देश के प्रसिद्ध ज्योतिषियों ने हस्तरेखा, जन्म कुंडली, पत्रिका और कर्म कांड के आधार पर किया लोगों की समस्याओं का समाधानझाबुआ सहित रानापुर, मेघनगर और आलीराजपुर, जोबट के भी 375 लोगों ने निःशुल्क ज्योतिष परामर्श शिविर का लिया लाभ

झाबुआ। ज्योतिष शिक्षण जन कल्याण समिति रतलाम के सहयोग से आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट झाबुआ द्वारा शहर में पहली बार 16 दिसंबर, रविवार को स्थानीय सिद्धेष्वर कॉलोनी स्थित आदर्श विद्या मंदिर में निःशुल्क ज्योतिष परामर्ष शिविर का आयोजन किया गया, जो काफी सफल रहा। शिविर में झाबुआ ही नहीं अपितु आसपास के क्षेत्रों रानापुर, मेघनगर यहां तक की आलीराजपुर और जोबट से भी लोग पहुंचे और उन्होंने देष के ख्यातनाम ज्योतिषियों को गृह जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार संबंधी, नौकरी संबंधी, बच्चों की पढ़ाई  सहित दैनिक जीवन की अन्य कई तरह की समस्याओं और दिक्कतों को बताकर समाधान पाएं। ज्योतिषियों द्वारा सुखमय एवं आनंदमय जीवनयापन हेतु शिविरार्थियों को आवष्यक उपाय, सलाह और परामर्श भी प्रदान किया गया। शिविर सुबह 10 से शाम 4 बजे तक चला। इस दौरान 375 लोगों ने इसका लाभ लिया।  
     निर्धारित कार्यक्रम के तहत शिविर स्थल पर रविवार को सुबह 9.30 बजे सभी ज्योतिषियों का आगमन हुआ। उनका मातृ शक्ति में ट्रस्ट की आजीवन अध्यक्ष श्रीमती वंदना व्यास, सीमा चौहान, सुशीला भट्ट, कुंता सोनी, राजकुमारी देषलहरा, लीना नागर, मंजुला देराश्री, पवित्रा भावसार, श्रीमती शर्मा आदि द्वारा अक्षत-कुमकुम से तिलक लगाकर स्वागत किया गया। बाद पधारे सभी अतिथि ज्योतिषाचार्यों के साथ ट्रस्ट के मेनेजिंग ट्रस्टी यशवंत भंडारी, संस्थापक अध्यक्ष राजेश नागर, वरिष्ठ सदस्य अशोक शर्मा, डॉ. पीठके पाठक, शिविर के सूत्रधार एवं आसरा ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष पं. द्विजेन्द्र व्यास, परामर्षदाता सुधीरसिंह कुशवाह, सेवा प्रकल्प अध्यक्ष रविराजसिंह राठौर आदि द्वारा मां सरस्वतीजी के चित्र पर पूजन, माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर शिविर का शुभारंभ किया गया। बाद शिविर आरंभ हुआ।
10 कक्षों में किया गया लोगों की समस्याओं का समाधान
शिविर स्थल आदर्ष विद्या मंदिर में ज्योतिषो के बैठने के लिए अलग-अलग कक्षों में व्यवस्था की गई। जिसमें विशेष सहयोग स्कूल के संचालक सुरेशचन्द्र जैन एवं स्टॉफ का रहा। कुल 10 कक्षा में प्रसिद्ध ज्योतिषी श्री बजरंग गिरीजी रतलाम जन्म कुंडली, श्री योगेशजी आसरा अहमदबाद (गुजरात) जन्म पत्रिका, श्रीमती संगीतादेवी भट्ट पिपलौदा, डॉ. विनीता नागर उज्जैन हस्तरेखा जन्म पत्रिका, श्री पुष्पेन्द्र आचार्य जन्म पत्रिका वास्तु, श्री जीवन पाठक जन्म पत्रिका कर्म कांड विशेषज्ञ, पं. जितेन्द्र नागर सैलाना जन्म पत्रिका, पं. वैद्य़ धर्मेन्द्र व्यास अंक ज्योतिष, जन्म पत्रिका एवं श्री रमेश पंड्या राजौद, वस्तु विशेषज्ञ पंचागकर्ता ने कक्षों में उनके पास आने वाले शिविरार्थियों की समस्याएं एवं परेशानी जानकर उनका समाधान किया।  
आवष्यक उपाय बताने के साथ दिया विशेष परामर्श 
शिविर में लोगों को कक्षों में प्रवेश उनके पूर्व में किए गए पंजीयन के आधार पर दिया गया। शिविरार्थियों ने अलग-अलग ज्योतिषियों को अपनी दैनिक जीवन की समस्याओं, गृह जीवन में कलेश, परिवार में सुख-शांति की कमी, वैवाहिक जीवन में तरह-तरह की कठिनाईयां, बच्चों का पढ़ाई में मन नहीं लगना, गृह-नक्षत्र दोष आदि की जानकारी देने के बाद ज्योतिषाचार्यों से उनके सफल समाधान एवं इस हेतु आवष्यक उपाय बताएं। साथ ही लोगों को आवष्यक परामर्ष भी प्रदान किया।
375 लोगों ने लिया लाभ
यह शिविर सुबह 10 से शाम 4 बजे तक चला। जिसमें झाबुआ के अलावा रानापुर, मेघनगर यहां तक की जोबट और आलीराजपुर से भी लोग ज्योतिष शिविर आयोजन के बारे में जानकारी मिलने पर आवष्यक परामर्श एवं सलाह लेने शिविर स्थल पर पहुंचे। शिविर में पंजीयन का कार्य ट्रस्ट की मातृ शक्ति ने किया एवं कक्षों में प्रवेश पर अपनी सराहनीय सेवाएं ट्रस्ट की ओर सेवा प्रकल्प सचिव सुनिल चौहान, सत्यम् भट्ट, सुधीर रूनवाल, दौलत गोलानी, अतिशय देशलहरा, घनष्याम भाटी, पं, द्विजेन्द्र व्यास, पं. जैमिनी शुक्ल आदि द्वारा दी गई। 
सभी ज्योतिषाचार्यों का किया गया सम्मान
शिविर के बीच में दोपहर 2 बजे सभी ज्योतिषाचार्यों के सम्मान समारोह का आयोजन रखा गया। जिसका संचालन ट्रस्ट के वरिष्ठ सदस्य विरेन्द्रसिंह ठाकुर ने किया। इस अवसर पर सभी ज्योतिषाचार्यों का सम्मान ट्रस्ट के मेनेजिंग ट्रस्टी यशवंत भंडारी, संस्थापक अध्यक्ष राजेश नागर की उपस्थिति में ट्रस्ट के सभी पदाधिकारी-सदस्यों के साथ महिलाओं द्वारा करते हुए उन्हें शाल-ओढ़कार श्रीफल प्रदान किए गए। साथ ही स्मृति चिन्ह एवं ट्रस्ट की ओर से सहयोग राशि भी भेंट की गई। इस अवसर पर उक्त आयोजन के सूत्रधार मप्र ज्योतिष संघ के जिलाध्यक्ष ज्योतिषाचार्य पं. द्विजेन्द्र व्यास एवं आदर्ष विद्या मंदिर के संचालक सुरेशचन्द्र जैन का भी विशेष सम्मान हुआ। शिविर के अंत में पधारे सभी ज्योतिषाचार्यों के प्रति आभार आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेश नागर एवं सेवा प्रकल्प सचिव सुनिल चौहान ने माना।