बैठक में 15 मार्च से 20 मार्च के बीच गणगौर पर्व आयोजन रखने पर सहमति व्यक्त की गई। इस अवसर पर संकल्प ग्रुप की भारती सोनी ने शिव-पार्वतीजी का गणगौर उत्सव में महत्वता पर प्रकाश डाला। नानालाल कोठारी ने बताया कि यह परंपरा झाबुआ में रजवाड़ों के समय से चली आ रहीं है। कुंता सोनी ने सुझाव दिया कि सभी बच्चों को शिव-पार्वतीजी बनाकर रथ में बैठाकर भ्रमण करवाया जाना चाहिए। सुश्री रूक्मणी वर्मा ने भजन प्रतियोगिता रखने की बात कहीं।  
          कृष्णा सोनी ने कहा कि गणगौर के झालावाट प्रथम दिन दिए जाए एवं साथ ही कन्याओं के कार्यकम भी रखे जाए। रेखा शर्मा ने कहा कि कोई भी महिला गणगौर का उद्यापन नहीं करवा पाएगी, तो उसे ब्राहा्रण समाज करवाएगा। श्रीमती देराश्री ने बेटी बचाओ का संदेष देने की बात कहीं। भूमिका माहेष्वरी ने बेटियो के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने की मांग करते हुए गणगौर में यह संदेष बनाने की बात कहीं। किरण माहेष्वरी ने सुझाव दिया कि सभी को एक समान पुरस्कार दिया जाना चाहिए। चंचला सोनी ने समाज की एकजुटता के लिए गुरूकुल की स्थापना करने का सुझाव दिया। श्रीमती गुप्ता ने कहा कि फूल-पाती का आयोजन भी होना चाहिए। 
विभिन्न विषयों पर हुई चर्चा
इस अवसर पर समाजसेवी अशोक शर्मा ने कहा कि समाज मे सभी महिलाएं अधिक से अधिक प्रचार कर इस कार्यक्रम में सभी को जोड़े। इस अवसर पर अतिथि के रूप में पवित्रा भावसार देवकन्या सोनगरा, जयंतीलाल राठौर, श्यामल अरोड़ा, चेतना चैहान विभिन्न समाजों के प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित थी। कार्यक्रम का संचालन गणगौर उत्सव समिति के संयोजक नीरजसिंह राठौर ने किया एवं आभार सहयोगी रविराजसिंह राठौर ने माना। बैठक में  विभिन्न संदेष को लेकर चर्चाएं की गई। जिसमें बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बेटी,बढ़ाओं, पाॅलिथीन मुक्ति, स्वच्छ झाबुआ-सुंदर झाबुआ, पानी बचाओ, वृक्ष लगाओ, नशामुक्ति जैसे अनेक विषयों पर चर्चा की गई।
15 मार्च से शुरू होंगे आयोजन
समिति के अजय रामावत ने बताया कि 15 मार्च से गणगौर में आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की शुरूआत हो जाएगी। प्रतिदिन 7 से 10 बजे के बीच कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। महिलाओं के अलावा बालिकाओं को समूह में प्रवेश दिया जाएगा। 15 मार्च को भजन प्रतियोगिता, 16 मार्च को डाषबाल एवं चेयर रेस प्रतियोगिता, 17 मार्च को सांस्कृतिक कार्यक्रम, 18 मार्च को नींबू रेस, दोहे एवं कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन होगा। शोभायात्रा 20 मार्च को शाम 5 बजे  राजवाड़ा परिसर से निकाली जाएगी। जिसमें बैंड, ढोल एवं रथ शामिल रहेगा। शोभायात्रा शहर के राधाकृष्ण मार्ग, जैन मंदिर, तेलीवाड़ा मौहल्ला, थांदला गेेट, बाबेल चैराहा, आजाद चैक, मनोकामना चौराहा एवं राजवा़ड़ा होती हुई पैलेस गार्डन पर पहुंकचर संपन्न होगी। जहां पुरस्कार वितरण समारोह एवं अल्पाहार फूलहारी का आयोजन होगा।