गाय एवं बछडों की पूजा कर कथा का श्रवण किया 

झाबुआ । नगर में मंगलवार को वत्स बारस का पर्व विभिन्न समाजों की महिलाओं द्वारा सामुहिक रूप से पैलेस गार्डन में प्रातः 11 बजे से मनाया गया । इस अवसर पर स्वर्णकार समाज, माहेश्वरी समाज, अरोडा समाज, राजपुत समाज, चौरसिया समाज, गुप्ता परिवार की करीब 27 महिलाओं द्वारा वत्स बारस का सामुहिक उद्यापन का कार्यक्रम आयोजित किया । इस अवसर पर  करीब 350 महिलाये वत्स बारस के उद्यापन समारोह में शामील हुई । ज्ञातव्य है कि वत्स बारस का पर्व सुख समृद्धि दायक माना जाता है तथा इस दिन घरों में गेहुं एवं मुग की दाल का उपयोग पूरी तरह भोजन में वर्जित रहता है। तथा चाकु से काटी गई सब्जियों का उपयोग नही किया जाता है। गोवंश के सरंक्षण एवं उनके महत्व को प्रतिपादित करने वाले इस पर्व में गौ माता एवं उसके बछडे की नगर में जगह जगह विधि विधान से पूजा अर्चना की गई तथा उन्हे वस्त्रादि भेद करके स्वादिष्ट अन्न गुड आदि खिलाया गया । स्वर्णकार महिला मंडल की श्रीमती कुंता सोनी ने जानकारी देते हुए बताया कि समाज की आधा दर्जन महिलाओं श्रीमती शिवकुमारी सोनी, महिमा बुंदीवाल, निधि सोनी, बुलकुल सोनी, चेतना सोनी, माधुरी सोनी तथा माहेश्वरी समाज की अंजु सोनी, राजकुमारी सोनी, स्वीटी सोनी, राजकुमारी माहेश्वरी आदि ने भी सामुहिक वत्स बारस के उद्यापन का अनुष्ठान किया ।  
पैलेस गार्डन में नगर के 7 समाजों की 27 से अधिक महिलाओं द्वारा 13-13 के मान से 350 से अधिक सुहागिन महिलाओं को कुमकुम की टीकी लगा कर तथा उनके आशीर्वाद प्राप्त करके उन्हे सुहाग सामग्री तथा उपहार प्रदान किये । नगर में पहली बार वत्स बारस के उद्यापन का सामुहिक आयोजन नगर के सभी समाजों द्वारा मिल कर किये जाने से नई परंपरा का सूत्रपात हुआ है तथा इससे प्रभावित होकर महिलाओं ने सामुहिक रूप से आगामी दिनों में भी ऋषि पंचमी, अनन्त चतुर्दशी आदि जेैसे महिला प्रधान पर्वो का सामुहिक रूप से मनाये जाने की परंपरा को चालू करने की प्रेरणा मिली है तथा वत्स बारस के पर्व के सामुहिक रूप  से मनाये जाने पर नगर में महिलाओं ने इसकी प्रसंशा की है । वत्स पूर्णिमा के पावन वर्ष पर नगर में  वत्स बारस पर गौवंश की पूजा अर्चना के बाद  महिलाओ  ने कथा का श्रवण भी किया । 
Jhabua News- नगर के विभिन्न समाजों की महिलाओं ने सामुहिक वत्स द्वादशी का पर्व उद्यापन किया

Jhabua News- नगर के विभिन्न समाजों की महिलाओं ने सामुहिक वत्स द्वादशी का पर्व उद्यापन किया