झाबुआ। कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ को विगत पाॅच वर्षा मे आदिवासी बाहुल्य जिला झाबुआ में किसानो के लिए उनके आजीविका के स्थायित्व एवं आर्थिक विकास हेतु कडकनाथ मुर्गी पालन के साथ कृषि में विविधीकरण अंतर्वती फसल पद्वति, उन्नत व हाई टेक सब्जी उत्पादन तकनीक के प्रचार-प्रसार व उन्नत तकनीको के हस्तांतरण पर किये कार्य के आधार पर राष्ट्रीय कृषि विज्ञान परिसर नई दिल्ली के सभागार में दिनांक 9 जनवरी 2020 को धानुका इनोवेटिव एग्रीकल्चर अवार्ड-2018 का उत्कृष्ट कृषि विज्ञान केन्द्र का राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया। यह पुरस्कार कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख प्रोफेसर आई.एस. तोमर को भारत सरकार के केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री डाॅ. जी.एस. शेखावत के कर कमलो द्वारा रूपये 2.50 लाख नगद, शाल एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया। इस अवसर पर विशेष रूप से मंच पर पूर्व अध्यक्ष नेशनल एकेडमी आफ  एग्रीकल्चर साइंस व पद्मभूषण प्रोफोसर आर.बी. सिंह, धानुका ग्रुप के अध्यक्ष श्री आर.जी. अग्रवाल एवं राज्यसभा सांसद डाॅ. आलोक वाजपेयी उपस्थित थे। इसके साथ ही इस अवसर पर देश के जाने माने कृषि वैज्ञानिक, उच्च अधिकारी एवं विभिन्न प्रदेशो से आये 1500 कृषक उपस्थित थे।  
       इस अवसर पर डाॅ. तोमर ने कहा कि यह सम्मान झाबुआ जिले के कृषको के अथक परिश्रम के साथ-साथ कृषि विज्ञान केन्द्र के सभी साथी वैज्ञानिको व कृषि से संबंधित विभिन्न विभागो के सहयोग व टीम भावना का परिणाम है। कृषि विज्ञान केन्द्र अलिराजपुर के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डाॅ. आर.के. यादव का इस पुरस्कार हेतु आवेदन व दस्तावेज तैयार करने में विशेष योगदान रहा। पुरस्कार मिलने पर रा.वि.सिं.कृ.वि.वि. ग्वालियर के माननीय कुलपति प्रो. एस.के. राव, अधिष्ठाता कृषि संकाय डाॅ. मृदुला बिल्लौरे, निदेषक विस्तार सेवाएं डा. अधिष्ठाता कृषि महाविद्यालय इंदौर डाॅ. अशोक कृष्णा ने डाॅ. तोमर एवं सभी वैज्ञानिको को बधाई दी। 
       इस पुरस्कार के प्राप्त होने से केन्द्र के सभी वैज्ञानिक एवं कर्मचारी अपने आपको गौरवावित महसूस कर रहे है। केन्द्र की इस उपलब्धि से सभी वैज्ञानिको में नई ऊर्जा का संचार के साथ ऐसे ही भविष्य में कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी।

Jhabua News- कृषि विज्ञान केन्द्र झाबुआ को धानुका इनोवेटिव एग्रीवेटिव एग्रीकल्चर का राष्ट्रीय पुरस्कार