Articles by "ऋषभदेव बावन जिनालय"

1 26 january 1 abvp 45 Administrative 1 b4 cinema 1 balaji dhaam 1 bhagoria 1 bhagoria festival jhabua 2 bjp 1 cinema hall jhabua 27 city 16 crime 19 cultural 35 education 2 election 15 events 12 Exclusive 1 Famous Place 6 gopal mandir jhabua 17 Health and Medical 78 jhabua 4 jhabua crime 1 Jhabua History 1 matangi 3 Movie Review 5 MPPSC 1 National Body Building Championship India 4 photo gallery 18 politics 2 ram sharnam jhabua 48 religious 5 religious place 2 Road Accident 3 sd academy 65 social 13 sports 1 tourist place 13 Video 1 Visiting Place 11 Women Jhabua 2 अखिल भारतीय किन्नर सम्मेलन 1 अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद 1 अंगूरी बनी अंगारा 1 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 15 अपराध 1 अल्प विराम कार्यक्रम 6 अवैध शराब 1 आदित्य पंचोली 1 आदिवासी गुड़िया 1 आरटीओं 1 आलेख 1 आवंला नवमी 3 आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट 1 ईद 1 उत्कृष्ट सड़क 20 ऋषभदेव बावन जिनालय 3 एकात्म यात्रा 2 एमपी पीएससी 1 कलाल समाज 1 कलावती भूरिया 3 कलेक्टर 14 कांग्रेस 6 कांतिलाल भूरिया 1 कार्तिक पूर्णिमा 2 किन्नर सम्मेलन 2 कृषि 1 कृषि महोत्सव 3 कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ 1 केरोसीन 2 क्रिकेट टूर्नामेंट 4 खबरे अब तक 1 खेडापति हनुमान मंदिर 15 खेल 1 गडवाड़ा 1 गणगौर पर्व 1 गर्मी 1 गल पर्व 8 गायत्री शक्तिपीठ 2 गुड़िया कला झाबुआ 1 गोपाल पुरस्कार 4 गोपाल मंदिर झाबुआ 1 गोपाष्टमी 1 गोपेश्वर महादेव 14 घटनाए 1 चक्काजाम 3 जनसुनवाई 1 जय आदिवासी युवा संगठन 5 जय बजरंग व्यायाम शाला 1 जयस 6 जिला चिकित्सालय 3 जिला जेल 3 जिला विकलांग केन्द्र झाबुआ 1 जीवन ज्योति हॉस्पिटल 9 जैन मुनि 6 जैन सोश्यल गुुप 2 झकनावदा 80 झाबुआ 1 झाबुआ इतिहास 1 झाबुआ का राजा 3 झाबुआ पर्व 9 झाबुआ पुलिस 1 झूलेलाल जयंती 1 तुलसी विवाह 6 थांदला 3 दशहरा 1 दस्तक अभियान 1 दिल से कार्यक्रम 3 दीनदयाल उपाध्याय पुण्यतिथि 1 दीपावली 2 देवझिरी 38 धार्मिक 5 धार्मिक स्थल 7 नगरपालिका परिषद झाबुआ 5 नवरात्री 4 नवरात्री चल समारोह 4 नि:शुल्क स्वास्थ्य मेगा शिविर 1 निर्वाचन आयोग 4 परिवहन विभाग 1 पर्यटन स्थल 3 पल्स पोलियो अभियान 7 पारा 1 पावर लिफ्टिंग 14 पेटलावद 1 प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय 3 प्रतियोगी परीक्षा 1 प्रधानमंत्री आवास योजना 30 प्रशासनिक 1 बजरंग दल 2 बाल कल्याण समिति 1 बेटी बचाओं अभियान 2 बोहरा समाज 1 ब्लू व्हेल गेम 1 भगोरिया पर्व 1 भगोरिया मेला 3 भगौरिया पर्व 1 भजन संध्या 1 भर्ती 2 भागवत कथा 28 भाजपा 1 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान 1 भारतीय जैन संगठना 3 भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा 1 भावांतर योजना 2 मध्यप्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग 1 मल्टीप्लेक्स सिनेमा 2 महाशिवरात्रि 1 महिला आयोग 1 महिला एवं बाल विकास विभाग 1 मिशन इन्द्रधनुष 1 मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना 2 मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान 8 मुस्लिम समाज 1 मुहर्रम 3 मूवी रिव्यु 6 मेघनगर 1 मेरे दीनदयाल सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता 2 मोड़ ब्राह्मण समाज 1 मोदी मोहल्ला 1 मोहनखेड़ा 2 यातायात 1 रंगपुरा 2 राजगढ़ 12 राजनेतिक 8 राजवाडा चौक 11 राणापुर 5 रामशंकर चंचल 1 रामा 1 रायपुरिया 1 राष्ट्रीय एकता दिवस 2 राष्ट्रीय बॉडी बिल्डिंग चैम्पियनशीप 4 राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना 1 राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण 1 रोग निदान 2 रोजगार मेला 15 रोटरी क्लब 2 लक्ष्मीनगर विकास समिति 1 लाडली शिक्षा पर्व 2 वनवासी कल्याण परिषद 1 वरदान नर्सिंग होम 1 वाटसएप 1 विधायक 4 विधायक शांतिलाल बिलवाल 1 विश्व उपभोक्ता संरक्षण दिवस 2 विश्व विकलांग दिवस 2 विश्व हिन्दू परिषद 1 वेलेंटाईन डे 3 व्यापारी प्रीमियर लीग 1 शरद पूर्णिमा 5 शासकीय महाविद्यालय झाबुआ 32 शिक्षा 1 श्रद्धांजलि सभा 3 श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर 9 सकल व्यापारी संघ 2 सत्यसाई सेवा समिति 1 संपादकीय 2 सर्वब्राह्मण समाज 4 साज रंग झाबुआ 33 सामाजिक 1 सारंगी 11 सांस्कृतिक 1 सिंधी समाज 1 सीपीसीटी परीक्षा 3 स्थापना दिवस 3 स्वच्छ भारत मिशन 4 हज 3 हजरत दीदार शाह वली 5 हाथीपावा 1 हिन्दू नववर्ष 5 होली झाबुआ
Showing posts with label ऋषभदेव बावन जिनालय. Show all posts

भीषण गर्मी से मुक प्राणी के लिये कूलर लगाये जायेगे

झाबुआ। परम पूज्य गच्छाघिपति ज्योतिष सम्राट जीव प्रेमी श्रीमद विजय श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी म. सा. का 62 वा जन्म दिन ऋषभ भक्तों ने सद-गुरू गौ शाला पर मनाया। इस अवसर पर विटामीन मुक्त मिक्स दाल चूर्ण के साथ केल्षियम की विषेष खुराक गायों को दी गई। अंपग और बुढ़ी गायो के लिये विशेष परामर्श विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा लिया गया। भीषण गर्मी को देखते हुऐ भक्तों द्वारा जम्बो कूलर लगाने का निर्णय लिया जो की अति शीघ्र लगाये जायेगे। चन्दकान्ता नगीनलाल संजय काठी परिवार एवं श्रीमती श्यामुबाई रतनलाल मुकेश रूनवाल परिवार द्वारा 30 जुन तक मुक प्राणी के लिये स्पेशल आहार खिलाने का निर्णय लिया है।   
        इस अवसर पर वरिष्ठ समाज सेवी राजेन्द्र लालन, विरेन्द्र सकलेचा, नरेन्द्र पगारिया, मुकेश रूनवाल, संजय कुमार कांठी, रौनक घोड़ावात, श्रीमती समता कांठी, श्रीमती निर्मला पगारिया, श्रीमती सरोज सकलेचा, श्रीमती संघवी एवं वरिष्ठ समाजसेवीयो उपस्थित थे। उपस्थित समाज सेवियों ने समय-समय पर गौशाला पर अपनी सेवाये देने की शपथ भी ली। 

प. पू. आचार्य देवेश श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी म. सा. की जन्म जयन्ति गौशाला पर मनाई

गिरनार (गुजरात) की पहाड़ियों से लापता दिगंबर जैन संत मुदित सागरजी की तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांगदिगंबर जैन समाज झाबुआ ने महामहिम राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर प्रबल सिपाहा को सौंपा ज्ञापन

झाबुआ। बीती 23 जनवरी को परम् पूज्य आचार्य श्री 108 सुनिल सागरजी महाराज के संघस्थ मुनि श्री मुदित सागरजी महाराज प्रातः गिरनारजी की वंदना करने हेतु गए थे, जो पुनः नहीं लौटे, उनकी तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांग को लेकर देश में जगह-जगह दिगंबर जैन समाज द्वारा ज्ञापन सौंपे जाने के क्रम में ही झाबुआ में भी समाजजनों द्वारा मिलकर 30 जनवरी, बुधवार को दोपहर करीब 12.30 बजे कलेक्टोरेट पहुंचकर महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन कलेक्टर प्रबल सिपाहा को सौंपा गया। 
       सौंपे गए ज्ञापन में समाजजनों ने बताया कि परम् पूज्य आचार्य श्री 108 सुनिल सागरजी महाराज के संघस्थ मुनि श्री मुदित सागरजी महाराज गत 23 जनवरी को प्रातः गिरनारजी (गुजरात) की वंदना करने हेतु गए हुए थे, जहां से मुनिश्री वापस नहीं लौटे। जिससे पूरे देश में साधु-संत एवं जैन समाज व्यथित एवं व्याकुल है। ज्ञापन में बताया कि जैन समाज अल्पसंख्यक समाज है एवं समाज के धर्म गुरू, जो अहिंसा तथा विष्व शांति का संदेश देते है, ऐसे मुनि श्रीजी का 7 दिन तक पता नहीं चल पाना, प्रशासन की अकर्मण्यता का प्रतीक है। 22वें तीर्थंकर भगवान श्री नेमिनाथजी की मोक्ष स्थली गिरनारजी सिद्ध क्षेत्र पर गुजरात सरकार एवं प्रशासन की मिलीभगत से अवांछित तत्वों ने कई वर्षों से कब्जा जमाएं रखा है, ये आए दिन वंदना करने हेतु आने वाले साधु-संतों तथा जैन तीर्थ यात्रियों पर हमले करते रहते है, इन अवांछित तत्वों पर कार्रवाई की जाएं।   
उच्च स्तरीय जांच की मांग
ज्ञापन में समाजजनों ने मांग करते हुए कहा कि मुनिश्री मुदित सागरजी महाराज की शीघ्र खोज हेतु उच्च स्तरीय जांच की जाएं एवं अवांछित तत्वों को गिरनारजी की पहाड़ियों से हटाकर उनसे कड़ाई से पूछताछ की जाए। इस तरह के आदेश गुजरात सरकार एवं प्रशासन को देने की मांग समाजजनों ने महामहिम राष्ट्रपति से ज्ञापन के माध्यम से की है।
यह थे उपस्थित 
ज्ञापन सौंपते समय श्री 1008 शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर दिंगंबर जैन समाज झाबुअ के अध्यक्ष भानुलाल  शाह, उपाध्यक्ष विरेन्द्रकुमार मोदी, सचिव रमेशचन्द डोषी, सह-सचिव विपिनकुमार जैन, कोषाध्यक्ष विजय शाह, व्यवस्थापक निलेश शाह, कार्यकारिणी सदस्यों में विमल दाणी, सुरेन्द्रकुमार मोदी, चन्द्रकांत पीठवा, शशिकांत कोठारी, प्रो. सुरेशचन्द्र जैन, मुकेश शाह, जयंतीलाल शाह, जयंतकुमार शाह, दिनेषकुमार शाह, अमित मिंडा, निर्मल डोषी, आशीष डोषी, महक मोदी, विरेन्द्र मोदी, शेखर जैन, अष्विन सोनटके, प्रदीप जैन निर्मल मोदी, मीडिया प्रभारी कु. भिमका डोषी, महिलाओं में महिला मंडल अध्यक्ष पुष्पा शाह, हंसा जैन, जयमाला कोठारी, बाला जैन, कोकिला डोषी, इंदिरा जैन, भावना जैन, मंजु जैन, प्रमोद जैन, पद्मा जैन, नूतन, सीमा, मीना, रूपमति जैन आदि उपस्थित थी।

गिरनार (गुजरात) की पहाड़ियों से लापता दिगंबर जैन संत मुदित सागरजी की तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांग

झाबुआ। परमपूज्य पूण्य सम्राट आचार्य देवेश श्रीमदविजय जयंतसेन सूरिश्वरजी मसा के पट्टधर आचार्य देवेश श्रीमदविजय जसरत्नसूरिश्वरजी मसा आदि ठाणा का झाबुआ नगर में शुक्रवार को भव्य मंगल प्रवेश होगा । इस अवसर पर विशाल शोभा यात्रा एवं धर्मसभा का आयोजन किया गया हे। श्री संघ प्रवक्ता डा. प्रदीप संघवी ने बताया कि पूज्य आचार्य देवेश देवझिरी से प्रातः विहार करते हुए पधारेगें एवं कालिका माता मंदिर परिसर से पूज्य महाराजश्री का मंगल प्रवेश प्रातः 9-30 बजे से मंगल प्रवेश प्रारंभ होगा जो  नगर के विभिन्न मार्गो से होते हुए स्थानीय जेन तीर्थ बावन जिनालय पहूंचेगा । जहां पर विशाल धर्मसभा का आयोजन किया गया है । धर्मसभा के बाद साधर्मी वात्सल्य का आयोजन भी किया गया है । 
श्री संघ अध्यक्ष संजय मेहता,  बाबुलाल कोठारी, सुभाष कोठारी, राजा रुनवाल, जितेन्द्र जैन, राजेश महेता, अंतिम जैन, उल्लास जैन,  रिंकू रूनवाल मुकेश लोढा, आदि ने समाजजनों से इस भव्य कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में पधारने की अपील की है ।

श्रीमदविजय जसरत्नसूरिष्वरजी का मंगल प्रवेश, निकलेगी शोभायात्रा होगी विशाल धर्मसभा

जैन धर्म भक्त नही वरन भगवान बनने की कला सिखाता है

भगवान महावीर के जयकारों से नगर हुआ भक्तिमय

झाबुआ । श्री दिगंबर जैन समाज के श्री शांतिनाथ जिनालय में इन दिन तप,धर्म एवं ज्ञान की गंगा प्रवाहित हो रही है । समाज के आशीष डोसी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिगंबर जैन समाज के चातुर्मास के साथ ही पवित्र पर्यूषण पर्व भादो शुक्ल पंचमी से प्रारंभ होकर चतुर्दशी तक चल रहे हे । जिसके तहत मंदिरजी पर पर्व का प्रतिदिन आयोजन हो रहा है । प्रतिदिन भगवानजी की प्रतिमाओं का सूर्योदय के साथ ही  मंत्रोच्चार के साथ पुरुष वर्ग द्वारा पावन अभिषेक करते हुए शांतिधारा अनुष्ठान किया जा रहा है । तत्पश्चात विधान पूजन बाहर से पधारे हुए पण्डितजी मुकेश शांस्त्री के मार्गदर्शन में किये जाने के साथ ही महिलाये एवं पुरूष वर्ग हर्षोल्लास के साथ धार्मिक अनुष्ठान एवं कार्यक्रमों मे बडी संख्या मे सहभागी हो रहे है । भक्ति भावना के साथ पर्व के दौरान रात्रि को संगीतमय आरती और तत्पश्चात पण्डित जी द्वारा धर्म के 10 लक्षणपर्व पर विशद विवेचना की जारही है । इस अवसर पर प्रतिदिन बच्चों द्वारा भी धर्माधारित कार्यक्रम प्रस्तुत कर नैतिक एवं धार्मिक संस्कार का अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया जारहा है । इसी कडी में स्थानीय श्री चन्द्रप्रभू नसियाजी में प्रतिदिन भगवानजी का अभिषेक, शातिधारा एवं पूजन का आयोजन किया जारहा है । 
           समाज की वरिष्ठ सदस्या श्रीमती पुष्पा विजय शाह ने जानकारी देते हुए बताया कि पर्यूषण पर्व के छठवें दिन संयम धर्म की पूजा विधि विधान से  मंदिरजी एवं नसियाजी में की गई । सुगध दशमी का पर्व समाजजनों ने पूरी भक्ति भावना के साथ मनाया । उक्त पर्व  जीवन के  दुष्कर्मों को जला कर धूपसी महक लाने की शिक्षा देता है । इसी कडी में श्री शांतिनाथ मंदिर एवं नसियाजी मंदिर में सायंकाल 5 बजे से सामूहिक धुप खेने का कार्यक्रम आयोजित किया गया तत्पश्चात आरती एवं भक्ति का आयोजन हुआ । 
            इस अवसर पर विशाल चल समारोह निकाला गया जिसमे अहिंसा परमा धर्म... जैनम जयति शासनम, महावीर स्वामी की जय जय कार से पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया । चल समारोह मंदिर जी से नसिया तक पहूंचा जहां धुप खेने के बाद  चन्द्रप्रभू चालिसा एवं महा मंगल आरती की गई । उक्त पर्व आत्मा की शक्ति द्वारा आत्मा को प्राप्त कर स्वयं में लीन हो जाने का संदेश देता है । जैन धर्म में बताये गये आठ कर्म को नष्ट कर मौक्ष प्राप्ति का मार्ग प्राप्त करना ही मुख्य लक्ष्य होता है । इन कर्मो को अग्नि में जला कर भस्म कर आत्मसात होने  के लिये  जैन धर्म में सुगंध दशमी को एक पर्व के रूप  में हर्षोल्लास के साथ समग्र समाज ने भक्ति भाव से मनाया । जैन धर्म भक्त नही वरन भगवान बनने की कला सिखाता है । प्रतिदिन दिगंबर जैन शांतिनाथ मंदिर में धार्मिक आयोजनों में समग्र समाज के श्रावक श्राविकाये भक्ति भावना के साथ सहभागी हो रहे  है ।


झाबुआ। आॅल इंडिया जैन माइनाॅरिटी फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधी की सहमति एवं राष्ट्रीय सचिव संदीप भंडारी, राष्ट्रीय संयुक्त मंत्री सौरभ भंडारी तथा मप्र अध्यक्ष उमेश जैन की अनुशंसा पर प्रदेश महिला विंग प्रमुख श्वेता भंडारी द्वारा झाबुआ की श्रीमती सपना जयेश संधवी को फेडरेशन का महिला विंग का झाबुआ जिला प्रमुख मनोनीत किया गया है।
सपना संघवी आॅल इंडिया जैन माइनाॅरिटी फेडरेशन की जिला प्रमुख मनोनीत-Sappana-Sanghvi-All-India-Jain-Minority-Federation-District-Head-Nominated
       श्वेता भंडारी द्वारा सपना संघवी से आशा व्यक्त की गई है कि वे जैन फेडरेशन में जिले में महिलाओं के हितार्थ कार्य करेगी एवं समय-समय पर विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कर महिलाओं को सषक्त एवं जागरूक बनाने में अपनी भूमिका का निर्वहन करेगी। श्रीमती संघवी के उक्त मनोनयन पर उन्हें फेडरेशन के सभी प्रादेशिक पदाधिकारियों के साथ अन्य शुभेच्छुजनों द्वारा शुभकामनाएं प्रेषित की गई है।

आचार्य श्री सुयष सूरिष्वरजी की निश्रा में होगा भव्य आयोजन

झाबुआ । श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमार्थिक ट्रस्ट देवझिरी के तत्वधान में पवित्र तीर्थ देवझिरी में 29 व 30 अप्रेल लब्धी पूर्णिमा वैशाख पूर्णि के पावन अवसर पर पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पावन निश्रा में दो दिवसीय माणीभद्र वीर हवन पूजन का धार्मिक आयोजन किया गया है । श्वेताम्बर जैन श्री संघ के संरक्षक सोहनलाल कोठारी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रथम तीर्थंकर भगवान श्री आदिनाथ प्रभू के तीर्थ क्षेत्र देवझिरी में परम पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पान निश्रा में श्री माणरभद्र वीर अष्ठम आहुति हवन पूजन महोत्सव का लब्धी पूर्णिमा के दिन 29 व 30 अप्रेल को दो दिवसीय महामंगलकारी कार्यक्रम आयोजित होगें 29 अप्रेल को प्रातः 5-30 बजे से भक्ताबर स्त्रोत का मंगलपाठ, 7-30 बजे से नवकारसी, 8-30 बजे से पूज्य आचार्य श्री सुयशसूरिश्वरजी का मंगल प्रवेश व मांगलिक, 11-30 बजे से श्री आदिनाथ पंच कल्याणणक पूजन एवं सायंकाल 5 बजे स्वामी भक्ति का आयोजन होगा । 
     30 अप्रेल सोमवार को प्रातः 5-30 बजे भक्तांबर स्त्रोत का मंगलपाठ, प्रातः 7 बजे अभिशेक एवं पूजन, एवं इसके बाद नवकारसी,प्रातः 8 बजे स्नात्र पूजन, के बाद पूज्य सुयशसूरीश्वरजी मसा के प्रवचन, प्रातः 10 बजे श्री नवपद पूजन, प्रातः 11 बजेसे स्वामी वात्सल्यका आयोजन होगा  विधिकारक हर्षदभाई जैन इन्दौर द्वारा श्री माणीभद्र वीर हवन पूजन संपन्न कराया जावेगा  दापेहर 12-39 बजे कुंभ स्थापना, दीपक स्थापना व हवन मे आहूतियों के साथ हवन की पूर्णाहूति एवं आरती संपन्न होगी एवं सायंकान को स्वामीवात्सल्य होगा ।
   श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमाािर्थक ट्रस्ट के निर्मल मेहता, यशवंत भंडारी, अशोक राठौर, बाबुलाल शाह,मनोहर भंडारी, धर्मचन्द्र मेहता, भरत बाबेल, ओच्छबलाल जैन, सुभाष कोठारी,  मनोहर मोदी संजय महेता, संजय कांठी, प्रतिक मेहता, वीरेन्द्र कोठारी, अनील रूनवाल रिंकू रूनवाल आदि ने तीर्थस्थल देवझिरी मे आयोजित दो दिवसीय धार्मिक आयोजन में सभी से सहभागी होने की अपील की है ।

Devjhiri-jain-tirth-remain-in-the-pilgrimage-for-two-days-देवझिरी जैन तीर्थस्थल मे दो दिनों तक बहेगी धर्म एवं आध्यात्म की गंगा

          वहीं श्री मेहता को श्वेतांबर जैन श्री संघ से धर्मचन्द मेहता, यशवंत भंडारी, भरत बाबेल, अनिल रूनवाल, प्रमोद भंडारी, संजय मेहता, रिंकू रूनवाल, श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर से तेजप्रकाश कोठारी, अशोक राठौर, महावीर बाग स्मारक समिति से कांतिलाल बाबेल, रमेश बाठिया, देवझिरी जैन तीर्थ से बाबुलाल कोठारी, निर्मल मेहता आदि ने बधाई दी है।  
प्रतीक मेहता जेएसजी इंदौर रीजन के सह-सचिव मनोनीत -Pratik-Mehta-JSG-Indore-Region-co-secretary-Nominated

         इस अवसर पर नगरपालिका अध्यक्ष मन्नूबेन डोडियार, श्वेतांबर जैन समाज की श्राविका चन्द्रकांताबेन कांठी, कविता मेहता एवं शकुंतला कोठारी ने भी उपस्थित होकर बच्चों को दिवाई पिलाने का कार्य किया। बुथ पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती विजेता कोठारी एवं जीएनएम ललिता ललिता गुंडिया आदि ने अपनी सेवाएं दी। उक्त बुथ पर शाम 5 बजे 100 से अधिक बच्चो को दवाई पिलाने का कार्य हुआ।


ऋषभदेव बावन जिनालय के बाहर बच्चों को दवाई पिलाते नपा अध्यक्ष श्रीमती डोडियार

मालवा महासंघ के राष्ट्रीय पदाधिकारी जैन समाज से पधारने की विनती करने हेतु झाबुआ आए

    राष्ट्रीय महामंत्री श्री मानव एवं राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री मेहता ने शहर आगमन पर गुरूवार रात 8 बजे स्थानीय ज्ञान मंदिर में बैठक ली। बैठक का संचालन करते हुए सर्वप्रथम मालवा जैन महासंघ के केंद्रीय प्रवक्ता यषवंत भंडारी ने बताया कि परम् पूज्य आचार्य नवरत्न सागर सूरीष्वरजी मसा एक महान संत थे। आपकी झाबुआ शहर पर सदैव असीम कृपा बरसती रहीं है। वे संतों में कोहीनूर के समान थे एवं उनकी छटा विषाल तथा छवि आलोकिक थी। बैठक में उन्होंने दोनो बाहर से पधारे महानुभावों एवं झाबुआ जैन समाज के पदाधिकारियों से परिचय करवाया
अलग-अलग महोत्सव मनाए जाएंगे
इस अवसर पर मालवा जैन महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री श्री मानव ने बताया कि आचार्य श्रीजी का 28 फरवरी से 4 मार्च तक जन्म महामहोत्सव अभा गुरू नवरत्न अमृत जन्मोत्सव समिति एवं जैन श्वेतांबर मालवा महासंघ, नवरत्न परिवार एवं संग्रम इंदौर श्री संघ द्वारा मिलकर मनाया जाएगा। जिसमें सुविशाल गच्छाधिपति आचार्य श्री दौलत सागर सूरीष्वरजी मसा, पपू आचार्य श्री विष्वरत्न सागर सूरीष्वरजी मसा भी अपनी पावन निश्रा प्रदान करेंगे। इस दौरान ऋण स्मरण महामहोत्सव, 75वां हीरक जन्मोत्स्व, एवं गुरू गुण किर्तन महामहोत्सव मनाया जाएगा। साथ ही बताया कि इस जन्म जयंती समारोह में पूरे देश में भी श्री संघ के पदाधिकारी एवं सदस्य शामिल होंगे। राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री मेहता ने बैठक में उपस्थित झाबुआ श्री संघ, मालवा जैन महासंघ, अभा जैन संगठना, जैन सोष्यल गु्रप के पदाधिकारियों एवं सदस्यों से भी भावभरी विनती कि इन सभी संगठनों से सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों के साथ समाजनजन इस समारोह में हिस्सा ले और महामहोत्सव को उसके नाम के अनुरूप विषालता प्रदान करे।
ये थे उपस्थित 
इस अवसर पर सुश्रावक संजय मेहता ने भी अपने विचार व्यक्त किए। यह बैठक करीब आधे घंटे तक चली। इस अवसर पर श्वेतांबर जैन श्री संघ से अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता, उपाध्यक्ष सुभाष कोठारी, सह-सचिव अनिल रूनवाल, मनोज संघवी, कोषाध्यक्ष प्रमोद भंडारी, मीडिया प्रभारी रिंकू रूनवाल, राजेन्द्र संघवी, राजेन्द्र जैन ‘शुभम’, भारतीय जैन संगठना से अशोक संघवी, संजय जैन (जगावत), नवरत्न परिवार से अर्पित चौधरी, रचित कटारिया, अर्पित संघवी, अंकित जैन, जैन सोष्यल ग्रुप से प्रतीक मेहता आदि उपस्थित थे। अंत में आभार श्री संघ सचिव भरत बाबेल ने माना।

आचार्य उमेश मुनिजी मसा जैन जगत में मूर्धन्य संत थे - प्रकाश मुनिजी

झाबुआ। आचार्य उमेश मुनिजी मसा की 86वीं जन्म जयंती श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन संघ के तत्वावधान में विभिन्न धार्मिक आयोजन के साथ एवं तप-त्यागपूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर ज्ञान गच्छाधिपतिपूज्य प्रकाश मुनिजी आदि संतों के पावन सानिध्य भी प्राप्त हुआ। इस अवसर पर प्रातः 8 बजे से रूनवाल बाजार में स्थित स्थानक भवन पर श्रद्धालुओं का आगमन शुरू हुआ। 
        श्री संघ अध्यक्ष प्रदीप रूनवाल ने बताया कि तीन सामायिक के तेले, श्री नवकार महामंत्रजी के जाप के साथ पूज्य मुनिराज एवं महासतीजी मसा के व्याख्यान एवं गुणानुवाद सभा संपन्न हुई। जिसमें बड़ी संख्या में समग्र जैन समाज के श्रावक-श्राविकाओं ने भाग लिया। श्रीमती नैना मेहता, श्रीमती विजया लक्ष्मी कटकानी एवं सुमन रूनवाल ने सुंदर गीत प्रस्तुत किया। पूज्य प्रकाश मुनिजी मसा ने उमेश मुनिजी के गुणों को याद करते हुए उन्हें महान संत बताया। मूर्तिपूजक संघ के अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता एवं संजय मेहता ने भी आचार्य प्रवर को जन-जन का उपकारी बताया। 
        सामूहिक एकासने शरद प्रकाश कांठेड़ परिवार द्वारा करवाई गए। जिसमें 300 तपस्वियों ने भाग लिया। इस अवसर पर तेरापंथ सभा के अध्यक्ष मंगनलाल गादिया एवं कई कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। सभा का संचालन संघ अध्यक्ष प्रदीप रूनवाल ने किया एवं आभार सचिव कमनकमल कटाकनी ने माना। इस अवसर चंदनमल कटकानी, संजय जैन, दीपक नरेन्द्र कटकानी, मनोज कटकानी, अंकित रूनवाल, महिपाल रूनवाल आदि उपस्थित थे। 
निराश्रितों को मिठाई वितरित की
श्वेतांबर जैन श्री संघ की ओर से दोपहर स्थानीय महिला बाल आश्रम यहां बच्चों को मिठाई का वितरण किया गया। इस अवसर पर पार्षद रसीद कुरैषी, संदीप पाल, अजीत बोहरा अतिथि के रूप में उपस्थित थे। उनके साथ श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल, तुषार कोठारी, ऋषभ मेहता, वैभव जैन, समकित कोठारी, शाष्वत मेहता आदि ने उपस्थित रहकर बच्चों को मिठाई वितरित की एवं उनकी कुशलक्षेम पूछी।

गुरू सप्तमी पर शहर के जिनालयों में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए रहीं भीड़

झाबुआ। गुरू सप्तमी पर्व पर झाबुआ के पांचों जिनालय, जिसमें श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में विशेष धार्मिक कार्यक्रम होने के साथ श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर, दादावाड़ी गणधर मंदिर, महावीर बाग, श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए भीड़ रहीं। प्राचीन चत्मकारिक श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में पूज्य दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के दर्षन एवं पूजन के लिए समाजजन एवं गुरूभक्तों का जमावड़ा रहा। मंदिर में गुरूदेवजी के दर्शन एवं पूजन सुबह से लेकर शाम तक समाजजनों ने किए। सुबह गुरू हाॅल में गुरूपद महापूजन का भी आयोजन हुआ। इस दिन राजगढ़ में स्थित प्रसिद्ध मोहनखेड़ा तीर्थ पर मेले जैसा माहौल रहा। 
श्वेतांबर जैर श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल ने बताया कि सुबह 6 बजे भक्ताम्र स्त्रोत पाठ, गुरू गुण इक्कीसा, स्नात्र पूजन, केशर पूजन, आदिनाथ भगवान एवं गुरूदेवजी का अभिषेक के साथ विशेष रूप से 8 बजे श्री राजेन्द्र सूरी गुरू पद महापूजन का आयोजन हुआ। यह पूजन श्री संघ झाबुआ द्वारा पढ़ाई गई। विधि विधिकारक ओएल जैन ने संपन्न करवाई वहीं मंत्रोच्चार एवं काव्य पाठ श्री संघ के उपाध्यक्ष यषवंत भंडारी द्वारा किया गया। पूजन में बड़ी संख्या में समाजजन शामिल हुए। पूजन पश्चात् आरती का लाभ लीलाबेन भंडारी परिवार द्वारा लिया गया। पश्चात् भाता का वितरण हुआ। इोपहर 2 बजे से सामूाहिक सामायिक का आयोजन हुआ। जिसका लाभ श्रीमती शकुंतला स्व. कांतिलाल रूनवाल परिवार द्वारा लिया गया। शाम को गुरूदेवजी के जाप किए। जिसका लाभ राजेन्द्र मेहता परिवार ने अर्जित किया। शाम को गुरूदेवजी की महाआरती भी हुई। गुरू मंदिर पर विषेष सज्जा की गई।
यहां भी हुए विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम
इसी प्रकार नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर में भी समाजजनों द्वारा पहुंचकर श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथजी, भैरवजी, महालक्ष्मीजी, महा सरस्वतीजी के दर्शन किए गए एवं पूजन की गई। श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर पर अष्टप्रकारी पूजन हुई। पूजन का लाभ अशोक राठौर, जीवनबेन पोरवाल द्वारा लिया गया। महावीर बाग में दादा गुरूदेवजी की पूजन कांतिलाल बाबेल, रमेश भाठिया एवं रिकू रूनवाल द्वारा की गई। श्री राज हेमेन्द्र पुष्प आयमिल खाता भवन में अध्यक्ष अशोक राठौर, सुरेशभाई कांठी द्वारा गुरूदेवजी के चित्र के सम्मुख दीप-धूप किया गया एवं पूजन की गई। इसके साथ ही शहर के समीपस्थ रंगपुरा जैन मंदिर में भी अष्टप्रकारी पूजन पढ़ाई। लाभ शशांक संघवी ने लिया। देवझिरी स्थित श्री मणिभद्र जैन मंदिर में भी दर्शन के लिए समाजजन पहुंचे। यहां आरती निर्मल मेहता ने की।
मोहनखेड़ा तीर्थ पर रहीं खचाखच भीड
राजगढ में स्थित मोहनखेड़ा तीर्थ पर पांच दिवसीय महोत्सव मनाया गया। गुरू सप्तमी पर सोमवार को यहां सुबह से देष के दूरस्थ क्षेत्रों एवं कस्बों से समाजजनो एवं गुरू भक्तों का आना होना शुरू हो गया। यहां मेला लगा। मेले में झूले-चकरी, विभिन्न सामग्रीयों के अनेकों दुकाने रहीं। समजाजनों एवं गुरू भक्तों ने दादा गुरूदेवजी के चरणों में नमन कर उनका आशीर्वाद  प्राप्त किया।

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

झाबुआ। श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वेतांबर पेढ़ी ट्रस्ट के तत्वाधान में 11 से 15 नवंबर तक श्रीमद् विजय धनचन्द्रसूरीश्वरजी मसा के स्मृति मंदिर के ध्वजारोहण एवं दादा गुरुदेव की पाट परंपरा के षष्ठम पटधर राष्ट्रसंत शिरोमणी गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय हेमेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के गुरु समाधि मंदिर प्रतिष्ठा का पांच दिवसीय महोत्सव श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ पर शनिवार से प्रारम्भ हुआ। इस महोत्सव मंे झाबुआ श्री संघ से कई युवा शामिल होकर अपनी सराहनीय सेवाएं दे रहे है। महोत्सव में गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा., मालवकेसरी मुनिराज श्री हितेशचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री दिव्यचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री रजतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री चन्द्रयशविजयजी म.सा., मुनिराज श्री वैराग्ययशविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा., साध्वी श्री किरणप्रभाश्री जी म.सा., साध्वी श्री सद्गुणाश्री जी म.सा., साध्वी श्री संघवणश्री जी म.सा. आदि अपनी निश्रा प्रदान कर रहे है। रविवार को आचार्य हेमेन्द्रसूरीश्वरजी समाधि मंदिर प्रतिष्ठा महोत्सव के अंतर्गत आचार्य हेमेन्द्रसूरि अष्टप्रकारी महापूजन का आयोजन तीर्थ परिसर में किया गया। 
     इस महोत्सव में झाबुआ श्री संघ से तुषार कोठारी, सोमवार को प्रातः 08ः30 बजे जल कलश यात्रा विधान का भव्य आयोजन किया गया है यात्रा स्थानीय गुरुकुल परिसर से प्रारंभ होगी। प्रातः 9ः30 बजे श्री हेमेन्द्रसूरि समाधि मंदिर प्रतिष्ठा मंडप का उद्घाटन लाभार्थी परिवारों एवं श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वेतांबर पेढ़ी ट्रस्ट के पदाधिकारी ट्रस्टीगणों द्वारा किया जाएगा। प्रातः 10ः30 बजे कुंभ एवं अखंड दीपक की स्थापना की जाएगी। दोपहर 01ः00 बजे से क्रिया मण्डप में अष्टमंगल, नवग्रह, दशदिग्पाल पाटला पूजन का आयोजन रखा गया है। मंगलवार को प्रातः 9ः00 बजे नवकारसी के पश्चात् प्रतिष्ठा सम्बंधित शोभायात्रा का आयोजन किया गया है। 
       11 बजे मंदिर में 18 अभिषेक महापूजन का आयोजन एवं 12ः30 बजे चैत्याभिषेक, दोपहर 1 बजे श्री राजेन्द्रसूरि गुरुपद महापूजन का भव्य आयोजन होगा। शाम 4 बजे महिला चैविसी (गांव सांजी मेहंदी) का आयोजन रखा गया है। शाम को इंडिया के नंबर वन कामेडीयन बालीवुड फिल्मी कलाकार राजू श्रीवास्तव उर्फ गजोधर एवं स्टाॅर टी.वी. ग्रेट इण्डियन लाफटर सी.वी. चैलेंज के बाल कलाकार जय चणीयारा, आज की रात हंसी की शाम सजाएंगें साथ ही संगीतकार श्री नरेन्द्र वाणीगोता एंड पार्टी मुम्बई द्वारा प्रभु एवं गुरु भक्ति की रमझट जमायी जायेगी। 15 नवंबर को प्रतिष्ठा के मुख्य दिवस प्रातः 9ः30 बजे पश्चात् प्रतिष्ठा की विधि प्रारंभ होगी। श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट के मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ एवं श्री संघ अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता एवं राज हेमेन्द्र पुष्प आयमिल खाता भवन के संस्थापक अध्यक्ष अषोककुमार राठौर, राजमल राठौर, अनिल राठौर, कांतिलाल बाबेल, मनोहर मोदी, हस्तीमल संघवी, अभय धारीवाल, सुरेन्द्र कांठी आदि ने सभी गुरु भक्तों से आग्रह किया है कि अधिक से अधिक संख्या में पधारकर पुण्य लाभ अर्जित करें एवं गुरु गच्छ की शौभा में वृद्धि करें। 

आचार्य श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी मसा तपस्वियों का वाक्षेप करते हुए

झाबुआ। स्थानीय दिगंबर जैन समाज द्वारा आयोजित चतुर्दिवसीय धार्मिक आयोजन में भक्ति एवं आध्यात्म की निर्झरिणी सुहासित हो रही है। गुरूवार को चौथे दिन दिगंबर समाज द्वारा स्थानीय पैलेस गार्डन में प्रातःकाल भव्य मंगलाष्टक एवं शांतिधारा का आयोजन किया गया । इस अवसर पर श्री जिनेन्द्र भगवान के अभिषेक के आयोजन के अवसर पर सैकडो की संख्या में समाजजन उपस्थित रहे। शांतिधारा के लाभार्थी अखिलेषजी लक्ष्मीचंद जैन रहे। इसके बाद नित्य नियम पूजन का अभिनव आयोजन किया गया। तत्पष्चात हवन द्वारा कार्यक्रम की पूर्णाहुति सम्पन्न हुई। 
         भूमिका आशीष डोषी ने बताया कि भव्य शौभा यात्रा का आयोजन राजवाडा से होकर लक्ष्मी बाई मार्ग, थांदला गेट, सुभाष मार्ग होता हुआ पुनः नसियाजी में पहुचा। शौभायात्रा में पांरम्परिक वेषभुषा पहनकर समाज की महिलाओं ,पुरूषो एवं बालिकाओं के द्वारा नृत्य करते हुए नगर भ्रमण किया। तत्पष्चात् नसियाजी में पहुचकर भगवान को विराजमान से लेकर शिखर एवं कलश स्थापना एवं जिनवाणी एवं छत्र व चंवर स्थापना प्रदिप भैया अषोक नगर के द्वारा विधिविधान द्वारा किया गया। भगवान चन्द्रप्रभु की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी अनिल पन्नालाल मेहता एवं भगवान पाष्र्वनाथ की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी लक्ष्मीचन्द्र जैन एवं भानूलाल शाह। छत्र एवं चंवर आरोहण के लाभार्थी जयंत सज्जनलाल शाह, रीना पारस गांधी, प्रदीप गुवाडिया, नम्रता श्रीकांत शाह, षिल्पा जेकेष दाणी रहे।
         भविष्य में धातु की मुनिसुव्रतनाथ भगवान की प्रतिमा को विराजमान करने के लाभार्थी रमेषचंद्र डोषी एवं डाॅ सुरेषचंद्र जैन रहेगे। श्रीखर पर कलष एवं ध्वजा दण्ड के लाभार्थी जयंन्तिलाल शाह एवं अखिलेष लक्ष्मीचंद्र जैन रहे। घण्टा एवं वंदनवार (तौरणद्वार) के लाभार्थी संजय वागमल शाह, पियूष भण्डारी एवं पुनित डोषी है। मंदिर का भव्य द्वार खोलने के लाभार्थी जयंतीलालजी इंदरमलजी शाह परिवार द्वारा रहे। दोपहर में समाजजनो एवं आंगतुको के लिये पैलेस गार्डन में स्वामी वात्सल्य का आयोजन भी किया गया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसद कांतिलाल भूरिया उपस्थित रहे। जिनका सामाज की ओर से बहुमान किया। समापन अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह वितरीत किये गये वही प्रतिष्ठा समिति के अध्यक्ष रमेष डोषी ने आभार व्यक्त किया। 

झाबुआ। दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वर जी म.सा. की पाट परम्परा के अष्ठम पटधर वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की पावनतम निश्रा एवं मुनिराज श्री रजतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा., साध्वी श्री रत्नरेखाश्री जी म.सा., साध्वी श्री अनुभवदृष्टाश्री जी म.सा., साध्वी श्री कल्पदर्शिताश्री जी म.सा. आदि ठाणा की सानिध्यता में झाबुआ शहर में स्थानीय बावन जिनालय जिन मंदिर से भगवान श्री महावीर स्वामी, पाश्र्वनाथ भगवान, गणधर गौतमस्वामीजी, माता पद्मावती देवी एवं दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की प्रतिष्ठित होने वाली प्रतिमाओं की एतिहासिक शोभायात्रा नगर के प्रमुख मार्गो से होती हुई महावीर बाग पर पहुंची वहां समस्त प्रतिमाओं का मंगलप्रवेश आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की निश्रा में विधिकारक हेमन्त वेदमुथा मक्सी द्वारा विधि विधान पूर्वक करवाया गया । 
           इससे पूर्व प्रातःकाल की वेला में स्थानीय महावीर बाग जैन मंदिर में श्रीमती श्यामुबाई रतनलालजी रुणवाल पुत्र- नवीन, संतोष, मुकेश रुणवाल परिवार द्वारा 18 अभिषेक महापूजन का आयोजन रखा गया था । इस महापूजन में समस्त प्रतिमाओं व स्वर्ण कलश, स्वर्ण दण्ड आदि पर विभिन्न प्रकार की औषधियों युक्त जल से अभिषेक किया गया । महावीर बाग में आयोजित त्रिदिवसीय प्रतिष्ठा महोत्सव के द्वितीय दिवस के अवसर पर सुबह के स्वामीवात्सल्य का आयोजन कांतिलालजी सरदारमलजी बाबेल पुत्र- जितेन्द्रकुमार, भरतकुमार बाबेल परिवार द्वारा आयोजित किया गया । शाम के स्वामीवात्सल्य का आयोजन कालीदेवी निवासी श्रीमती प्यारीबाई बापुलालजी लोढ़ा परिवार की और से पुत्र- ओछबलाल, उत्तमकुमार लोढ़ा परिवार द्वारा आयोजित किया गया । आचार्यश्री ने जानकारी देते हुये बताया कि सम्पूर्ण विधिविधान के पश्चात् कार्तिक सुदी 13, 02 नवम्बर गुरुवार को सुबह की वेला के शुभ मुहूर्त में लाभार्थी परिवार के हाथों ध्वजा फहरायी जावेगी एवं प्रभु व गुरु प्रतिमा गादीनशीन हो जायेगी । इस प्रतिमा महोत्सव को लेकर झाबुआ जैन समाज में अपार उत्साह चल रहा है । प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान रात्रि कालीन भक्ति भावना का आयोजन भी रखा गया था ।

आचार्य देवेष, मुनि एवं साध्वी मंडल की निश्रा में हुआ धार्मिक अनुष्ठान 

झाबुआ । आचार्य देवेश श्रीमद् ऋषभचन्द्रसूरिश्वरजी मसा के नगर में चल रहे भव्य चातुर्मास में नगर की धर्म धरा पर इन दिनों तप एवं भक्ति की निर्झरिणी प्रवाहित हो रही है । मंगलवार को श्री महावीर बाग में आचार्य देवेश एवं मुनि मंडल एवं साध्ची मंडल की निश्रा में प्रथम दिवस पर बावन जिनालय से प्रातः विशाल वरघोडा निकाला गया तथा महावीर स्मारक बाग में चल समारोह नगर के मुख्य मार्गेा से होता हुआ पहूंचा जहापं वह धर्मसभा के रूप् मे परिविर्तत हो गया । जहां आचार्य प्रवर श्री ऋषभचन्द्रसूरिश्वरजी मसा एवं मुनि प्रवर श्री रजतचन्द्रविजय जी मसा, मुनि जिनचन्द्र विजय जी, द्वारा प्रवचन देते हुए मानव को भगवान महावीर के बताये सत्य धर्म शांति प्रेम अंिहसा एवं अचोर्य के मार्ग पर चलने का आव्हान किया । 
         इस अवसर पर कुछ चढावे भी बोले गये जिनका श्रावकजनों ने बढ चढ कर लाभ उठाया । श्री संघ के रिंकू रूनवाल ने बताया कि तीनो समय का स्वामी वात्सल्य शहनाई गार्डन में आयोजित हुआ । दोपहर मे महावीर स्मारक बाग पर नवग्रह अष्टमंगल, दस दिग्पाल, पाटला पूजन एवं महिला मंडल द्वारा पंच कल्याणक पूजा पढाई गई । रात्री काल में महिला मंडल द्वारा चैबिसी का आयोजन किया गया । बुधवार को दूसरे दिन मंदिर एवं प्रतिमाओं का अष्टादश अभिषेक किया गया जिसमे मुनि प्रवर ने सुंदर भक्ति करवाई । दोपहर तीन बजे स्थानीय बाबवन जिनालय से वरघोडा जो महावीर स्मारक तक निकाला गया तथा आयोजित हो रहे त्रिदिवसीय महोत्सव में मंदिर परिसर पर दीपामाला, पुष्प तोरण एवं अन्य प्रकार की भव्य साजसज्जा की गई । 
          बुधवार को बावन जिनलाय मंदिर पर प्रातःकाल भक्तामर पाठ के बाद स्नात्र पूजन, अष्ट प्रकारी पूजन एवं विविध भक्थ्ति के साथ आदिनाथ भगवान एवं महावीर स्वामी, गुरू राजेन्द्रसूरीश्वर जी की आरती मंगल दीप के बाद श्री महावीर बाग प्रतिष्ठा महोत्सव के लिये ऋषभदेव बावन जिनालय से जीवदया प्रेमी आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसूरिश्वरजी मसा, मुनि मंडल, श्री साध्वीजी मंडल एवं श्रावक श्राविकाओं के साथ महावीर स्मारक बाग में पदार्पण ह ुआ । तत्पश्चात वहां बिराजित होने वाली प्रतिमाओं का अठारह अभिषेक कर महा महोत्सव पूर्वक कार्यक्रम का आयाजन पूरी श्रद्धा एवं भक्ति के साथ संपन्न हुआ । महा मंगल आरती, कलश स्थापना, दीप प्रज्वलन एवं सभी विधि विधान के बाद हवन आदि के बाद स्वामी वात्सल्य का आयोजन किया गया । 
         मंगल मुहुर्त 12-39 बजे पर श्री पाश्र्वनाथ पंच कल्याणक पूजन के बाद बावन जिनालय से महाभव्य भगवान की प्रतिमा के साथ सभी चतुर्विध संघ के साथ चल समारोह आयोजित हुआ । पाटला पूजन, दस दिग्पाल पूजन, अठारह अभिषेक एवं पूजन विधि विधान के साथ संपन्न हुए । सायंकाल स्वामी वात्सल्य आयोजित हुआ । आज 2 नवम्बर को भव्य प्रतिष्ठा विधि सम्मान प्रातः काल में की जावेगी जिसमे समस्त समाजजनों को इस दुर्लभ अवसर पर धर्मलाभ लेने का अनुरोध किया गया है। श्री बावन जिनालय श्री संघ के अध्यक्ष धर्मचन्द्र मेहता, संतोष नकोडा एवं भरत बाबेल नेसमाजजनों से इस आयोजन मे भाग लेने की अपील करते हुए नगर मे पहली बार हो रहे आयोजन में दर्शन, पूजन एवं भक्ति का लाभ लिये जाने का आग्रह किया है । 

चातुर्मास में तपोभूमि बनी नगर की धरा 

आज से महावीर बाग में त्रिदिवसीय प्रतिमा प्रतिष्ठा का कलश यात्रा के साथ भव्य समारोह का होगा श्रीगणेश   

झाबुआ। नगर में पूज्य आचार्य श्री ऋषभचन्द्रसूरीजी मसा की निश्रा में झाबुआ नगरी तपोभूमि बन कर यहां धर्म एवं ज्ञान की गंगा प्रवाहित हो रही है।चातुर्मास के दौरान पूज्य आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसूरीजी मसा, पूज्य मुनिराज रजतचन्द्रविजयजी मसा, मुनि श्री जीतचन्द्रविजय जी मसा, मुनि श्री जिनचन्द्रविजय जी मसा मुनि श्री जनकचन्द्र विजय जी मसा, पूज्य साध्वी रत्परेखश्री जी मसा, साध्वी अनुभवदृष्टाश्रीजी मसा एवं साध्वी कल्पदर्शिताश्री जी मसा आदि ठाणा की मंगलमयी निश्रा में नगर में श्री महावीर स्मारक बाग तीर्थ पर भगवान श्री आदिनाथजी, शंखेश्वर पारश्र्वनाथजी, महावीरस्वामीजी, गौतमस्वामीजी, राजेन्द्रसरीजी मसा, पदमावती माता जी आदि प्रतिमाओं की भव्याति भव्य प्रतिष्ठा का धर्ममय आयोजन श्रीसंघ झाबुआ द्वारा वृहदी पैमाने  मंगलवार 31 अक्तुबर से 2 नवम्बर तक त्रिदिवसीय आयोजन के साथ किया जा रहा है। 
          समाज के रिंकू रूनवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि रविवार को उक्त भव्याति भव्य आयोजन को लेकर आमंत्रण पत्रिका का विमोचन उश्री संघ एवं चातुर्मास समिति द्वारा पूज्य आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसरीजी मसा की दीव्य उपस्थिति में वासक्षेप छिटक कर किया गया । इस अवसर पर मुनि मंडल एवं साध्वी मंडल तथा श्री संघ एवं चातुर्मास समिति के सदस्य एवं पदाधिकारी गण भी उपस्थित थे । मुनि श्री रजतचन्द्र विजय जी मसा ने पत्रिका विमोचन के अवसर पर कहा कि जिस नगर में जिनेश्वर परमात्मा की प्रतिष्ठा होती है वो नगर फलीभूत होने लगता है । देवाधिदेव के अतिशय से सर्व ऋद्धि समृद्धि लब्धि बढने लगती है।
            मुनि श्री कहा कि सिर्फ प्रतिमाओं की स्थापना नगर ही नही मन मंदिर में भी होना चाहिये जिससे हमारा तन-मन स्वच्छ सुंदर एवं पवित्र बना रहे । प्रतिमाओं की स्थापना से नगर मे किसी भी प्रकार की प्राकृर्तिक आपत्तिया नही आती एवं उपद्रवों का नाश होता है। पत्रिका के विमोचन के साथ ही निकटवर्ती क्षेत्रों के श्री संघो को हाथो हाथ आमंत्रण पत्रिकाऐं पहूंचाई जाकर आस से प्रारंभ होने वाले कार्यक्रम में शिरकत करने के लिये न्यौता दिया गया है । मंगलवार को प्रातः 8-30 बजे से श्री बावन जिनालय से भव्य कलश यात्रा बेंड बाजों के साथ निकाली जावेगी जिसका समापन नगर के मुख्य मार्गो से होते हुवे महावीर बाग पर होगा ।
        प्रथम दिवसा महावीर बाग पर कुभस्थापना के लाभाथी स्वर्गीय मोहनबाई सुजानमल कोठारी की स्मृति में सुभाषचन्द्र उपाधकिरण कोठारी द्वारा लिया जावेगा । दीप स्थापना के लाभाथी रमेशचन्द्र उषाबेन बाठिया परिवार द्वारा , ज्वारारोपण के लाभार्भी स्व श्रीमती सज्जनबाई प्रेमचन्द्र सकलेचा की स्मृति में अशोक कुमार कल्पना सकलेचा परिवार द्वारा, श्री पाश्र्वनाथ पंच कल्याणक पूजा के लाभार्थी स्व उदयलालजी कंचनबाई की स्मृति में सुरेन्द्रकुमार कांठी परिवार द्वारा, आंगी के लाभार्थी स्व. सागरमल रतनबाई नगीनलाल कांठी की स्मृति में संजय कोठी एवं चन्द्रकांता कांठी परिवार द्वारा, नवग्रह पाटला पूजन के लाभार्थी श्रीमती मोहनबाई सुजानमल कोठारी की स्मृति में कलेशकुमार रेणूका कोठारी परिवार द्वारा, प्रातःकालीन स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी प्यारीबाई बापुलाल लोढा परिवार कालीदेवी द्वारा, आठारह अभिषेक के लाभार्थी स्व.रतनलाल रूनवाल की स्मृति में श्रीमती श्यामुबाई नवीन, प्रमीला रूनवाल परिवार द्वारा, चैत्याभिषेक के लाभार्थी स्व. इन्दूलाल भानुमति शाह की स्मृति में हेमेन्द्र अलका शाह परिवार द्वारा, एवं सायंकालीन स्वामीवात्सल्य के लाभार्थी श्री संघ ऋषभसूरी चातुर्मास समिति एवं आदिनाथ ट्रस्ट रहेगें । 
        द्वितीय दिन बुधवार 1 नवम्बर को प्रातःकालीन नवकारसी के लाभार्थी स्व. शांतिलाल, स्व.कांतिलाल रूनवाल की स्मृति में शकुंतला, सुभद्रा, विजय, अनिल, रिंकू, विवेक, आलोक रूनवाल परिवार द्वारा, श्री पाश्र्वनाथ पूजन के लाभार्थी स्व. कैलाश कांरेचा की स्मृति में श्रीमती शोभा, अर्पित कोरेचा परिवार द्वारा तथा दोपहर के स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी श्रीमती चमेलीदेवी बाबेल की स्मृति में पुत्र जितेन्द्र, भूपेन्द्र, बाबेल परिवार द्वारा सायंकालीन स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी स्व वालचन्द्र सोहनबाई बाबेल की स्मृति में पुत्र विनोद बाबेल परिवार द्वारा तथा अंगी के लाभार्थी मोहनलाल राठौर की स्मृति में श्रीमती कमलाबेन अनिलकुमार राठौर परिवार द्वारा लिया गया है । 
       बुधवार को नगर में प्रतिष्ठा के शुभ अवसर पर भव्य चल समारोह निकाला जावेगा । 2 नवम्बर गुरूवार को दोपहर 12-39 बजे से बृहदशांति अष्टोत्तरी महापूजन फलेचुंदडी का आयोजन स्वर्गीय मोहनबाई, स्व. सुजानमल जी कोठारी में पुत्र सुभाषषचन्द्र उषाकिरण कोठारी परिवार द्वारा लिया गया है । इस त्रिदिवसीय आयोजन में विधिकारक हेमंत वेदमुथा द्वारा विधि विधान से सभी अनुष्ठान सम्पन्न करवाये जावेगें । श्री मंघ केअध्यक्ष धर्मचन्द्र मेहता, यशवंत भंडारी, अशोक राठोर,तेजप्रकाश कोठारी, अनिल राठौर, भरत बाबेल, विनोद बाबेल, संतोष नाकोडा, अभय धारीवाल, संजय काठी, नरेन्द्र पगारिया, रमेश बांठिया, हेमेन्द्र बाबेद भंडारी, मनोज संघवी, अनिल रूनवाल, शालीन धारीवाल आदि ने समस्त श्रीसंघो एवंज न सामान्य से महावीर बाग मे आयोजि इस त्रि दिवसीय आयोजन में सहभागी होकर धर्मलाभ प्राप्त करने की अपील की है ।

 झाबुआ । नगर के श्री बावन जीनालय में चातर्मास के पावन अवसर पर पूरा अंचल आध्यात्मिक एवं ज्ञान गंगा के साथ ही तपो आराधना का क्रम जारी है। पूरा वातावरण भक्तिमय एवं गुरूमय दिखाई दे रहा है । आचार्य देवेश श्री ऋषभचन्द्रसूरिजी मसा की दीव्य उपस्थिति में भव्य दिव्य नव्य अद्भुत शासन प्रभावना के सुनहरे सफर गतिमान है । प.पू.गच्छाधिपति ’श्री ऋषभचंद्र सूरीश्वरजी’म.सा. की’पावन प्रेरणा’प.पू.युवा मुनिराज ’श्री रजतचंद्र विजयजी’ म.सा.साध्वी रत्नरेखा श्रीजी आदि ठाणा की पावन निश्रा एवं शुभाशीष’से  10 अक्तुबर मंगलवार को श्री बावन जिनालय तीर्थ पर दीपक एकासणा तपोराधना का आध्यात्मिक आयोजन होगा।
         श्रावक श्राविकाओं द्वारा "श्री आदिनाथाय नमः श्री राजेन्द्रसुरि गुरूदेवाय नमः " भक्तामर गुरु चालिसा मंगल पाठ प्रतिक्रमण आदि धर्म अनुष्ठान निरन्तर चालु है। मंगलवार को ’मंगलमय कार्यक्रम’ के तहत प्रातः 06-30 भक्तामर गुरु चालिसा पाठ,प्रातः 9-30 बजे प्रासंगिक प्रवचऩ, [tooltip url="https://jhabua.ashanews.in/2017/05/Chief-Minister-Shivraj-Singh-Chauhan-released-Vande-Siddhachalam-book.html" title="वंदे सिद्धाचलम्"] "वंदे सिद्धाचलम्"[/tooltip] ओपन बुक परीक्षा के परिणाम एवं उपहार वितरण, मंदिर सजाओ स्पर्धा के  पुरस्कार दिये जावेगें । प्रतिभागी को स्वयं ईनाम लेने आना जरूरी है। किसी ओर को ईनाम नही दिया जावेगा।’
             मंदिर में प्रातः 11 बजे देववंदन, अपरान्ह 12-15 बजे एकासना का आयोजन लाभार्थी परिवार’ श्री हेमेन्द्र सूरि महिला मंडल परिवार झाबुआ’ की ओर से होगा । कार्यक्रम के आयोजन श्रीसंघ एवं सूरि ऋषभ चातुर्मास समिति झाबुआ रहेगें । श्री जैन तीर्थ बावन जीनालय पर आयोजित इस धार्मिक आयोजन पर सहभागी होने के लिये श्री संघ एवं चातुर्मास समिति के धर्मचन्द्र मेहता, सुभाष कोठारी, संजय कांठी, संतोष नाकोडा, यशवंत भंडारी, अभय धारीवाल, सूर्या कांठी, मनोहर मोदी, मुकेश सुलवाल, हेमेन्द्र बाबेल,सुनिल राठौर, मनोज जैन, गुड्डू रूनवाल आदि ने धर्मलाभ लेने की अपील की है ।

चातुर्मास में बनी तपोभूमि’ झाबुआ नगरी, कल होगा दीपक आराधना एवं तपोराधना का कार्यक्रम-Jhabua-city-made-tapobhumi-in-chaturmass-Tomorrow-held-Deepak-worship-and-Tapodhana-program

साध्वजी एवं मुनिश्री ने सुनाई मांगलिक  

झाबुआ।  चातुर्मास पर्व के दौरान भक्ति एवं तप की श्रृंखला सतत प्रवाहित हो रही है जिनालय जैन मंदिर से प्रभु दर्शन कर परमात्मा आदिनाथ, दादा गुरू देव राजेन्द्रसूरिजी मसा  के दर्शन वंदन तथा बाद साध्वी श्री रत्नरेखा म.सा. से मांगलिक का श्रवण कर 80 सदस्यीय श्री संघ ने गौडीपाश्र्वनाथ पहुँचकर संघ संघ पति अशोक राजेन्द्र समरथमल राठौर का आचार्य तीर्थेंद्र सूरि समिति ने शाल श्रीफल से स्वागत किया तथा उन्हे मंगलमय यात्रा की कामना के साथ बिदा किया । संघपति सहित श्री संघ के सदस्यों ने गौडी पाश्र्वनाथजी  प्रभु के दर्शन कर यात्रा प्रारंभ की ।  
80 सदस्यीय श्रीसंघ तीर्थ यात्रा पर हुआ रवाना -80-member-Shreesangh-proceeded-on-pilgrimage             इसके पूर्व गौडी पाश्र्वनाथ मंदिर पर बिराजित जिनचंद्र विजयजी म.सा. ने सभी को मांगलिक श्रवण कराई। संघ ने धार जिले के तीर्थ बाग पहुचकर दर्षन वंदन कियें एवं आचार्य भगवन हेमेन्द्र सुरी जी म.सा. के शिष्य चंद्रेशवविजय जी मं.सा. के प्रवचन श्रवण किये एवं झाबुआ संघ ने चातुर्मास के बाद झाबुआ पधारने मुनिश्री से विनती की तथा अंट्ठम तप की आराधना कराने के लियें भी विनती की गई। इसके बाद श्री संघ जैन तीर्थ तालनपुर , लक्ष्मणी, बलईमाता पहुचकर वहां दर्शन वंदन किये। संघ के लाभार्थी अनिल राठौर एवं संजय कांठी व तेज प्रकाश कोठारी है ।  संघ के सदस्य वर्धमान राठोैर, विमल कांठी, निर्मल मेहता, अभय धारीबाल, इन्द्रसेन संघवी, नरेन्द्र पगारीया, सुरेन्द्र सकलेचा, अनिल राठोर, अनिल रूनवाल, अशोक कटकानी, महेन्द्र जैन बाग वाले विशेष रूप से उपस्थित रहें।

राजगढ़  (धार) : श्री मोहनखेड़ा तीर्थ की पावन भूमि पर शासन प्रभावक गणाधीश गुरुदेव श्री ऋषभचंद्र विजय जी मसा की आचार्य पाटोत्सव प्रसंग पर प्रवचनकार युवा तेजस्वी संत मुनिराज श्री रजत चंद्र विजय जी मसा द्वारा  श्री सिद्धाचलम तीर्थ की महिमा मंदिर मिनिग्रंथ "वंदे सिद्धाचलम्" का विमोचन ७ मई को संत समुदाय एवं प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया गया।

Chief-Minister-Shivraj-Singh-Chauhan-released-Vande-Siddhachalam-book-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वंदे सिद्धाचलम् पुस्तक का विमोचन किया
Chief-Minister-Shivraj-Singh-Chauhan-released-Vande-Siddhachalam-book-मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने वंदे सिद्धाचलम् पुस्तक का विमोचन किया

 झाबुआ। शास्त्रों में उल्लेखित है कि जहां वतन को शांति प्राप्त हो, आत्मा का परमात्मा से तादात्म्य स्थापित हो, जहां देवषक्तियां स्वयं बिराजित होकर सर्वे सुखिनः भवन्तु के आशीष प्रदान करती है, जहां जाने मात्र से ही मन को एक सुकुन मिलता हो ऐसे स्थान को मंदिर की उपमा दी गई है। यह जानकारी देते श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल ने बताया कि झाबुआ शहर का सौभाग्य है कि आज से 121 वर्ष पूर्व विक्रम संवत 1952 माह सुदी पूर्णिमा को अवतार तुल्य दादा गुरूदेव श्री विजय राजेन्द्र सूरिष्वरजी मसा ने 251 जिनबिंब की प्रतिमा की अंजन शलाका  की थी और इतनी अवधि में इस पवित्र तीर्थ स्थल 52 जिनालय का का प्रादुर्भाव होना ही अपने आप मे एक चमत्कार ही कहा जावेगा। आज न सिर्फ समूचा मालवा प्रांत बल्कि देष के कोने-कोने से यहां तीर्थयात्रियों का जमावडा होता है और भगवान की मनमोहक प्रतिमा के दर्षन करके अपने आप को धन्य एवं गौरवान्वित महसूस करते है। 
            52 जिनालय जैन तीर्थ जहां स्वयं साक्षात परमात्मा का वास माना जाता है, को देव विमान का स्वरूप माना जाता है। शाष्वत तीर्थ नंदिष्वर द्वीप जहां पर देवता वंदन पूजन करते है उसकी रचना भी हुबहु 52 जिनालय कहलाती है। 
 जैन तीर्थ में भक्त को दर्शन से मिलती है आत्म शांति
Ancient-Jain-pilgrimage-Rishabhdev-122nd-Foundation-Day-today-jhabua-अति प्राचीन जैन तीर्थ श्री ऋषभदेव बावन जिनालय का 122वां स्थापना दिवस आज  पूरे प्रदेश ही नही देश  में 52 जिनालय के समकक्ष एवं इसकी अनुठी वास्तुकला का उदाहरण अन्यत्र कहीं नही है। झाबुआ नगर का 52 जिनालय मालवांचल का एक मात्र जैन तीर्थ है जिसके मूल नायक प्रथम तीर्थंकर भगवान श्री ऋषभदेवजी भगवान है। इस जीनालय को जैन संप्रदाय का महत्वपूर्ण तीर्थस्थल होने का गौरव प्राप्त है इस तीर्थ में 117 पाषाण की अति प्रचित प्रतिमायें बिराजमान है। इसके साथ ही श्री सिद्धचक्र यंत्र, दादा गुरूदेव की प्रतिमा भी यहां बिराजित है। बावन जिनालय तीर्थ मंदिर में प्रवेश के साथ ही प्रत्येक मानव के आंतरिक भावों की शुद्धि  हो जाती है। सांसारित मायाजाल से अलहदा होकर वह यहां अनुपम शांति का अहसास करता है कहते है जहां प्रवेष करते ही मनोविकार दूर हो जावे वही मंदिर तीर्थ बन जाता है। यहां प्रतिदिन औसतन 250 से 300 श्राविकाएं नियमित रूप से पूजन करने आते है वही प्रतिदिन 500 से अधिक श्रद्धालुजन भगवान के दिव्य दर्शन  का लाभ प्राप्त कर अनुग्रहित होते है।
 शहर में है 5 जिनालय 
इस तीर्थ की प्रसिद्धी इसी बात से होती है कि जैन संप्रदाय के सभी महान मुनियो, आचार्यो एवं संतो ने यहां पधार कर भगवान के दर्शनलाभ लेकर इस धरा को पवित्र करके आध्यात्मिक आनंद का केन्द्र बना दिया है। बावन जिनालय परिसर में श्री गणधर मंदिर, के अलावा नगर में चमत्कारिक जिनदत्तसूरी, जिन कुशल सूरि दादावाडी, श्री नाकोडा पार्श्वनाथ मंदिर के साथ ही गोडी पार्श्वनाथ मंदिर एवं श्री महावीर बाग मंदिर भी इस पावन धरा पर स्थापित होकर पूरे नगर, एवं अंचल में अपनी आध्यात्मिक आभा से पूरे वातावरण को धर्ममय बना रहे है। श्री 52 जिनालय को लेकर बाहर से आने वाले यात्रिकों के अनुभवों को यदि सुना जा तो यहां सर्व मनोरथ पूर्ण होने में देरी नही लगती है।  
आज मनाया जाएगा 122वां स्थापना दिवस 
     सुश्रावक संजय मेहता ने बताया कि शुक्रवार को श्री ऋषभदेव बावन जिनालय का 122वां स्थापना दिवस विभिन्न धार्मिक कार्यक्रमों के साथ मनाया जाएगा। इस अवसर पर प्रातः श्री भक्तामर पाठ के पश्चात् भगवान का पंचामृत से अभिषेक एवं केशर पूजन होगी। महिला परिषद् द्वारा श्री आदिनाथ भगवान की पंच कल्याण पूजन पश्चात् सामूहिक सामायिक का आयोजन होगा। श्री संघ द्वारा सभी धार्मिक कार्यक्रमों को सफल बनाने की अपील समाजजनों से की है। 


Trending

[random][carousel1 autoplay]

More From Web

आपकी राय / आपके विचार .....

निष्पक्ष, और निडर पत्रकारिता समाज के उत्थान के लिए बहुत जरुरी है , उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ समाचार पत्र भी निरंतर इस कर्त्तव्य पथ पर चलते हुए समाज को एक नई दिशा दिखायेगा , संपादक और पूरी टीम बधाई की पात्र है !- अंतर सिंह आर्य , पूर्व प्रभारी मंत्री Whatsapp Status Shel Silverstein Poems Facetime for PC Download

आशा न्यूज़ समाचार पत्र के शुरुवात पर हार्दिक बधाई , शुभकामनाये !!!!- निर्मला भूरिया , विधायक

जिले में समाचार पत्रो की भरमार है , सच को जनता के सामने लाना और समाज के विकास में योगदान समाचार पत्रो का प्रथम ध्येय होना चाहिए ... उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ सच की कसौटी और समाज के उत्थान में एक अहम कड़ी बनकर उभरेगा - कांतिलाल भूरिया , सांसद

आशा न्यूज़ से में फेसबुक के माध्यम से लम्बे समय से जुड़ा हुआ हूँ , प्रकाशित खबरे निश्चित ही सच की कसौटी ओर आमजन के विकास के बीच एक अहम कड़ी है , आशा न्यूज़ की पूरी टीम बधाई की पात्र है .- शांतिलाल बिलवाल , विधायक झाबुआ

आशा न्यूज़ चैनल की शुरुवात पर बधाई , कुछ समय पूर्व प्रकाशित एक अंक पड़ा था तीखे तेवर , निडर पत्रकारिता इस न्यूज़ चैनल की प्रथम प्राथमिकता है जो प्रकाशित उस अंक में मुझे प्रतीत हुआ , नई शुरुवात के लिए बधाई और शुभकामनाये.- कलावती भूरिया , जिला पंचायत अध्यक्ष

मुझे झाबुआ आये कुछ ही समय हुआ है , अभी पिछले सप्ताह ही एक शासकीय स्कूल में भारी अनियमितता की जानकारी मुझे आशा न्यूज़ द्वारा मिली थी तब सम्बंधित अधिकारी को निर्देशित कर पुरे मामले को संज्ञान में लेने का निर्देश दिया गया था समाचार पत्रो का कर्त्तव्य आशा न्यूज़ द्वारा भली भाति निर्वहन किया जा रहा है निश्चित है की भविष्य में यह आशा न्यूज़ जिले के लिए अहम कड़ी बनकर उभरेगा !!- डॉ अरुणा गुप्ता , पूर्व कलेक्टर झाबुआ

Congratulations on the beginning of Asha Newspaper .... Sharp frown, fearless Journalism first Priority of the Newspaper . The Entire Team Deserves Congratulations... & heartly Best Wishes- कृष्णा वेणी देसावतु , पूर्व एसपी झाबुआ

आशा न्यूज़ का ताजा प्रकाशित अंक मैंने दो तीन पहले ही पड़ा था आशा न्यूज़ पर प्रकाशित खबरों की सामग्री अद्भुत है , समाज के हर एक पहलु धर्म , अपराध , राजनीती जैसी हर श्रेणी की खबरों को इस समाचार पत्र में बखूबी प्रस्तुत किया गया है जो पाठको और समाज के हर वर्ग के लोगो के लिए नितांत आवश्यक है , समाचार पत्र की नयी शुरुवात लिए बधाई !!- रचना भदौरिया , एडिशनल एसपी झाबुआ

महज़ ३ वर्ष के अल्प समय में आशा न्यूज़ समूचे प्रदेश का उभरता और अग्रणी समाचार पत्र के रूप में आम जन के सामने है , मुद्दा चाहे सामाजिक ,राजनैतिक , प्रशासनिक कुछ भी हो, हर एक खबर का पूरा कवरेज और सच को सामने लाने की अतुल्य क्षमता निश्चित ही आगामी दिनों में इस आशा न्यूज़ के लिए एक वरदान साबित होगी, संपादक और पूरी टीम को हृदय से आभार और शुभकामनाएँ !!- संजीव दुबे , निदेशक एसडी एकेडमी झाबुआ

Contact Form

Name

Email *

Message *

E-PAPER
Layout
Boxed Full
Boxed Background Image
Main Color
#007ABE
Powered by Blogger.