महिलाओ को अधिकारो के प्रति सजग रहने की आवश्यकता

झाबुआ। वर्तमान में शासन-प्रशासन, समाज तथा आम जनमानस में महिलाओ के प्रति सम्मान बढा है। वहीं कई अधिनियमों तथा योजनाओं के माध्यम से महिलाओं को आगे बढाने तथा प्रोत्साहित करने के कार्य निरंतर किए जा रहे है। उक्त विचार व्यक्त करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रचना भदौरिया ने कहां कि जापान में हिरोशिमा तथा नागासाकी पर परमाणु हमले के बाद अंतराष्ट्रीय स्तर पर मानव के अधिकारो के संबंध में विस्तृत चर्चा हुई। 1948 में संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा मानव अधिकार आयोग का गठन करने का निर्णय लिया। पुलिस विभाग में मानव अधिकारो के संबंध में कई प्रशिक्षण दिए जा रहे है। हमारा प्रमुख लक्ष्य है कि किसी भी स्थिति में किसी भी मानव एवं विश्शेष कर महिलाओ के अधिकारो का हनन नहीं होना चाहिए। अवसर पर आंगनवाडी कार्यकत्र्ता, सहित जन अभियान परिषद के प्रशिक्षणार्थी उपस्थित थें। संचालन प्रकाश ने किया। आभार दयाराम मुवेल ने माना। 
महिला सशक्तिकरण विभाग द्वारा विगत 10 दिसम्बर को जन अभियान परिषद के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में महिलाओं के अधिकार, पर चर्चा की गई महिला सखी अर्चना राठौर ने बताया कि वर्तैमान में महिला आयोग की प्रदेश अध्यक्ष लता वानखडे के नेतृत्व में महिला आयोग पूरे प्रदेश में सक्रियता से कार्य कर रहा है। प्रत्येक जिले में आयोग द्वारा महिला सखी की नियुक्ति की गई है, जो महिलाओ के अधिकारो  की लडाई के साथ विभिन्न गतिविधियों को संचालित करती है, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी आरएस बघेल तथा महिला एवं बाल कल्याण अधिकारी चैहान ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रो तक महिलाओं के अधिकारो, हित सरंक्षण तथा उन्हें सहयोग देने के लिए प्रत्येक पंचायत स्तर पर महिला शक्ति समिति तथा शौर्य दल का गठन किया गया है। इसमें महिला जन प्रतिनिधि सहित ग्राम की अग्रणी महिलाओं तथा सामाजिक सेवाओं से जुडे पुरूषो को सदस्य बनाया गया है। 
 समाजसेवी यशवंत भण्डारी एवं एमएल फुलपगारे ने कहा कि महिलाए अपने कर्तव्य के प्रति सजग तथा समर्पित नहीं होगी, तब तक उनके पास अधिकार नहीं आएंगे। अपने अधिकारो को जाने और उनको पाने के लिए संघर्ष जारी रखे। जो व्यक्ति अपने कार्य ईमानदारी से पूरे करता है, उसकी ईश्वर भी मदद करता है। उसके आत्मबल से उसे कोई भी अधिकार मांगने की आवश्यकता नहीं होती है, स्वतः ही उसे प्राप्त हो जाती है।

महिला स्वयं सहायता समूहो का सम्मेलन 16 दिसम्बर को भोपाल में होगा, उप राष्टापति श्री वैकेया नायडू होगे मुख्य अतिथि 

झाबुआ। महिला स्वय सहायता समूहो का वृहद सम्मेलन भोपाल में आगामी 16 दिसम्बर को आयोजित होगा। इस सम्मेलन में उप  राष्ट्रपति श्री वैंकेया नायडू मुख्य अतिथि होगे। 
सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य महिला स्वयं सहायता समूहो को सशक्त करना है। महिला स्वयं सहायता समूहो के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में महिला नेतृत्व उभरा है। इन समूहो के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रो में रोजगार सृजन बढाये है। इन समूहो को पोषण आहार निर्माण तथा स्कूल गणवेश निर्माण के कार्य दिये जा सकते है। इस तरह के सम्मेलन संभाग स्तर पर भी आयोजित किये जाये।

  • महिला आयोग के माध्यम से जिले में चल रही कई गतिविधियां-Many-activities-going-on-in-the-district-through-the-Women-Commission