झाबुआ। श्री सघ के अध्यक्ष सुश्राावक संजय मेहता ने बताया कि स्थानीय श्री ऋषभदेव बावन जिनालय मे बाबा गुरूदेव मंगलवार को क्रियोन्धार दिवस तप जप एवं अष्टप्रकारी पुजन कर मनाया गया। दादा गुरूदेव की क्रियोन्धार दिवस पर बावन जिनालय स्थित गुरूदेव राजेन्द्रसुरिश्वरजी मासा की प्रतिमा पर अभिषेक किया। इसके पश्चात् केसर पुजन कर आरती उतारी गई। इस अवसर पर अखिल भारतीय जैनप महिला परिषद् द्वारा गुरूदेव की अष्टप्रकारी पूजन पढाई गई। पूजन का लाभ श्रीमती शकुन्तला कांतिलाल रूनवाल ने लिया। साथ ही गुरूदेव के जाप भी किये गये। दोपहर को क्रियोन्धार दिवस के उपलक्ष मे कई तपस्वीयो ने आयम्बिल तप किया। आयम्बिल तप का लाभ श्रीमती मांगुबेन सकलेचा परिवार द्वारा लिया गया। शाम को दादा गुरूदेव की भक्ति करने के पश्चात् आरती उतारी गई।  
क्रियोन्धार दिवस क्यो मनाया जाता है
दादा गुरूदेव ने अषाढवती दसम के दिन संवत् 1924 को जावरा नगर मे उत्कृष्ट साधवाचार का पालन करने हेतु साधु समाज मे शिथिलता का त्याग कर उत्कृष्ट साधु जीवन अंगीकार किया था।

Jhabua News- बावन जिनालय में श्री राजेन्द्रसुरिष्वरजी मसा का क्रियोन्धार दिवस तप जप के साथ मनाया