Articles by "ऋषभदेव बावन जिनालय"

#Measles-Rubella 15 अगस्त 26 january 26 जनवरी abvp Administrative Admission-Alert b4 cinema balaji dhaam bhagoria bhagoria festival jhabua bjp cbse result cinema hall jhabua city crime cultural education election Epaper events Exclusive Famous Place Gallery gopal mandir jhabua Health and Medical jhabua jhabua crime Jhabua History Jobs Kadaknath matangi Meghnagar MISSING- ALERT Movie Review MPEB MPPSC National Body Building Championship India New Year NSUI petlawad politics post office ram sharnam jhabua Ranapur religious religious place Road Accident rotary club sd academy social sports thandla tourist place Video Visiting Place Women Jhabua अखिल भारतीय किन्नर सम्मेलन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अखिल भारतीय साहित्य परिषद अंगूरी बनी अंगारा अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस अपराध अरोडा समाज अल्प विराम कार्यक्रम अवैध शराब आईसेक्ट आंगनवाड़ी आचार संहिता आजाद जयंती आदित्य पंचोली आदिवासी गुड़िया आनंद उत्सव आपकी सरकार आपके द्वार आबकारी विभाग आयुष्मान भारत योजना आरटीओं आर्ट आॅफ लिविंग शिविर आर्मी भर्ती आलेख आवंला नवमी आंवला नवमी आसरा पारमार्थिक ट्रस्ट इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक इनरव्हील क्लब ईद उत्कृष्ट सड़क उपचुनाव उमापति महादेव ऋषभदेव बावन जिनालय एकात्म यात्रा एनएसयूआई एमपी पीएससी कड़कनाथ मुर्गा कन्या भोज कम्प्यूटर ऑपरेटर महासंघ कलाल समाज कलावती भूरिया कलेक्टर कलेक्टर कार्यालय कल्लाजी महाराज कवि सम्मेलन कांग्रेस कांतिलाल भूरिया कार्तिक पूर्णिमा कालिका माता मंदिर कावड़ यात्रा किन्नर सम्मेलन कृषि कृषि महोत्सव कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ केरोसीन कैथोलिक डायसिस झाबुआ क्रिकेट टूर्नामेंट क्रिसमम क्षत्रिय महासभा खबरे अब तक खाद्य एवं औषधि विभाग खेडापति हनुमान मंदिर खेल गडवाड़ा गणगौर पर्व गणतंत्र दिवस गणेशोत्सव गर्मी गल पर्व गायत्री शक्तिपीठ गुड़िया कला झाबुआ गुड़ी पड़वा गेल झाबुआ गोपाल पुरस्कार गोपाल मंदिर झाबुआ गोपाष्टमी गोपेश्वर महादेव गोवर्धननाथ मंदिर गौशाला ग्रामीण बैंक घटनाए चक्काजाम चर्च चुनाव जन आशीर्वाद यात्रा जनसुनवाई जन्माष्टमी जय आदिवासी युवा संगठन जय बजरंग व्यायाम शाला जयस जवाहर नवोदय विद्यालय जिला चिकित्सालय जिला जेल जिला विकलांग केन्द्र झाबुआ जिला सहकारी बैंक जीवन ज्योति हॉस्पिटल जैन मुनि जैन सोश्यल गुुप ज्योतिष परामर्श शिविर झकनावदा झाबुआ झाबुआ इतिहास झाबुआ का राजा झाबुआ पर्व झाबुआ पुलिस झाबुआ रियासत झाबूआ झूलेलाल जयंती डाकघर डीआरपी लाईन तुलसी विवाह तेली समाज थांदला दशहरा दस्तक अभियान दिल से कार्यक्रम दीनदयाल उपाध्याय पुण्यतिथि दीपावली देवझिरी धरना प्रदर्शन धार्मिक धार्मिक स्थल नक्षत्र वाटिका नगर परिषद नगरपालिका परिषद झाबुआ नरेंद्र मोदी नवरात्री नवरात्री चल समारोह नागरिकता संशोधन नि:शुल्क स्वास्थ्य मेगा शिविर निर्मला भूरिया निर्वाचन आयोग पथ संचलन परिवहन विभाग पर्यटन स्थल पल्स पोलियो अभियान पाक्सो एक्ट पारा पावर लिफ्टिंग पिटोल पीएचई विभाग पेटलावद पेंशनर एसोसिएशन पैलेस गार्डन पोलीटेक्निक काॅलेज प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय प्रतिभा सम्मान सम्मारोह प्रतियोगी परीक्षा प्रधानमंत्री आवास योजना प्रशासनिक फुटतालाब फेंसी ड्रेस फ्लैग मार्च बजरंग दल बस स्टैंड बहादुर सागर तालाब बामनिया बारिश बाल कल्याण समिति बालिका सशक्तिकरण अभियान बेटी बचाओं अभियान बोहरा समाज ब्राह्राण समाज ब्लू व्हेल गेम भगोरिया पर्व भगोरिया मेला भगौरिया पर्व भजन संध्या भर्ती भागवत कथा भाजपा भारत निर्वाचन आयोग भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान भारतीय जीवन बीमा निगम भारतीय जैन संगठना भारतीय थल सेना भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा भावांतर योजना मध्यप्रदेश टूरिज्म अवार्ड मध्यप्रदेश पर्यटन विभाग मध्यप्रदेश बाल अधिकार संरक्षण आयोग मनकामेश्वर महादेव मल्टीप्लेक्स सिनेमा महात्मा गांधी महाशिवरात्रि महिला आयोग महिला एवं बाल विकास विभाग माछलिया घाट मिशन इन्द्रधनुष मीजल्स रूबेला मुख्यमंत्री उत्कृष्टता पुरस्कार मुख्यमंत्री कन्यादान योजना मुख्यमंत्री कप मुख्यमंत्री महिला सशक्तिकरण योजना मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चोहान मुस्लिम समाज मुहर्रम मूवी रिव्यु मेघनगर मेरे दीनदयाल सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता मैराथन दौड़ मोड़ ब्राह्मण समाज मोदी मोहल्ला मोहनखेड़ा यातायात युवा दिवस युवा शक्ति संगठन यूनीसेफ योग शिविर रक्तदान रंगपुरा रंगोली रतलाम राजगढ़ राजगढ नाका राजनेतिक राजपुत समाज राजवाडा चौक राज्यपाल राणापुर राम शरणम् झाबुआ रामशंकर चंचल रामा रायपुरिया राष्ट्रीय एकता दिवस राष्ट्रीय खेल दिवस राष्ट्रीय पोषण मिशन राष्ट्रीय बालरंग राष्ट्रीय बॉडी बिल्डिंग चैम्पियनशीप राष्ट्रीय मानवाधिकार राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ रेल्वे स्टेशन रोग निदान रोजगार मेला रोटरी क्लब लक्ष्मीनगर विकास समिति लाडली शिक्षा पर्व लोक सेवा केन्द्र लोकरंग शिविर वनवासी कल्याण परिषद वरदान नर्सिंग होम वर्ल्ड रिकॉर्ड वाटसएप विजय दिवस विद्युत प्रदाय विधायक विधायक शांतिलाल बिलवाल विश्व आदिवासी दिवस विश्व उपभोक्ता संरक्षण दिवस विश्व विकलांग दिवस विश्व हिन्दू परिषद वेटलिफ्टिंग वेलेंटाईन डे वैश्य महासम्मेलन व्यापारी प्रीमियर लीग शरद पूर्णिमा शहीद सैनिक शारदा विद्या मंदिर शासकीय महाविद्यालय झाबुआ शिक्षा शिवगंगा शिविर शौर्य दिवस श्रद्धांजलि सभा श्रावण सोमवार श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर सकल व्यापारी संघ संगीत सत्यसाई सेवा समिति सदभावना दौड संपादकीय सर्वब्राह्मण समाज साज रंग झाबुआ सामाजिक सामूहिक सूर्य नमस्कार सारंगी सांसद सांस्कृतिक साहित्य सिंधी समाज सीपीसीटी परीक्षा सुर श्री स्थापना दिवस स्वच्छ भारत मिशन स्वतंत्रता दिवस हज हजरत दीदार शाह वली हनुमान जयंती हरितालिका तीज हरियाली अमावस्या हाथीपावा हाथीपावा महोत्सव हिन्दू नववर्ष होर्डिग्स होली झाबुआ
Showing posts with label ऋषभदेव बावन जिनालय. Show all posts

अष्ट प्रभावक ने आचार्य श्रीमद् विजय जयंतसेन सूरीजी की मांगलिक

झाबुआ। स्थानीय श्री ऋषभदेव बावन जिनालय स्थित पोषध शाला भवन में 22 सितंबर, रविवार को सुबह धर्मसभा में समाजजनों को प्रवचन देते हुए झाबुआ जिले की माटी के सपूत प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा ने बताया कि छमस्त सात कारणों से पहचाना जाता है। जो हिंसा करता है, झूठ बोलता है, चोरी का माल लेता एवं देता है, शब्द-रूप-रस गंध का आस्वाद लेता है, पूजा-सत्कार और सम्मान की चाहना रखता है, पापकारी प्रवृत्ति निरंतर रखता है और जीवन में कथन और करनी जिसकी अलग होती है, ये सांत कारण आगम में थानांद सूत्र में कहे गए है। प्रन्यास प्रवर ने बताया कि श्रीयक ने जैसे मंत्री पद को ठुकराया ओर अपने बड़े भाइ्र्र की इज्जत और मान-सम्मान के लिए सम्मान भी ठुकरया। ठीक उसी प्रकार इस संसार में आने और जाने के दो मार्ग ज्ञानियों ने बताएं है। एक तरफ दर्द तो दूसरी ओर लाचारी, ये जो समझे वहीं आराधक और ज्ञानियो की दृष्टि में पूजनीय कहलाता है। 
मांगलिक फरमाई गई
प्रवचन बाद अष्ट प्रभावक आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ने रविवार को मांगलिक फरमाते हुए बताया कि जैनाचार्य पुण्य जयंतसेन सूरीष्वजी मसा ने जिस प्रकार गच्छ वृद्धि हेतु अपना जीवन पुण्य रूप से खपाया और गुरू सेवा के लिए सदैव तत्पर रहे, उसी तरह हमे भी अपने जीवन को गुरू भक्ति में लगाकर धन्य बनाना चाहिए। मांगलिक का समाजजनों ने श्रवण कर धर्म लाभ लिया।
मप्र के अलग-अलग शहरों से गुरू भक्त दर्शन हेतु पहुंचे
रविवार को धर्मसभा में झाबुआ जिले के रानापुर श्री संघ, खट्टाली श्री संघ, कड़ौदकला श्री संघ के सदस्यों ने विशेष रूप से पधारकर धर्म सभा का लाभ लिया। धर्मसभा में रानापुर श्री संघ की ओर से सुरेश समीर ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस दौरान कड़ौदकला श्री संघ की ओर से अष्ट प्रभावक एवं प्रन्यास प्रवर से कड़ौदकला पधारने हेतु विनती भी की गई। इसके साथ ही सभा में विशेष रूप से मप्र के रतलाम, खाचरौद, महिदपुर एवं उज्जैन से भी बड़ी संख्या में गुरूभक्तों ने उपस्थित होकर अष्ट प्रभावक एवं प्रन्यास प्रवर के दर्शन-वंदन का लाभ लिया।

Jhabua News-जो दर्द और लाचारी को समझता है, वह आराधक और ज्ञानियों की दृष्टि में पूजनीय कहलाता है - प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी

अष्ट प्रभावक के 50वें संयम दिवस के उपलक्ष में प्रथम दिन जिनेष्वर पूजन एवं दूसरे दिन श्री धन्ना शालिभद्रजी की 99 पेटियों का हुआ कार्यक्रम

झाबुआ। जैन धर्म दीवाकर, राजस्थान केसरी, अष्ट प्रभावक नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ‘नवल’ के 50वें संयम अनुमोदनार्थ त्रि-दिवसीय महोत्सव का आयोजन श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में किया जा रहा है। जिसमें प्रथम दिन मंदिर में पंच जिनेष्वर पूजन एवं दूसरे दिन श्री धन्ना शालिभद्रजी की 99 पेटियों का भव्य कार्यक्रम संपन्न हुआ। जानकरी देते हुए चातुर्मास समिति के अध्यक्ष कमलेष कोठारी एवं समाज रत्न सुभाष कोठारी ने बताया कि अष्ट प्रभावक के 50वे संयम अनुमोदनार्थ त्रि-दिवसीय महोत्सव के तहत बावन जिनालय में 6 सितंबर, शुक्रवार को सुबह 9 बजे से श्री पंच जिनेष्वर पूजन हुई। जिसमें जीवदया ज्ञान भंडार का लाभ हीराचंद भगवानजी फाला मुथा परिवार आहोर हॉल मुकाम कल्याण महाराष्ट्र ने लिया। महापूजन में बड़ी संख्या में समाजजन शामिल हुए। दोपहर 12 बजे मूर्तिपूजक श्री संघ एवं बाहर से पधारे अतिथियों के साधर्मी वात्सल्य का आयोजन का हुआ। दोपहर 2 बजे से भव्य चौवीसी कार्यक्रम विविध लाभार्थियों के निमित्त रखा गया एवं रात्रि 8 बजे से भक्ति संध्या हुई। तीन दिनों भक्ति संध्या एवं आयोजन का संचालन देवेश जैन एवं पार्टी (मोहनखेड़ा) इंदौर द्वारा किया जा रहा है।
श्री शालिभद्रजी की 99 पेटियों का हुआ भव्य कार्यक्रम
7 सितंबर, शनिवार को सुबह 9 बजे श्री शालिभद्र की 99 पेटियों का भव्य कार्यक्रम पोषध शाला भवन में रखा गया। उक्त कार्यक्रम आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा एवं प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजजी मसा की निश्रा में हुआ। इस अवसर पर अष्ट प्रभावक नरेन्द्र सूरीजी ने समाजजनों को बताया कि जिस प्रकार पुण्य की पराकाष्टा स्वरूप पुण्य के फल को भोगने के लिए जैसे शालिभद्र ने पुण्य बांधा था, वैसे पुण्य जीवन में हमे करना चाहिए। हमे अपने आगामी भव को सुधारने के लिए पुण्य के कार्य करना आवष्यक है। साथ ही बताया कि जैसे शालिभद्र ने देवलोक से आने वाली 99 पेटियों का जीवन में उपभोग किया और क्षण मात्र मंे छोड़ दिया, वैसे ही हम को भी संसार रूपी बेडि़यों को छोड़कर दीक्षा ग्रहण कर मोक्ष मार्ग की ओर से अग्रसर होना है। कार्यक्रम में शालिभद्र की 99 पेटियों की बोलियां लगाई गई, जो समाज के अलग--अलग लोगों ने ली। यह कार्यक्रम सत्त 4 घंटे तक चलता रहा। बाद दोपहर में सकल जैन श्री संघ का साधर्मी वात्सल्य का आयोजन हुआ। दोपहर 2 बजे विशेष कार्यक्रमों में गुरूदेव श्री देवेन्द्र विजयजी मसा की अष्टप्रकारी पूजा एवं चौवीसी हुई। रात्रि 8 बजे पुनः भक्ति संध्या का आयोजन हुआ। 
देश के विभिन्न शहरों से आचार्य श्रीजी के दर्शन हेतु पहुंचे समाजजन
आचार्य श्रीजी का संयम दिवस होने उनके दर्षन-वंदन हेतु देश के पुणे, बैंगलोर, मुंबई, पालगढ़, दुर्ग, चेन्नई, आचार्य श्रीजी के ग्रह नगर सियाणा, आहोर, सिकंदरम, गुजरात के बड़ौदा, सूरत, अहमदाबाद सहित कई अन्य शहरों और क्षेत्र से अष्ट प्रभावक नरेन्द्र सूरीजी एवं प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी के दर्षन का लाभ लेने समाजजनन पहुंचे। जिनके साधर्मी वात्सल्स का भी आयोजन बावन जिनालय में ही रखा गया। 
गुण किर्तन सभा होगी 
चातुर्मास समिति के सचिव अषोक रूनवाल ने बताया कि त्रि-दिवसीय महोत्सव के अंतिम दिन 8 सितंबर, रविवार को सुबह 8 बजे से अष्ट प्रभावक नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा की गुण किर्तन सभा एवं संयम उपकरण वंदना वाणी होगी। दोपहर 12 बजे मूर्तिपूजक श्री संघ एवं बाहर से पधारे समस्त अतिथियों का साधर्मी वात्सल्य होगा। दोपहर 2 बजे विभिन्न लाभार्थियों द्वारा चौवीसी एवं रात्रि 8 बजे से भव्य भक्ति संध्या का आयोजन रखा गया है।

Jhabua News- झाबुआ में प्रथम बार बावन जिनालय में हुआ श्री धन्ना शालिभद्रजी की 99 पेटियों का भव्य कार्यक्रम

पर्व के दोरान धर्म एवं तप-आध्यात्म का रहेगा माहौल

झाबुआ । श्री ऋषभदेव बावन जिनालय मे पर्यूषण पर्व सोमवार से प्रारम्भ होगा । आचार्य श्री नरेंद्रसुरीश्वरजी मसा और पन्यास प्रवर मुनि श्री जिनेन्द्र विजय जी की पावन निश्रा मे अनेक कार्यक्रम होंगे । श्री संघ पदाधिकारियो और चातुर्मास समिति की बेैठक आचार्य श्री की निश्रा में सम्पन्न हुई तदनुसार प्राचीन तीर्थ श्री ऋषभ देव बावन जिनालय मे महापर्व पर्यूषण प्रतिवर्ष अनुसार धार्मिक उल्लास के साथ इस वर्ष भी मनाने का निर्णय शुक्रवार को हुई बेैठक मे लिया गया । श्री संघ अध्यक्ष संजय मेहता और चातुर्मास समिति अध्यक्ष कमलेश कोठारी ने बताया कि सोमवार से प्रारम्भ हो रहे पर्यूषण पर्व पर प्रतिदिन भक्तामर पाठ प्रभु पूजन, व्याख्यान और प्रतिक्रमण तथा प्रभू की अंग रचना की जायेगी ।  
       प्रथम तीन दिवस अष्टांनीका प्रवचन और चौथे दिवस से कल्प सूत्र का बचन होगा । 5 दिवसीय प्रभु महावीर का जन्म कल्याणक वाचन समारोह होगा तथा प्रभु की शोभा यात्रा नगर मे निकलेगी । छठवें दिवस श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर मे प्रभु महावीर का जन्म कल्याणक समारोह आचार्य श्री की नीश्रा मे आयोजित होगा। अंतिम दिवस 2 सितम्बर को सवंत्सरी पर्व मनाया जायेगा जिसमे समस्त श्रावकों श्राविकाओ द्वारा प्रतिक्रमण कर समस्त जीवों से वर्ष भर मे हुई गलतियों के लिये क्षमा याचना की जायेगी । श्री कोठारी ने बताया की आचार्य श्री का 50 वां दीक्षा दिवस भी धूम धम से मनाये जाने का निर्णय भी लिया गया । 6 से 8 सितम्बर तक धार्मिक आयोजन के साथ स्वर्ण जयंती महोत्सव होगा । बैेठक मे यह भी निर्णय लिया गया कि प्रभु की अंग रचना सामूहिक रुप से संघ सदस्यों द्वारा करवायी जायेगी । बैठक के अंत मे आभार श्री संघ प्रवक्ता डॉ.प्रदीप सांघवी ने माना ।

jhabua news- जैन समाज के पर्यूषण पर्व सोमवार से होगें शुरू



नवकार महामंत्र के जाप से असंभव कार्य भी संभव हो जाते है - अष्ट प्रभावक नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा

झाबुआ। जैन तीर्थ श्री ऋषभदेव बावन जिनालय के पोषध शाला भवन में चल रहे प्रवचनों में 8 अगस्त, गुरूवार को सुबह राजस्थान केसरी, अष्ट प्रभावक आचार्य देवेश श्रीमद् विजय नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ने धर्मसभा में बताया कि श्रावण मास में वर्तमान चैबीसी के 8 तीर्थंकरों के नव कल्याणक आते है। नवकार महामंत्र की आराधना के अंतर्गत दूसरे दिन पारसनाथ भगवान सिद्ध बने। 
   आचार्य श्रीजी ने बताया कि श्रावण सुदी आठम को नवकार के 9 पद एवं नव कल्याणक, अक्षरों की दृष्टि से नवकार महामंत्र में सबसे छोटा सिद्ध पद है, परन्तु गुण में बड़ा है। सिद्धाणं के पांच अक्षर पंचम गति के परिचायक है। इसमें अशरीरी आरूपी आत्मा सिद्ध षिला में जाती है। नवकार महामंत्र भव भ्रमण से रक्षा हेतु छत एवं छतरी के समान है। आचार्य श्रीजी ने आगे कहा कि परिवर्तन, काल, प्रकृति में कभी भी बदलाव नही होता है, उसी प्रकार नवकार महामंत्र शाष्वत महामंत्र है। व्यवहार-विनय से अरिहंत का उपकार है, परन्तु निष्चय से सिद्ध का उपकार बड़ा है। लोगस्य सूत्र एवं सिद्धाणं में सिद्ध पद को याद किया गया है। भाव भक्ति से जुड़ना यह नवकार महामंत्र में समाहित है। मोक्ष मार्ग की प्ररूपना करने वाले अरिहंत हमारे आराध्य है, सिद्ध हमारा लक्ष्य है। 
मन को शांत रखने हेतु अरिहंत का करे ध्यान
महामंत्र में कोई व्यक्तिवाद नहीं है, अरिहंत शब्द में अर्थ छुपा हुआ है। अरिहंत अस्तित्व आत्मा की रिजुमति अर्थात सरल परिणाम। इंद्रियों में विषय विकार की विकृति जब बढ़ती है, तब आत्मा धर्म से दूर हो जाती है। पांच इंद्रियों में परमेष्ठी को बिठाने की बात आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी ने विषेष रूप से कहीं। मन को शांत रखने हेतु अरिहंत का ध्यान एवं सिद्ध की स्थापना आंख में करना चाहिए।
जीवन में क्रोध कभी नहीं आना चाहिए
आचार्य श्रीजी ने आगे कहा कि धर्म ध्यान में क्रोध विकसित करता है। अगर क्रोध सोमवार को आए तो कहना आज चंद्रवार है, इसलिए आज नहीं आना। मंगलवार को आए तो कहना मंगल ही मंगल है, क्रोध रूपी दंगल का आज स्थान नहीं। बुधवार को जब आए तो बुद्धि का हरण करता है, गुरूवार को आए तो गुरू के आषीर्वाद में कमी लाता है। शुक्रवार को शुक्रिया अदा करने का समय है, इसलिए क्रोध शुक्रवार को भी नहीं आना चाहिए। शनिवार जीवन में शनि खतरनाक है, क्रूर से दूर रहना चाहिए, इसलिए आज क्रूर क्रोध नहीं आना चाहिए और आप सब जानते है रविवार को तो छुट्टी होती है, इसलिए जीवन में क्रोध कभी नहीं आना चाहिए।
नवकार में व्यक्ति नहीं गुणों की होती है पूजा
आचार्य श्रीजी ने बताया कि सिद्धाणं के लाल वर्ण से सर्व कार्य सिद्ध होते है। नवकार में व्यक्ति नहीं गुणों की पूजा होती है। नाम और मोह को जीतने के लिए सिद्ध की आराधना जीवन में जरूरी है। नवकार महामंत्र के जाप से असंभव कार्य भी संभव हो जाते है। अष्ट प्रभावक ने बताया कि मिथ्या, दुर्भाव और दूर विचार को दूर करने के लिए नवकार के एक-एक पद में 1008 विद्या समाहित होती है।
नवकार महामंत्र के आराधकों के एकासने के लाभार्थी का हुआ बहुमान
धर्मसभा का संचालन श्री नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास समिति के अध्यक्ष कमलेष कोठारी ने किया। धर्मसभा बाद दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा की आरती एवं पूजा का लाभ चातुर्मास समिति के वरिष्ठ एवं समाज रत्न सुभाषचन्द्र कोठारी ने लिया। समिति के वरिष्ठ संतोष रूनवाल निलेष लोढ़ा एवं जितेन्द्र जैन ने बताया कि चातुर्मास में 44 दिवसीय भक्तामर महातप के साथ नौ दिवसीय नवकार महामंत्र की आराधना भी  7 अगस्त से आरंभ हो गई है। जिसमें 100 से अधिक आराधक श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना कर रहे है। जिनके गुरूवार को एकासने का लाभ प्रदीप, प्रकाषचन्द्र जैन (कटारिया) परिवार ने लिया। जिनका बहुमान चातुर्मास समिति की ओर से समाज रत्न सुभाष कोठारी ने किया। दोपहर में सभी आराधकों ने एकासने का लाभ लिया।

jhabua news-नवकार महामंत्र के आराधकों के एकासने का हुआ आयोजन


श्री नवकार महामंत्र की आराधना निमित्त शकुंतला रूनवाल परिवार ने मानव सेवा का किया कार्य

झाबुआ। श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास के तहत चल रहीं श्री नमस्कार महामंत्र की आराधना के निमित्त सप्तमी पर्व पर आराधक श्रीमती शकुंतला रूनवाल एवं रोटरेक्ट क्लब अध्यक्ष रिंकू रूनवाल की ओर से मानव सेवा का कार्य करते हुए जिला चिकित्सालय एवं प्रसूति चिकित्सालय में रोगियों एवं उनके परिजनों को फल-बिस्कीट का वितरण किया गया। उक्त कार्यक्रम में अतिथि के रूप में वरिष्ठ समाजसेवी एवं वरिष्ठ रोटेरियन यशवंत भंडारी उपस्थित थे।
जानकारी देते हुए रिंकू रूनवाल ने बताया कि पहले सभी महिलाओं द्वारा सप्तमी पर्व होने से महावीर बाग पर दर्शन-वंदन किए गए। बाद यहां से शीतल राठौर, मेघा राठौर, श्रद्धा राठौर, रिना एवं रिता राठौर, रीतू जैन, रजनी रूनवाल तथा राखी जैन आदि द्वारा सर्वप्रथम प्रसूति चिकित्सालय पहुंचकर यहां भर्ती महिलाओं से उनकी कुशलक्षेम पूछते हुए महिला एवं शिशुओं को फल-बिस्कीट का वितरण किया। बाद जिला चिकित्सालय के शिशु वार्ड में भर्ती सभी बच्चों को भी फल-बिस्कीट वितरित कर उनके परिवारजनो से सुख-साता पूछी। अस्पताल प्रबंधन ने इस कार्य की सराहना करते हुए आयोजकों को धन्यवाद ज्ञापित किया।

जिला चिकित्सालय एवं प्रसूति चिकित्सालय में रोगियों एवं परिजनों को किया फल-बिस्कीट का वितरण जिला चिकित्सालय एवं प्रसूति चिकित्सालय में रोगियों एवं परिजनों को किया फल-बिस्कीट का वितरण

अष्ट प्रभावक ने भक्तामर स्त्रोत की पांचवी गाथा का किया वर्णन

झाबुआ। स्थानीय श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में श्री नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास का आयोजन अष्ट प्रभावक परम् पूज्य आचार्य देवेष श्रीमद् विजय नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा ‘नवल’ एवं प्रन्यास प्रवर श्री जिनेन्द्र विजयजी मसा ‘जलज’ की निश्रा में हो रहा है। आचार्य द्वारा प्रतिदिन अपने प्रवचनों में समाजजनों को धर्म के मार्ग पर प्रषस्त करते हुए इन दिनों 44 दिवसीय भक्तामर महातप चलने से भक्तामर स्त्रोत की महिमा का बखान किया जा रहा है। प्रतिदिन प्रवचनांं का सैकड़ों की संख्या में समाज के महिला-पुरूष लाभ ले रहे है।
1 अगस्त, गुरूवार को सुबह 9 बजे से बावन जिनालय के पोषध शाला भवन मे आचार्य देवेश ने प्रवचन देते हुए भक्तामर स्त्रोत की पांचवी गाथा का वर्णन किया। जिसमें आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी ने मृत्यु लोक का विशेष बखान किया। पूज्य श्रीजी ने मिग और मिगेन्द्र का उदाहरण देते हुए कहा कि भगवान का आश्रय, आधार और आलंबन संसार से तिराने में सहायक होता है। संसार चक्र में काल चक्र और कर्म चक्र है, परन्तु धर्म चक्र का सहारा बहुत जरूरी है। नरेन्द्र सूरीजी ने ओध संज्ञा, लोक संज्ञा और मूण दषा का वर्णन किया। उन्हांने बताया कि तीस आरे में मल में प्रथम तीर्थंकर का जन्म हुआ, तब से व्यवहार राशि की परंपरा चली। 
जीवों के प्रति द्वेष भाव नहीं रखना चाहिए
आचार्य श्रीजी ने दुर्लभ मनुष्य जन्म प्राप्त करने के लिए 10 दुर्लभ दृष्टांत का वर्णन किया एवं कहा कि यह जिन शासन ग्रंथ से निर्ग्रंथ बनने के लिए, संसारी से समभावी बनने के लिए, चित्त को आकर्षित करने के लिए एवं केंद्रीय करने के लिए परम् आलंबन है। आचार्य ने बताया कि जिन वाणी अनुराग, मिथ्यात्व से विपरित दृष्टी जगाती है। हमे जीवां से द्वेष भाव कभी नहीं रखना चाहिए। अंत में आचार्य श्रीजी ने आपके पास क्या है और आप क्या साथ ले जाएंगे, इस पर भी उद्बोधन दिया। 
आरएन जैन ने लिया गुरूदेव की आरती और एकासने का लाभ
प्रवचन बाद दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा की आरती एवं पूजन का लाभ आरएन जैन परिवार (नवकार मेचिंग) ने लिया। साथ ही एकासने का भी लाभ लेते हुए दोपहर में सभी तपस्वियों को एकासने जैन परिवार द्वारा करवाए गएं। वहीं आगामी 15 दिनों तक बहुमान के लाभार्थी श्री नवल स्वर्ण जयंती चातुर्मास समिति के वरिष्ठ समाज रत्न सुभाषचन्द्र कोठारी परिवार रहेगा। धर्म सभा का संचालन चातुर्मास समिति के अध्यक्ष कमलेश कोठारी एवं सचिव अशोक रूनवाल ने किया। धर्मसभा बाद लाभार्थी परिवारों ने प्रन्यास प्रवर जिनेन्द्र विजयजी मसा के दर्शन-वंदन भी किए।

Jhabua News- संसार चक्र में काल चक्र और कर्म चक्र है, परन्तु धर्म चक्र का सहारा अत्यंत जरूरी है - आचार्य नरेन्द्र सूरीष्वरजी मसा


भीषण गर्मी से मुक प्राणी के लिये कूलर लगाये जायेगे

झाबुआ। परम पूज्य गच्छाघिपति ज्योतिष सम्राट जीव प्रेमी श्रीमद विजय श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी म. सा. का 62 वा जन्म दिन ऋषभ भक्तों ने सद-गुरू गौ शाला पर मनाया। इस अवसर पर विटामीन मुक्त मिक्स दाल चूर्ण के साथ केल्षियम की विषेष खुराक गायों को दी गई। अंपग और बुढ़ी गायो के लिये विशेष परामर्श विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा लिया गया। भीषण गर्मी को देखते हुऐ भक्तों द्वारा जम्बो कूलर लगाने का निर्णय लिया जो की अति शीघ्र लगाये जायेगे। चन्दकान्ता नगीनलाल संजय काठी परिवार एवं श्रीमती श्यामुबाई रतनलाल मुकेश रूनवाल परिवार द्वारा 30 जुन तक मुक प्राणी के लिये स्पेशल आहार खिलाने का निर्णय लिया है।   
        इस अवसर पर वरिष्ठ समाज सेवी राजेन्द्र लालन, विरेन्द्र सकलेचा, नरेन्द्र पगारिया, मुकेश रूनवाल, संजय कुमार कांठी, रौनक घोड़ावात, श्रीमती समता कांठी, श्रीमती निर्मला पगारिया, श्रीमती सरोज सकलेचा, श्रीमती संघवी एवं वरिष्ठ समाजसेवीयो उपस्थित थे। उपस्थित समाज सेवियों ने समय-समय पर गौशाला पर अपनी सेवाये देने की शपथ भी ली। 

प. पू. आचार्य देवेश श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी म. सा. की जन्म जयन्ति गौशाला पर मनाई

गिरनार (गुजरात) की पहाड़ियों से लापता दिगंबर जैन संत मुदित सागरजी की तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांगदिगंबर जैन समाज झाबुआ ने महामहिम राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर प्रबल सिपाहा को सौंपा ज्ञापन

झाबुआ। बीती 23 जनवरी को परम् पूज्य आचार्य श्री 108 सुनिल सागरजी महाराज के संघस्थ मुनि श्री मुदित सागरजी महाराज प्रातः गिरनारजी की वंदना करने हेतु गए थे, जो पुनः नहीं लौटे, उनकी तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांग को लेकर देश में जगह-जगह दिगंबर जैन समाज द्वारा ज्ञापन सौंपे जाने के क्रम में ही झाबुआ में भी समाजजनों द्वारा मिलकर 30 जनवरी, बुधवार को दोपहर करीब 12.30 बजे कलेक्टोरेट पहुंचकर महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन कलेक्टर प्रबल सिपाहा को सौंपा गया। 
       सौंपे गए ज्ञापन में समाजजनों ने बताया कि परम् पूज्य आचार्य श्री 108 सुनिल सागरजी महाराज के संघस्थ मुनि श्री मुदित सागरजी महाराज गत 23 जनवरी को प्रातः गिरनारजी (गुजरात) की वंदना करने हेतु गए हुए थे, जहां से मुनिश्री वापस नहीं लौटे। जिससे पूरे देश में साधु-संत एवं जैन समाज व्यथित एवं व्याकुल है। ज्ञापन में बताया कि जैन समाज अल्पसंख्यक समाज है एवं समाज के धर्म गुरू, जो अहिंसा तथा विष्व शांति का संदेश देते है, ऐसे मुनि श्रीजी का 7 दिन तक पता नहीं चल पाना, प्रशासन की अकर्मण्यता का प्रतीक है। 22वें तीर्थंकर भगवान श्री नेमिनाथजी की मोक्ष स्थली गिरनारजी सिद्ध क्षेत्र पर गुजरात सरकार एवं प्रशासन की मिलीभगत से अवांछित तत्वों ने कई वर्षों से कब्जा जमाएं रखा है, ये आए दिन वंदना करने हेतु आने वाले साधु-संतों तथा जैन तीर्थ यात्रियों पर हमले करते रहते है, इन अवांछित तत्वों पर कार्रवाई की जाएं।   
उच्च स्तरीय जांच की मांग
ज्ञापन में समाजजनों ने मांग करते हुए कहा कि मुनिश्री मुदित सागरजी महाराज की शीघ्र खोज हेतु उच्च स्तरीय जांच की जाएं एवं अवांछित तत्वों को गिरनारजी की पहाड़ियों से हटाकर उनसे कड़ाई से पूछताछ की जाए। इस तरह के आदेश गुजरात सरकार एवं प्रशासन को देने की मांग समाजजनों ने महामहिम राष्ट्रपति से ज्ञापन के माध्यम से की है।
यह थे उपस्थित 
ज्ञापन सौंपते समय श्री 1008 शांतिनाथ दिगंबर जैन मंदिर दिंगंबर जैन समाज झाबुअ के अध्यक्ष भानुलाल  शाह, उपाध्यक्ष विरेन्द्रकुमार मोदी, सचिव रमेशचन्द डोषी, सह-सचिव विपिनकुमार जैन, कोषाध्यक्ष विजय शाह, व्यवस्थापक निलेश शाह, कार्यकारिणी सदस्यों में विमल दाणी, सुरेन्द्रकुमार मोदी, चन्द्रकांत पीठवा, शशिकांत कोठारी, प्रो. सुरेशचन्द्र जैन, मुकेश शाह, जयंतीलाल शाह, जयंतकुमार शाह, दिनेषकुमार शाह, अमित मिंडा, निर्मल डोषी, आशीष डोषी, महक मोदी, विरेन्द्र मोदी, शेखर जैन, अष्विन सोनटके, प्रदीप जैन निर्मल मोदी, मीडिया प्रभारी कु. भिमका डोषी, महिलाओं में महिला मंडल अध्यक्ष पुष्पा शाह, हंसा जैन, जयमाला कोठारी, बाला जैन, कोकिला डोषी, इंदिरा जैन, भावना जैन, मंजु जैन, प्रमोद जैन, पद्मा जैन, नूतन, सीमा, मीना, रूपमति जैन आदि उपस्थित थी।

गिरनार (गुजरात) की पहाड़ियों से लापता दिगंबर जैन संत मुदित सागरजी की तलाश हेतु उच्च स्तरीय जांच की मांग

झाबुआ। परमपूज्य पूण्य सम्राट आचार्य देवेश श्रीमदविजय जयंतसेन सूरिश्वरजी मसा के पट्टधर आचार्य देवेश श्रीमदविजय जसरत्नसूरिश्वरजी मसा आदि ठाणा का झाबुआ नगर में शुक्रवार को भव्य मंगल प्रवेश होगा । इस अवसर पर विशाल शोभा यात्रा एवं धर्मसभा का आयोजन किया गया हे। श्री संघ प्रवक्ता डा. प्रदीप संघवी ने बताया कि पूज्य आचार्य देवेश देवझिरी से प्रातः विहार करते हुए पधारेगें एवं कालिका माता मंदिर परिसर से पूज्य महाराजश्री का मंगल प्रवेश प्रातः 9-30 बजे से मंगल प्रवेश प्रारंभ होगा जो  नगर के विभिन्न मार्गो से होते हुए स्थानीय जेन तीर्थ बावन जिनालय पहूंचेगा । जहां पर विशाल धर्मसभा का आयोजन किया गया है । धर्मसभा के बाद साधर्मी वात्सल्य का आयोजन भी किया गया है । 
श्री संघ अध्यक्ष संजय मेहता,  बाबुलाल कोठारी, सुभाष कोठारी, राजा रुनवाल, जितेन्द्र जैन, राजेश महेता, अंतिम जैन, उल्लास जैन,  रिंकू रूनवाल मुकेश लोढा, आदि ने समाजजनों से इस भव्य कार्यक्रम में अधिक से अधिक संख्या में पधारने की अपील की है ।

श्रीमदविजय जसरत्नसूरिष्वरजी का मंगल प्रवेश, निकलेगी शोभायात्रा होगी विशाल धर्मसभा

जैन धर्म भक्त नही वरन भगवान बनने की कला सिखाता है

भगवान महावीर के जयकारों से नगर हुआ भक्तिमय

झाबुआ । श्री दिगंबर जैन समाज के श्री शांतिनाथ जिनालय में इन दिन तप,धर्म एवं ज्ञान की गंगा प्रवाहित हो रही है । समाज के आशीष डोसी ने जानकारी देते हुए बताया कि दिगंबर जैन समाज के चातुर्मास के साथ ही पवित्र पर्यूषण पर्व भादो शुक्ल पंचमी से प्रारंभ होकर चतुर्दशी तक चल रहे हे । जिसके तहत मंदिरजी पर पर्व का प्रतिदिन आयोजन हो रहा है । प्रतिदिन भगवानजी की प्रतिमाओं का सूर्योदय के साथ ही  मंत्रोच्चार के साथ पुरुष वर्ग द्वारा पावन अभिषेक करते हुए शांतिधारा अनुष्ठान किया जा रहा है । तत्पश्चात विधान पूजन बाहर से पधारे हुए पण्डितजी मुकेश शांस्त्री के मार्गदर्शन में किये जाने के साथ ही महिलाये एवं पुरूष वर्ग हर्षोल्लास के साथ धार्मिक अनुष्ठान एवं कार्यक्रमों मे बडी संख्या मे सहभागी हो रहे है । भक्ति भावना के साथ पर्व के दौरान रात्रि को संगीतमय आरती और तत्पश्चात पण्डित जी द्वारा धर्म के 10 लक्षणपर्व पर विशद विवेचना की जारही है । इस अवसर पर प्रतिदिन बच्चों द्वारा भी धर्माधारित कार्यक्रम प्रस्तुत कर नैतिक एवं धार्मिक संस्कार का अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया जारहा है । इसी कडी में स्थानीय श्री चन्द्रप्रभू नसियाजी में प्रतिदिन भगवानजी का अभिषेक, शातिधारा एवं पूजन का आयोजन किया जारहा है । 
           समाज की वरिष्ठ सदस्या श्रीमती पुष्पा विजय शाह ने जानकारी देते हुए बताया कि पर्यूषण पर्व के छठवें दिन संयम धर्म की पूजा विधि विधान से  मंदिरजी एवं नसियाजी में की गई । सुगध दशमी का पर्व समाजजनों ने पूरी भक्ति भावना के साथ मनाया । उक्त पर्व  जीवन के  दुष्कर्मों को जला कर धूपसी महक लाने की शिक्षा देता है । इसी कडी में श्री शांतिनाथ मंदिर एवं नसियाजी मंदिर में सायंकाल 5 बजे से सामूहिक धुप खेने का कार्यक्रम आयोजित किया गया तत्पश्चात आरती एवं भक्ति का आयोजन हुआ । 
            इस अवसर पर विशाल चल समारोह निकाला गया जिसमे अहिंसा परमा धर्म... जैनम जयति शासनम, महावीर स्वामी की जय जय कार से पूरा वातावरण भक्तिमय हो गया । चल समारोह मंदिर जी से नसिया तक पहूंचा जहां धुप खेने के बाद  चन्द्रप्रभू चालिसा एवं महा मंगल आरती की गई । उक्त पर्व आत्मा की शक्ति द्वारा आत्मा को प्राप्त कर स्वयं में लीन हो जाने का संदेश देता है । जैन धर्म में बताये गये आठ कर्म को नष्ट कर मौक्ष प्राप्ति का मार्ग प्राप्त करना ही मुख्य लक्ष्य होता है । इन कर्मो को अग्नि में जला कर भस्म कर आत्मसात होने  के लिये  जैन धर्म में सुगंध दशमी को एक पर्व के रूप  में हर्षोल्लास के साथ समग्र समाज ने भक्ति भाव से मनाया । जैन धर्म भक्त नही वरन भगवान बनने की कला सिखाता है । प्रतिदिन दिगंबर जैन शांतिनाथ मंदिर में धार्मिक आयोजनों में समग्र समाज के श्रावक श्राविकाये भक्ति भावना के साथ सहभागी हो रहे  है ।


झाबुआ। आॅल इंडिया जैन माइनाॅरिटी फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललित गांधी की सहमति एवं राष्ट्रीय सचिव संदीप भंडारी, राष्ट्रीय संयुक्त मंत्री सौरभ भंडारी तथा मप्र अध्यक्ष उमेश जैन की अनुशंसा पर प्रदेश महिला विंग प्रमुख श्वेता भंडारी द्वारा झाबुआ की श्रीमती सपना जयेश संधवी को फेडरेशन का महिला विंग का झाबुआ जिला प्रमुख मनोनीत किया गया है।
सपना संघवी आॅल इंडिया जैन माइनाॅरिटी फेडरेशन की जिला प्रमुख मनोनीत-Sappana-Sanghvi-All-India-Jain-Minority-Federation-District-Head-Nominated
       श्वेता भंडारी द्वारा सपना संघवी से आशा व्यक्त की गई है कि वे जैन फेडरेशन में जिले में महिलाओं के हितार्थ कार्य करेगी एवं समय-समय पर विभिन्न गतिविधियों का आयोजन कर महिलाओं को सषक्त एवं जागरूक बनाने में अपनी भूमिका का निर्वहन करेगी। श्रीमती संघवी के उक्त मनोनयन पर उन्हें फेडरेशन के सभी प्रादेशिक पदाधिकारियों के साथ अन्य शुभेच्छुजनों द्वारा शुभकामनाएं प्रेषित की गई है।

आचार्य श्री सुयष सूरिष्वरजी की निश्रा में होगा भव्य आयोजन

झाबुआ । श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमार्थिक ट्रस्ट देवझिरी के तत्वधान में पवित्र तीर्थ देवझिरी में 29 व 30 अप्रेल लब्धी पूर्णिमा वैशाख पूर्णि के पावन अवसर पर पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पावन निश्रा में दो दिवसीय माणीभद्र वीर हवन पूजन का धार्मिक आयोजन किया गया है । श्वेताम्बर जैन श्री संघ के संरक्षक सोहनलाल कोठारी ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रथम तीर्थंकर भगवान श्री आदिनाथ प्रभू के तीर्थ क्षेत्र देवझिरी में परम पूज्य आचार्य श्री सुयश सूरिश्वरजी मसा की पान निश्रा में श्री माणरभद्र वीर अष्ठम आहुति हवन पूजन महोत्सव का लब्धी पूर्णिमा के दिन 29 व 30 अप्रेल को दो दिवसीय महामंगलकारी कार्यक्रम आयोजित होगें 29 अप्रेल को प्रातः 5-30 बजे से भक्ताबर स्त्रोत का मंगलपाठ, 7-30 बजे से नवकारसी, 8-30 बजे से पूज्य आचार्य श्री सुयशसूरिश्वरजी का मंगल प्रवेश व मांगलिक, 11-30 बजे से श्री आदिनाथ पंच कल्याणणक पूजन एवं सायंकाल 5 बजे स्वामी भक्ति का आयोजन होगा । 
     30 अप्रेल सोमवार को प्रातः 5-30 बजे भक्तांबर स्त्रोत का मंगलपाठ, प्रातः 7 बजे अभिशेक एवं पूजन, एवं इसके बाद नवकारसी,प्रातः 8 बजे स्नात्र पूजन, के बाद पूज्य सुयशसूरीश्वरजी मसा के प्रवचन, प्रातः 10 बजे श्री नवपद पूजन, प्रातः 11 बजेसे स्वामी वात्सल्यका आयोजन होगा  विधिकारक हर्षदभाई जैन इन्दौर द्वारा श्री माणीभद्र वीर हवन पूजन संपन्न कराया जावेगा  दापेहर 12-39 बजे कुंभ स्थापना, दीपक स्थापना व हवन मे आहूतियों के साथ हवन की पूर्णाहूति एवं आरती संपन्न होगी एवं सायंकान को स्वामीवात्सल्य होगा ।
   श्री आदिनाथ माणीभद्र पारमाािर्थक ट्रस्ट के निर्मल मेहता, यशवंत भंडारी, अशोक राठौर, बाबुलाल शाह,मनोहर भंडारी, धर्मचन्द्र मेहता, भरत बाबेल, ओच्छबलाल जैन, सुभाष कोठारी,  मनोहर मोदी संजय महेता, संजय कांठी, प्रतिक मेहता, वीरेन्द्र कोठारी, अनील रूनवाल रिंकू रूनवाल आदि ने तीर्थस्थल देवझिरी मे आयोजित दो दिवसीय धार्मिक आयोजन में सभी से सहभागी होने की अपील की है ।

Devjhiri-jain-tirth-remain-in-the-pilgrimage-for-two-days-देवझिरी जैन तीर्थस्थल मे दो दिनों तक बहेगी धर्म एवं आध्यात्म की गंगा

          वहीं श्री मेहता को श्वेतांबर जैन श्री संघ से धर्मचन्द मेहता, यशवंत भंडारी, भरत बाबेल, अनिल रूनवाल, प्रमोद भंडारी, संजय मेहता, रिंकू रूनवाल, श्री गौड़ी पार्श्वनाथ जैन मंदिर से तेजप्रकाश कोठारी, अशोक राठौर, महावीर बाग स्मारक समिति से कांतिलाल बाबेल, रमेश बाठिया, देवझिरी जैन तीर्थ से बाबुलाल कोठारी, निर्मल मेहता आदि ने बधाई दी है।  
प्रतीक मेहता जेएसजी इंदौर रीजन के सह-सचिव मनोनीत -Pratik-Mehta-JSG-Indore-Region-co-secretary-Nominated

         इस अवसर पर नगरपालिका अध्यक्ष मन्नूबेन डोडियार, श्वेतांबर जैन समाज की श्राविका चन्द्रकांताबेन कांठी, कविता मेहता एवं शकुंतला कोठारी ने भी उपस्थित होकर बच्चों को दिवाई पिलाने का कार्य किया। बुथ पर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती विजेता कोठारी एवं जीएनएम ललिता ललिता गुंडिया आदि ने अपनी सेवाएं दी। उक्त बुथ पर शाम 5 बजे 100 से अधिक बच्चो को दवाई पिलाने का कार्य हुआ।


ऋषभदेव बावन जिनालय के बाहर बच्चों को दवाई पिलाते नपा अध्यक्ष श्रीमती डोडियार

मालवा महासंघ के राष्ट्रीय पदाधिकारी जैन समाज से पधारने की विनती करने हेतु झाबुआ आए

    राष्ट्रीय महामंत्री श्री मानव एवं राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री मेहता ने शहर आगमन पर गुरूवार रात 8 बजे स्थानीय ज्ञान मंदिर में बैठक ली। बैठक का संचालन करते हुए सर्वप्रथम मालवा जैन महासंघ के केंद्रीय प्रवक्ता यषवंत भंडारी ने बताया कि परम् पूज्य आचार्य नवरत्न सागर सूरीष्वरजी मसा एक महान संत थे। आपकी झाबुआ शहर पर सदैव असीम कृपा बरसती रहीं है। वे संतों में कोहीनूर के समान थे एवं उनकी छटा विषाल तथा छवि आलोकिक थी। बैठक में उन्होंने दोनो बाहर से पधारे महानुभावों एवं झाबुआ जैन समाज के पदाधिकारियों से परिचय करवाया
अलग-अलग महोत्सव मनाए जाएंगे
इस अवसर पर मालवा जैन महासंघ के राष्ट्रीय महामंत्री श्री मानव ने बताया कि आचार्य श्रीजी का 28 फरवरी से 4 मार्च तक जन्म महामहोत्सव अभा गुरू नवरत्न अमृत जन्मोत्सव समिति एवं जैन श्वेतांबर मालवा महासंघ, नवरत्न परिवार एवं संग्रम इंदौर श्री संघ द्वारा मिलकर मनाया जाएगा। जिसमें सुविशाल गच्छाधिपति आचार्य श्री दौलत सागर सूरीष्वरजी मसा, पपू आचार्य श्री विष्वरत्न सागर सूरीष्वरजी मसा भी अपनी पावन निश्रा प्रदान करेंगे। इस दौरान ऋण स्मरण महामहोत्सव, 75वां हीरक जन्मोत्स्व, एवं गुरू गुण किर्तन महामहोत्सव मनाया जाएगा। साथ ही बताया कि इस जन्म जयंती समारोह में पूरे देश में भी श्री संघ के पदाधिकारी एवं सदस्य शामिल होंगे। राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष श्री मेहता ने बैठक में उपस्थित झाबुआ श्री संघ, मालवा जैन महासंघ, अभा जैन संगठना, जैन सोष्यल गु्रप के पदाधिकारियों एवं सदस्यों से भी भावभरी विनती कि इन सभी संगठनों से सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों के साथ समाजनजन इस समारोह में हिस्सा ले और महामहोत्सव को उसके नाम के अनुरूप विषालता प्रदान करे।
ये थे उपस्थित 
इस अवसर पर सुश्रावक संजय मेहता ने भी अपने विचार व्यक्त किए। यह बैठक करीब आधे घंटे तक चली। इस अवसर पर श्वेतांबर जैन श्री संघ से अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता, उपाध्यक्ष सुभाष कोठारी, सह-सचिव अनिल रूनवाल, मनोज संघवी, कोषाध्यक्ष प्रमोद भंडारी, मीडिया प्रभारी रिंकू रूनवाल, राजेन्द्र संघवी, राजेन्द्र जैन ‘शुभम’, भारतीय जैन संगठना से अशोक संघवी, संजय जैन (जगावत), नवरत्न परिवार से अर्पित चौधरी, रचित कटारिया, अर्पित संघवी, अंकित जैन, जैन सोष्यल ग्रुप से प्रतीक मेहता आदि उपस्थित थे। अंत में आभार श्री संघ सचिव भरत बाबेल ने माना।

आचार्य उमेश मुनिजी मसा जैन जगत में मूर्धन्य संत थे - प्रकाश मुनिजी

झाबुआ। आचार्य उमेश मुनिजी मसा की 86वीं जन्म जयंती श्री वर्धमान स्थानकवासी जैन संघ के तत्वावधान में विभिन्न धार्मिक आयोजन के साथ एवं तप-त्यागपूर्वक मनाई गई। इस अवसर पर ज्ञान गच्छाधिपतिपूज्य प्रकाश मुनिजी आदि संतों के पावन सानिध्य भी प्राप्त हुआ। इस अवसर पर प्रातः 8 बजे से रूनवाल बाजार में स्थित स्थानक भवन पर श्रद्धालुओं का आगमन शुरू हुआ। 
        श्री संघ अध्यक्ष प्रदीप रूनवाल ने बताया कि तीन सामायिक के तेले, श्री नवकार महामंत्रजी के जाप के साथ पूज्य मुनिराज एवं महासतीजी मसा के व्याख्यान एवं गुणानुवाद सभा संपन्न हुई। जिसमें बड़ी संख्या में समग्र जैन समाज के श्रावक-श्राविकाओं ने भाग लिया। श्रीमती नैना मेहता, श्रीमती विजया लक्ष्मी कटकानी एवं सुमन रूनवाल ने सुंदर गीत प्रस्तुत किया। पूज्य प्रकाश मुनिजी मसा ने उमेश मुनिजी के गुणों को याद करते हुए उन्हें महान संत बताया। मूर्तिपूजक संघ के अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता एवं संजय मेहता ने भी आचार्य प्रवर को जन-जन का उपकारी बताया। 
        सामूहिक एकासने शरद प्रकाश कांठेड़ परिवार द्वारा करवाई गए। जिसमें 300 तपस्वियों ने भाग लिया। इस अवसर पर तेरापंथ सभा के अध्यक्ष मंगनलाल गादिया एवं कई कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। सभा का संचालन संघ अध्यक्ष प्रदीप रूनवाल ने किया एवं आभार सचिव कमनकमल कटाकनी ने माना। इस अवसर चंदनमल कटकानी, संजय जैन, दीपक नरेन्द्र कटकानी, मनोज कटकानी, अंकित रूनवाल, महिपाल रूनवाल आदि उपस्थित थे। 
निराश्रितों को मिठाई वितरित की
श्वेतांबर जैन श्री संघ की ओर से दोपहर स्थानीय महिला बाल आश्रम यहां बच्चों को मिठाई का वितरण किया गया। इस अवसर पर पार्षद रसीद कुरैषी, संदीप पाल, अजीत बोहरा अतिथि के रूप में उपस्थित थे। उनके साथ श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल, तुषार कोठारी, ऋषभ मेहता, वैभव जैन, समकित कोठारी, शाष्वत मेहता आदि ने उपस्थित रहकर बच्चों को मिठाई वितरित की एवं उनकी कुशलक्षेम पूछी।

गुरू सप्तमी पर शहर के जिनालयों में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए रहीं भीड़

झाबुआ। गुरू सप्तमी पर्व पर झाबुआ के पांचों जिनालय, जिसमें श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में विशेष धार्मिक कार्यक्रम होने के साथ श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर, दादावाड़ी गणधर मंदिर, महावीर बाग, श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर में समाजजनों की दर्शन-पूजन के लिए भीड़ रहीं। प्राचीन चत्मकारिक श्री ऋषभदेव बावन जिनालय में पूज्य दादा गुरूदेव श्रीमद् विजय राजेन्द्र सूरीष्वरजी मसा के दर्षन एवं पूजन के लिए समाजजन एवं गुरूभक्तों का जमावड़ा रहा। मंदिर में गुरूदेवजी के दर्शन एवं पूजन सुबह से लेकर शाम तक समाजजनों ने किए। सुबह गुरू हाॅल में गुरूपद महापूजन का भी आयोजन हुआ। इस दिन राजगढ़ में स्थित प्रसिद्ध मोहनखेड़ा तीर्थ पर मेले जैसा माहौल रहा। 
श्वेतांबर जैर श्री संघ के युवा रिंकू रूनवाल ने बताया कि सुबह 6 बजे भक्ताम्र स्त्रोत पाठ, गुरू गुण इक्कीसा, स्नात्र पूजन, केशर पूजन, आदिनाथ भगवान एवं गुरूदेवजी का अभिषेक के साथ विशेष रूप से 8 बजे श्री राजेन्द्र सूरी गुरू पद महापूजन का आयोजन हुआ। यह पूजन श्री संघ झाबुआ द्वारा पढ़ाई गई। विधि विधिकारक ओएल जैन ने संपन्न करवाई वहीं मंत्रोच्चार एवं काव्य पाठ श्री संघ के उपाध्यक्ष यषवंत भंडारी द्वारा किया गया। पूजन में बड़ी संख्या में समाजजन शामिल हुए। पूजन पश्चात् आरती का लाभ लीलाबेन भंडारी परिवार द्वारा लिया गया। पश्चात् भाता का वितरण हुआ। इोपहर 2 बजे से सामूाहिक सामायिक का आयोजन हुआ। जिसका लाभ श्रीमती शकुंतला स्व. कांतिलाल रूनवाल परिवार द्वारा लिया गया। शाम को गुरूदेवजी के जाप किए। जिसका लाभ राजेन्द्र मेहता परिवार ने अर्जित किया। शाम को गुरूदेवजी की महाआरती भी हुई। गुरू मंदिर पर विषेष सज्जा की गई।
यहां भी हुए विभिन्न धार्मिक कार्यक्रम
इसी प्रकार नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर में भी समाजजनों द्वारा पहुंचकर श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथजी, भैरवजी, महालक्ष्मीजी, महा सरस्वतीजी के दर्शन किए गए एवं पूजन की गई। श्री गौड़ी पार्श्वनाथ मंदिर पर अष्टप्रकारी पूजन हुई। पूजन का लाभ अशोक राठौर, जीवनबेन पोरवाल द्वारा लिया गया। महावीर बाग में दादा गुरूदेवजी की पूजन कांतिलाल बाबेल, रमेश भाठिया एवं रिकू रूनवाल द्वारा की गई। श्री राज हेमेन्द्र पुष्प आयमिल खाता भवन में अध्यक्ष अशोक राठौर, सुरेशभाई कांठी द्वारा गुरूदेवजी के चित्र के सम्मुख दीप-धूप किया गया एवं पूजन की गई। इसके साथ ही शहर के समीपस्थ रंगपुरा जैन मंदिर में भी अष्टप्रकारी पूजन पढ़ाई। लाभ शशांक संघवी ने लिया। देवझिरी स्थित श्री मणिभद्र जैन मंदिर में भी दर्शन के लिए समाजजन पहुंचे। यहां आरती निर्मल मेहता ने की।
मोहनखेड़ा तीर्थ पर रहीं खचाखच भीड
राजगढ में स्थित मोहनखेड़ा तीर्थ पर पांच दिवसीय महोत्सव मनाया गया। गुरू सप्तमी पर सोमवार को यहां सुबह से देष के दूरस्थ क्षेत्रों एवं कस्बों से समाजजनो एवं गुरू भक्तों का आना होना शुरू हो गया। यहां मेला लगा। मेले में झूले-चकरी, विभिन्न सामग्रीयों के अनेकों दुकाने रहीं। समजाजनों एवं गुरू भक्तों ने दादा गुरूदेवजी के चरणों में नमन कर उनका आशीर्वाद  प्राप्त किया।

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

gurusaptami-rishabh-dev-bawan-jinalaya-mohankheda-गुरूपद महापूजन का हुआ आयोजन ,मोहनखेड़ा तीर्थ पर लगा मेला

झाबुआ। श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वेतांबर पेढ़ी ट्रस्ट के तत्वाधान में 11 से 15 नवंबर तक श्रीमद् विजय धनचन्द्रसूरीश्वरजी मसा के स्मृति मंदिर के ध्वजारोहण एवं दादा गुरुदेव की पाट परंपरा के षष्ठम पटधर राष्ट्रसंत शिरोमणी गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय हेमेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. के गुरु समाधि मंदिर प्रतिष्ठा का पांच दिवसीय महोत्सव श्री मोहनखेड़ा महातीर्थ पर शनिवार से प्रारम्भ हुआ। इस महोत्सव मंे झाबुआ श्री संघ से कई युवा शामिल होकर अपनी सराहनीय सेवाएं दे रहे है। महोत्सव में गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा., मालवकेसरी मुनिराज श्री हितेशचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री दिव्यचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री रजतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री चन्द्रयशविजयजी म.सा., मुनिराज श्री वैराग्ययशविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा., साध्वी श्री किरणप्रभाश्री जी म.सा., साध्वी श्री सद्गुणाश्री जी म.सा., साध्वी श्री संघवणश्री जी म.सा. आदि अपनी निश्रा प्रदान कर रहे है। रविवार को आचार्य हेमेन्द्रसूरीश्वरजी समाधि मंदिर प्रतिष्ठा महोत्सव के अंतर्गत आचार्य हेमेन्द्रसूरि अष्टप्रकारी महापूजन का आयोजन तीर्थ परिसर में किया गया। 
     इस महोत्सव में झाबुआ श्री संघ से तुषार कोठारी, सोमवार को प्रातः 08ः30 बजे जल कलश यात्रा विधान का भव्य आयोजन किया गया है यात्रा स्थानीय गुरुकुल परिसर से प्रारंभ होगी। प्रातः 9ः30 बजे श्री हेमेन्द्रसूरि समाधि मंदिर प्रतिष्ठा मंडप का उद्घाटन लाभार्थी परिवारों एवं श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वेतांबर पेढ़ी ट्रस्ट के पदाधिकारी ट्रस्टीगणों द्वारा किया जाएगा। प्रातः 10ः30 बजे कुंभ एवं अखंड दीपक की स्थापना की जाएगी। दोपहर 01ः00 बजे से क्रिया मण्डप में अष्टमंगल, नवग्रह, दशदिग्पाल पाटला पूजन का आयोजन रखा गया है। मंगलवार को प्रातः 9ः00 बजे नवकारसी के पश्चात् प्रतिष्ठा सम्बंधित शोभायात्रा का आयोजन किया गया है। 
       11 बजे मंदिर में 18 अभिषेक महापूजन का आयोजन एवं 12ः30 बजे चैत्याभिषेक, दोपहर 1 बजे श्री राजेन्द्रसूरि गुरुपद महापूजन का भव्य आयोजन होगा। शाम 4 बजे महिला चैविसी (गांव सांजी मेहंदी) का आयोजन रखा गया है। शाम को इंडिया के नंबर वन कामेडीयन बालीवुड फिल्मी कलाकार राजू श्रीवास्तव उर्फ गजोधर एवं स्टाॅर टी.वी. ग्रेट इण्डियन लाफटर सी.वी. चैलेंज के बाल कलाकार जय चणीयारा, आज की रात हंसी की शाम सजाएंगें साथ ही संगीतकार श्री नरेन्द्र वाणीगोता एंड पार्टी मुम्बई द्वारा प्रभु एवं गुरु भक्ति की रमझट जमायी जायेगी। 15 नवंबर को प्रतिष्ठा के मुख्य दिवस प्रातः 9ः30 बजे पश्चात् प्रतिष्ठा की विधि प्रारंभ होगी। श्री आदिनाथ राजेन्द्र जैन श्वे. पेढ़ी ट्रस्ट के मेनेजिंग ट्रस्टी सुजानमल सेठ एवं श्री संघ अध्यक्ष धर्मचन्द मेहता एवं राज हेमेन्द्र पुष्प आयमिल खाता भवन के संस्थापक अध्यक्ष अषोककुमार राठौर, राजमल राठौर, अनिल राठौर, कांतिलाल बाबेल, मनोहर मोदी, हस्तीमल संघवी, अभय धारीवाल, सुरेन्द्र कांठी आदि ने सभी गुरु भक्तों से आग्रह किया है कि अधिक से अधिक संख्या में पधारकर पुण्य लाभ अर्जित करें एवं गुरु गच्छ की शौभा में वृद्धि करें। 

आचार्य श्री ऋषभचन्द्र सूरीष्वरजी मसा तपस्वियों का वाक्षेप करते हुए

झाबुआ। स्थानीय दिगंबर जैन समाज द्वारा आयोजित चतुर्दिवसीय धार्मिक आयोजन में भक्ति एवं आध्यात्म की निर्झरिणी सुहासित हो रही है। गुरूवार को चौथे दिन दिगंबर समाज द्वारा स्थानीय पैलेस गार्डन में प्रातःकाल भव्य मंगलाष्टक एवं शांतिधारा का आयोजन किया गया । इस अवसर पर श्री जिनेन्द्र भगवान के अभिषेक के आयोजन के अवसर पर सैकडो की संख्या में समाजजन उपस्थित रहे। शांतिधारा के लाभार्थी अखिलेषजी लक्ष्मीचंद जैन रहे। इसके बाद नित्य नियम पूजन का अभिनव आयोजन किया गया। तत्पष्चात हवन द्वारा कार्यक्रम की पूर्णाहुति सम्पन्न हुई। 
         भूमिका आशीष डोषी ने बताया कि भव्य शौभा यात्रा का आयोजन राजवाडा से होकर लक्ष्मी बाई मार्ग, थांदला गेट, सुभाष मार्ग होता हुआ पुनः नसियाजी में पहुचा। शौभायात्रा में पांरम्परिक वेषभुषा पहनकर समाज की महिलाओं ,पुरूषो एवं बालिकाओं के द्वारा नृत्य करते हुए नगर भ्रमण किया। तत्पष्चात् नसियाजी में पहुचकर भगवान को विराजमान से लेकर शिखर एवं कलश स्थापना एवं जिनवाणी एवं छत्र व चंवर स्थापना प्रदिप भैया अषोक नगर के द्वारा विधिविधान द्वारा किया गया। भगवान चन्द्रप्रभु की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी अनिल पन्नालाल मेहता एवं भगवान पाष्र्वनाथ की प्रतिमा को विराजित करने के लाभार्थी लक्ष्मीचन्द्र जैन एवं भानूलाल शाह। छत्र एवं चंवर आरोहण के लाभार्थी जयंत सज्जनलाल शाह, रीना पारस गांधी, प्रदीप गुवाडिया, नम्रता श्रीकांत शाह, षिल्पा जेकेष दाणी रहे।
         भविष्य में धातु की मुनिसुव्रतनाथ भगवान की प्रतिमा को विराजमान करने के लाभार्थी रमेषचंद्र डोषी एवं डाॅ सुरेषचंद्र जैन रहेगे। श्रीखर पर कलष एवं ध्वजा दण्ड के लाभार्थी जयंन्तिलाल शाह एवं अखिलेष लक्ष्मीचंद्र जैन रहे। घण्टा एवं वंदनवार (तौरणद्वार) के लाभार्थी संजय वागमल शाह, पियूष भण्डारी एवं पुनित डोषी है। मंदिर का भव्य द्वार खोलने के लाभार्थी जयंतीलालजी इंदरमलजी शाह परिवार द्वारा रहे। दोपहर में समाजजनो एवं आंगतुको के लिये पैलेस गार्डन में स्वामी वात्सल्य का आयोजन भी किया गया। कार्यक्रम में क्षेत्रीय सांसद कांतिलाल भूरिया उपस्थित रहे। जिनका सामाज की ओर से बहुमान किया। समापन अवसर पर अतिथियों को स्मृति चिन्ह वितरीत किये गये वही प्रतिष्ठा समिति के अध्यक्ष रमेष डोषी ने आभार व्यक्त किया। 

झाबुआ। दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वर जी म.सा. की पाट परम्परा के अष्ठम पटधर वर्तमान गच्छाधिपति आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की पावनतम निश्रा एवं मुनिराज श्री रजतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जिनचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जीतचन्द्रविजयजी म.सा., मुनिराज श्री जनकचन्द्रविजयजी म.सा., साध्वी श्री रत्नरेखाश्री जी म.सा., साध्वी श्री अनुभवदृष्टाश्री जी म.सा., साध्वी श्री कल्पदर्शिताश्री जी म.सा. आदि ठाणा की सानिध्यता में झाबुआ शहर में स्थानीय बावन जिनालय जिन मंदिर से भगवान श्री महावीर स्वामी, पाश्र्वनाथ भगवान, गणधर गौतमस्वामीजी, माता पद्मावती देवी एवं दादा गुरुदेव श्रीमद्विजय राजेन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की प्रतिष्ठित होने वाली प्रतिमाओं की एतिहासिक शोभायात्रा नगर के प्रमुख मार्गो से होती हुई महावीर बाग पर पहुंची वहां समस्त प्रतिमाओं का मंगलप्रवेश आचार्यदेवेश श्रीमद्विजय ऋषभचन्द्रसूरीश्वरजी म.सा. की निश्रा में विधिकारक हेमन्त वेदमुथा मक्सी द्वारा विधि विधान पूर्वक करवाया गया । 
           इससे पूर्व प्रातःकाल की वेला में स्थानीय महावीर बाग जैन मंदिर में श्रीमती श्यामुबाई रतनलालजी रुणवाल पुत्र- नवीन, संतोष, मुकेश रुणवाल परिवार द्वारा 18 अभिषेक महापूजन का आयोजन रखा गया था । इस महापूजन में समस्त प्रतिमाओं व स्वर्ण कलश, स्वर्ण दण्ड आदि पर विभिन्न प्रकार की औषधियों युक्त जल से अभिषेक किया गया । महावीर बाग में आयोजित त्रिदिवसीय प्रतिष्ठा महोत्सव के द्वितीय दिवस के अवसर पर सुबह के स्वामीवात्सल्य का आयोजन कांतिलालजी सरदारमलजी बाबेल पुत्र- जितेन्द्रकुमार, भरतकुमार बाबेल परिवार द्वारा आयोजित किया गया । शाम के स्वामीवात्सल्य का आयोजन कालीदेवी निवासी श्रीमती प्यारीबाई बापुलालजी लोढ़ा परिवार की और से पुत्र- ओछबलाल, उत्तमकुमार लोढ़ा परिवार द्वारा आयोजित किया गया । आचार्यश्री ने जानकारी देते हुये बताया कि सम्पूर्ण विधिविधान के पश्चात् कार्तिक सुदी 13, 02 नवम्बर गुरुवार को सुबह की वेला के शुभ मुहूर्त में लाभार्थी परिवार के हाथों ध्वजा फहरायी जावेगी एवं प्रभु व गुरु प्रतिमा गादीनशीन हो जायेगी । इस प्रतिमा महोत्सव को लेकर झाबुआ जैन समाज में अपार उत्साह चल रहा है । प्रतिष्ठा महोत्सव के दौरान रात्रि कालीन भक्ति भावना का आयोजन भी रखा गया था ।

Trending

[random][carousel1 autoplay]

More From Web

आपकी राय / आपके विचार .....

निष्पक्ष, और निडर पत्रकारिता समाज के उत्थान के लिए बहुत जरुरी है , उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ समाचार पत्र भी निरंतर इस कर्त्तव्य पथ पर चलते हुए समाज को एक नई दिशा दिखायेगा , संपादक और पूरी टीम बधाई की पात्र है !- अंतर सिंह आर्य , पूर्व प्रभारी मंत्री Whatsapp Status Shel Silverstein Poems Facetime for PC Download

आशा न्यूज़ समाचार पत्र के शुरुवात पर हार्दिक बधाई , शुभकामनाये !!!!- निर्मला भूरिया , पुर्व विधायक

जिले में समाचार पत्रो की भरमार है , सच को जनता के सामने लाना और समाज के विकास में योगदान समाचार पत्रो का प्रथम ध्येय होना चाहिए ... उम्मीद करते है की आशा न्यूज़ सच की कसौटी और समाज के उत्थान में एक अहम कड़ी बनकर उभरेगा - कांतिलाल भूरिया , पुर्व सांसद

आशा न्यूज़ से में फेसबुक के माध्यम से लम्बे समय से जुड़ा हुआ हूँ , प्रकाशित खबरे निश्चित ही सच की कसौटी ओर आमजन के विकास के बीच एक अहम कड़ी है , आशा न्यूज़ की पूरी टीम बधाई की पात्र है .- शांतिलाल बिलवाल , पुर्व विधायक झाबुआ

आशा न्यूज़ चैनल की शुरुवात पर बधाई , कुछ समय पूर्व प्रकाशित एक अंक पड़ा था तीखे तेवर , निडर पत्रकारिता इस न्यूज़ चैनल की प्रथम प्राथमिकता है जो प्रकाशित उस अंक में मुझे प्रतीत हुआ , नई शुरुवात के लिए बधाई और शुभकामनाये.- कलावती भूरिया , पुर्व जिला पंचायत अध्यक्ष

मुझे झाबुआ आये कुछ ही समय हुआ है , अभी पिछले सप्ताह ही एक शासकीय स्कूल में भारी अनियमितता की जानकारी मुझे आशा न्यूज़ द्वारा मिली थी तब सम्बंधित अधिकारी को निर्देशित कर पुरे मामले को संज्ञान में लेने का निर्देश दिया गया था समाचार पत्रो का कर्त्तव्य आशा न्यूज़ द्वारा भली भाति निर्वहन किया जा रहा है निश्चित है की भविष्य में यह आशा न्यूज़ जिले के लिए अहम कड़ी बनकर उभरेगा !!- डॉ अरुणा गुप्ता , पूर्व कलेक्टर झाबुआ

Congratulations on the beginning of Asha Newspaper .... Sharp frown, fearless Journalism first Priority of the Newspaper . The Entire Team Deserves Congratulations... & heartly Best Wishes- कृष्णा वेणी देसावतु , पूर्व एसपी झाबुआ

महज़ ३ वर्ष के अल्प समय में आशा न्यूज़ समूचे प्रदेश का उभरता और अग्रणी समाचार पत्र के रूप में आम जन के सामने है , मुद्दा चाहे सामाजिक ,राजनैतिक , प्रशासनिक कुछ भी हो, हर एक खबर का पूरा कवरेज और सच को सामने लाने की अतुल्य क्षमता निश्चित ही आगामी दिनों में इस आशा न्यूज़ के लिए एक वरदान साबित होगी, संपादक और पूरी टीम को हृदय से आभार और शुभकामनाएँ !!- संजीव दुबे , निदेशक एसडी एकेडमी झाबुआ

Contact Form

Name

Email *

Message *

E-PAPER
Layout
Boxed Full
Boxed Background Image
Main Color
#007ABE
Powered by Blogger.