झाबुआ। यदि नेतृत्व में अपने क्षेत्र के मतदाताओं एवं रहवासियों के विकास के साथ ही उन्ह सभी मूलभूत सुविधायें उपलब्ध कराने में जज्बा हो, दृढ निश्चय हो, तथा त्वरित निर्णय लेने की क्षमता हो तो तय है कि वह क्षेत्र निश्चित ही उस नेतृत्व की क्षमता की प्रसंशा किये बिना नही रह सकता है। चरैवैति चरैवैति के महामंत्र को जिस व्यक्तित्व ने अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है तथाबिनाकिसी भेदभाव के पूरे अंचल के सिर्फ विकास को ही जिसने अपना लक्ष्य बना लिया हो, ऐसे जननेता का नाम है सांसद गुमानसिंह डामोर जिन्होने रतलाम, झाबुआ एवं आलीराजपुर जिले में मात्र अपने संसदीय कर्तव्य के एक वर्ष में ही वो सब कुछ कर दिखाया है, जो पिछले 50 बरसों में कांग्रेस के राज में यहां नही हुआ है । उक्त बात जिला भाजपा के अध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक नेे बताते हुए कहा कि 24 मई 2019 को  कांग्रेस के गढ को ढहा कर तथा कांतिलाल भूरिया जैसी हस्ती को हरा कर जिसने जनता के आशीर्वाद को प्राप्त करके  सांसद पद पर निर्वाचित होने के साथ ही अपनी विकासोन्मुखी यात्रा को प्रारंभ किया और और यह क्रम आज भी सतत जारी है। 
Jhabua News- MP- Guman Singh Damor- Jhabua- Ratlam- सांसद गुमानसिंह का एकवर्षीय संसदीय कार्यकाल रहा बेमिसाल, जनभावना को ही सर्वापरी मान कर किया दायित्वों का निर्वाह         भाजपा के मीडिया प्रभारी राजेन्द्र सोनी एवं जीतू सेन तथा सोश्यल मीडिया प्रभारी अर्पित कटकानी ने सांसद गुमानसिंह डामोर की अपने संसदीय कार्यकाल के एक वर्ष के पूरा होने पर पूरे संसदीय क्षेत्र को दी गई सौगातों एवं विकास कार्यो का उल्लेख करते हुए कहा कि 24 मई 2019 को संसद में अपनी सदस्यता ग्रहण करने के साथ ही पूरे मनोवेग के साथ जो विकासोन्मुखी कार्यो की सौगाते दी है वे  निसंदेह संसदीय क्षेत्र के इतिहास में एक मिल का पत्थर साबित हुई है। उन्होने बताया कि सांसद गुमानसिंह डामोर द्वारा संसद में  मात्र एक वर्ष की अवधि में ही जनज न की भावनाओं को प्रतिबिंबित करते हुए 100 से अधिक  प्रश्नों के माध्यम से चर्चा में भाग लिया। श्री डामोर ने नदियों को जोडने के विषय पर बुंदेलखंड में नहरों के निर्माण से होने वाले लाभो पर अपने विचार व्यक्त करके पूरे सदन की प्रसंशा प्राप्त की थी। वही इस संसदीय क्षेत्र के जनजाति समाज के मंदिरों  के सरंक्षण, उनकी मरम्मत व पर्यटन को बढावा देने का मुद्दा भी उठाया। अंचल के बाबा देव डूंगर, टैटकी माता, कावलवा माता, सावनमाता,गढ खंगाई माता का विशेष उल्लेख किया। नेशनल हाईवे क्रमांक 47 की मरम्मत की बात हो या, महिलाओं एवं बच्चों पर हो रहे अत्याचार पर नियंत्रण लगाने हेतु अपने विचार सदन में व्यक्त किए एवं अपराधियों को कडी-से-कडी सजा दिलाने हेतु प्रावधान के लियेे अनुरोध किया। सांसद ने एक्सप्रेस हाईवे में लोगों को उचित मुआवजा मिले व बगीचे, कुआॅ, पाईप लाईन, मकान कुएं,फलदार वृक्ष, आदि का उचित मुआवजा दिये जाने एवं  भूमि अधिग्रहण के एवज में या बाजार मूल्य से दिया जाए न ही भूमि की जगह भूमि उपलब्ध करवाई जाए।
        सांसद गुमानसिंह डामोर द्वारा पूरे संसदीय क्षेत्र में एक वर्ष के कार्यकाल में जुझारूपन के साथ अपने पदीय दायित्व का निर्वाह किया जिसके चलते सांसद श्री डामोर को स्थाई समिति जल संसाधन मंत्रालय, एवं परामर्शदात्री समिति जनजातिय कार्य मंत्रालय सदस्य के रूप में मनोनित किया। आलीराजपुर जिले को बड़ी सौगात, के रूप में उनके प्रयासों से आलीराजपुर में  रेलवे स्टेशन शुभारंभ किया और आजादी के बाद जिले में पहली बार टेªन आई जिसे उन्होने हरी झण्डी दिखाकर टेªन को किया रवाना। सांसद गुमानसिंह डामोर की पहल पर ही प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस हाईवे का कार्य प्रारंभ हुआ जिससे रतलाम झाबुआ में मिलेगा रोजगार, उद्योग कारखाने खुलने का मार्ग प्रशस्त हो पाया है । संसदीय क्षेत्र के महत्वपूर्ण  रेल्वे जंक्शन रतलाम  के प्लेटफार्म नं.-4 पर वेटिंग हाॅल ओर प्लेटफार्म नं.-2 पर एसी वेटिंग  हाॅल का उद्घाटन, 100 फीट उंचे झण्डे का लोकापर्ण, प्लेटफार्म नं.-4 ओर नं.-6 पर लिफ्ट का उद्घाटन तथा प्लेटफार्म नं.-1 पर टेªक साईट नर्सरी ओर नं.-4 पर उद्यान का उद्घाटन कर सौगाते दी है।
      सांसद  निधि से सांसद गुमानसिंह डामोर द्वारा रतलाम संसदीय क्षेत्र के छोटे कस्बों में निर्माण कार्य को बढावा देने के लिए ओर ग्रामीणों को सुविधा देने के लिए लाखो की रकम दी गई जिसमें टेंकर, सी.सी. रोड, छोटे पुलिए, खरंजे आदि का निर्माण किया जा रहा है। वही रतलाम जिले के सैलाना, रतलाम शहर, रतलाम ग्रामीण, को विकास निर्माण कार्य हेतु रू. 1 करोड 74 लाख की राशि दी गई।  सांसद डामोर ने झाबुआ जिले को रू. 93.256 की राशि तथा आलीराजपुर जिले को रू. 50 लाख की राशि विकास निर्माण कार्य के लिए दी गई। गरीब एवं जरूरतमंदों की बीमारी आदि की स्थिति में सांसद डामोर नेे प्रधानमंत्री राहत कोष से रू. 25 लाख का मुप्त उपचार करवाया गया जिसमें  हृदय रोग, किडनी ट्रांसप्लांट, केंसर, दुर्घटना, आदि से पीड़ित सैकडों की संख्या में कई लोगों का उपचार कराया गया। वही सांसद स्वैच्छानुदान राशि से रू.25 लाख तक की गरीब जरूरतमंदों को आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई। तथा सांसद जनसंपर्क निधि से रू. 6 लाख खर्च किए गए जिसमें स्कूलों में फर्नीचर, भजन मण्डली इत्यादि के लिये भुगतान किये गये। भीषण जल संकट को देखते हुए बडी संख्या में संसदीय क्षेत्र में नलकूप खनन कार्य करवाए गए। हाल ही मे सांसद डामोंर ने रामा ब्लाक के कईगावों में भीषण जल संकट  तथा 400-500 फीट बोरिंग करवाने पर पानी नही निकलने के चलते धार- झाबुआ की सीमा पर स्थित सुनार नदी पर बने भंवरकुडा बांध से पानी छुडवाया गया जिससे क्षेत्र के 50 गावों  को अब राहत मिल गई है। ओर गा्रमीण सब्जियों की पैदावार लेने लग गये है। इस क्षेत्र में पानी पहूंचाने का प्रयास ज्ञात इतिहास मे पहली बार करवाने का श्रेय सांसद गुमानसिंह को जाता है। रामा ब्लाक के कई गांव पहाडी क्षेत्रों में बसे होने के कारण भीषण जल संकट को झेलने को बाध्य था वहां गर्मी में भी अब पानी की समस्या का हल हो चुका है। सुनार नदी में पानी आ जाने के कारण माछलिया, भूरा डाबरा, कालीदेवी, खेलाडी, हात्यादेली, छापरी, बियाडाबर, भंवर पिपल्या, परवट हडमतिया नवापाडा एवं मुंगाखेडी को काफी राहत मिलना शुरू हो गई है । सांसद गुमानसिंह द्वारा जिला उद्योग भवन को भी शुभारंभ करके औद्योगिक गतिविधियों के लिये सुविधा सुलभ करना भी एक उपलब्धि ही है ।
          विश्वव्यापी कोरोना संकट काल में सांसद गुमानसिंह डामोर सैवैय, यज्ञश्च, तपश्च तीर्थम की भावना सेे जन सेवा जनार्दन सेवा की भावना के साथ अपनी भूमिका निर्वाह मे पीछे नही रह रहे है। इनके द्वारा  सांसद निधि से एक करोड की रकम सांसद निधि से कोराना महामारी से निपटने के लिये प्रषानमंत्री राहत कोष को भेजी गई है । वही  10 लाख रूपये की राशिा आलीराजपुर जिले केा एवं रू. 15 लाख की राशि झाबुआ जिले को कोरोना महामारी से निपटने के लिए आवश्यक उपकरण वेल्टीनेटर, सेनेटाईजर, मास्क, दवाॅईयाॅ  आदि क्रय करने हेतु दी गई । सांसद डामोर ने अपना स्वयं को 1 माह का वेतन ओर 2 साल के लिए 30 प्रतिशत वेतन से राशि कोरोना महामारी से निपटने के लिए दी । प्रवासी श्रमिकों के लिए प्रधानमंत्री को ट्विट किया। जिस पर प्रधानमंत्री ने इसे गंभीरता से लेते हुए श्रमिक एक्सप्रेस चलाने का निर्णय लिया गया एवं क्रियान्वित किया। सांसद गुमानसिंह डामोर सतत रूप  से  पिटोल बार्डर पर जाकर गुजरात से आरहे श्रमिकों को भोजन, स्वास्थ्य व उन्हे अपने गंतव्य स्थल तक पहूंचाने के लिये व्यवस्था सुलभ कराने में अहम भूमिका निभाई। संसदीय क्षेत्र के श्रमिक जिस किसी भी प्रदेश में कार्यरत थे वहाॅ उन्हें भोजन, स्वास्थ्य आदि की व्यवस्था जिला कलेक्टरों चर्चा कर सुलभ करवाई वही  अन्य प्रदेशों में फॅसे सैकडों श्रमिक भाई बहनों की मोबाईल फोन पर समस्या सुलझाई। अपने एक वर्ष के संसदीय कार्यकाल के बारे में  सांसद गुमानसिंह डामोर का कहना है कि अपने एक वर्षीय संसदीय कार्यकाल में मैने पूरी तत्परता, ईमानदारी, बिना किसी भेदभाव के सर्वे भवन्तु सुखिना, सर्वे सन्तु निरामया, के महामंत्र को अंगीाकर करते हुए सेवा भावना के साथ जनता द्वारा उन्हे जो जिम्मेवारी सोपी गई है उसे पूरा करने की कोशिश की है, कोई भी अंचल विकास से अछूता नही रहे तथा प्रत्येक व्यक्ति की समस्या का निदान हो यही मेरा ध्येय रहा है। भारतीय जनता पार्टी  संगठन, सभी कार्यकर्ताओं के कडी मेहनत एवं परिश्रम के चलते इस संसदीय क्षेत्र को सहुलियते दिलानें में अपनी भूमिका निभाई है। आगे भी हमे कई कार्यो को करके पूरे संसदीय क्षेत्र को आदर्श क्षेत्र बनाने का संकल्प हमेे पूरा करना है। क्षेत्र की जनता, मीडिया, पार्टी के सभी कार्यकर्ता का मुझे भरपुर सहयोग मिला है जिसके लिये वे सभी साधुवाद के पात्र है।