्पक्ष, और निडर पत्रकारिता समाज के उत्थान के लिए बहुत जरुरी है , उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ समाचार पत्र भी निरंतर इस कर्त्तव्य पथ पर चलते हुए समाज को एक नई दिशा दिखायेगा , संपादक और पूरी टीम बधाई की पात्र है !- अंतर सिंह आर्य , पूर्व प्रभारी मंत्री Whatsapp Status Shel Silverstein Poems Facetime for PC Download

आशा न्यूज़ समाचार पत्र के शुरुवात पर हार्दिक बधाई , शुभकामनाये !!!!- निर्मला भूरिया , विधायक

जिले में समाचार पत्रो की भरमार है , सच को जनता के सामने लाना और समाज के विकास में योगदान समाचार पत्रो का प्रथम ध्येय होना चाहिए ... उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ सच की कसौटी और समाज के उत्थान में एक अहम कड़ी बनकर उभरेगा - कांतिलाल भूरिया , सांसद

आशा न्यूज़ से में फेसबुक के माध्यम से लम्बे समय से जुड़ा हुआ हूँ , प्रकाशित खबरे निश्चित ही सच की कसौटी ओर आमजन के विकास के बीच एक अहम कड़ी है , आशा न्यूज़ की पूरी टीम बधाई की पात्र है .- शांतिलाल बिलवाल , विधायक झाबुआ

आशा न्यूज़ चैनल की शुरुवात पर बधाई , कुछ समय पूर्व प्रकाशित एक अंक पड़ा था तीखे तेवर , निडर पत्रकारिता इस न्यूज़ चैनल की प्रथम प्राथमिकता है जो प्रकाशित उस अंक में मुझे प्रतीत हुआ , नई शुरुवात के लिए बधाई और शुभकामनाये.- कलावती भूरिया , जिला पंचायत अध्यक्ष

मुझे झाबुआ आये कुछ ही समय हुआ है , अभी पिछले सप्ताह ही एक शासकीय स्कूल में भारी अनियमितता की जानकारी मुझे आशा न्यूज़ द्वारा मिली थी तब सम्बंधित अधिकारी को निर्देशित कर पुरे मामले को संज्ञान में लेने का निर्देश दिया गया था समाचार पत्रो का कर्त्तव्य आशा न्यूज़ द्वारा भली भाति निर्वहन किया जा रहा है निश्चित है की भविष्य में यह आशा न्यूज़ जिले के लिए अहम कड़ी बनकर उभरेगा !!- डॉ अरुणा गुप्ता , पूर्व कलेक्टर झाबुआ

Congratulations on the beginning of Asha Newspaper .... Sharp frown, fearless Journalism first Priority of the Newspaper . The Entire Team Deserves Congratulations... & heartly Best Wishes- कृष्णा वेणी देसावतु , पूर्व एसपी झाबुआ

आशा न्यूज़ का ताजा प्रकाशित अंक मैंने दो तीन पहले ही पड़ा था आशा न्यूज़ पर प्रकाशित खबरों की सामग्री अद्भुत है , समाज के हर एक पहलु धर्म , अपराध , राजनीती जैसी हर श्रेणी की खबरों को इस समाचार पत्र में बखूबी प्रस्तुत किया गया है जो पाठको और समाज के हर वर्ग के लोगो के लिए नितांत आवश्यक है , समाचार पत्र की नयी शुरुवात लिए बधाई !!- रचना भदौरिया , एडिशनल एसपी झाबुआ

महज़ ३ वर्ष के अल्प समय में आशा न्यूज़ समूचे प्रदेश का उभरता और अग्रणी समाचार पत्र के रूप में आम जन के सामने है , मुद्दा चाहे सामाजिक ,राजनैतिक , प्रशासनिक कुछ भी हो, हर एक खबर का पूरा कवरेज और सच को सामने लाने की अतुल्य क्षमता निश्चित ही आगामी दिनों में इस आशा न्यूज़ के लिए एक वरदान साबित होगी, संपादक और पूरी टीम को हृदय से आभार और शुभकामनाएँ !!- संजीव दुबे , निदेशक एसडी एकेडमी झाबुआ

Contact Form

Name

Email *

Message *

E-PAPER
Layout
Boxed Full
Boxed Background Image
Main Color
#007ABE
Powered by Blogger.