जिले में 1 हजार से अधिक एवं झाबुआ में 500 घरों में संपन्न हुआ दीप यज्ञ

झाबुआ। शांतिकुंज हरिद्वार के तत्वावधान में पूरे प्रदेश  में 22 जून को गायत्री जयंती एवं गंगा दशहरा के उपलक्ष में दीप यज्ञ का आयोजन हुआ। इसी क्रम में झाबुआ जिले में 1 हजार से अधिक एवं झाबुआ शहर में 500 से अधिक घरों में दीप यज्ञ कार्यक्रम संपन्न हुआ। स्थानीय कॉलेज मार्ग स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर उक्त कार्यक्रम शाम 7 से 8 बजे के बीच हुआ। पश्चात् महाआरती एवं महाप्रसादी का भी आयोजन किया गया।  
       यह जानकारी देते हुए गायत्री परिवार के जिला समन्वयक पं. घनष्याम बैरागी ने बताया कि गंगा जयंती एवं गंगा दषहरा के उपलक्ष में गायत्री शक्तिपीठ कॉलेज मार्ग पर जहां सुबह गर्भात्सव संस्कार (पुंसवन संस्कार) एवं पचंकुंडीय यज्ञ संपन्न हुआ। जिसमें करीब 90 महिलाएं शामिल हुई। पश्चात् शाम 7 से 8 बजे के बीच मंदिर में दीप यज्ञ रखा गया। सर्वप्रथम पं. घनष्याम बैरागी द्वारा उपस्थित सभी गायत्री परिजनों एवं युवाओं को गायत्री जयंती एवं गंगा दशहरा के महत्व के बारे में बताया गया। साथ ही बताया कि आज वेद माता मां गायत्रीजी का आराधना करने का विषेष दिन है। इसके साथ ही आज गुरूदेव आचार्य पं. श्री राम शर्मा आचार्यजी का महाप्रयाण दिवस भी है, इसलिए आज पूजा-अर्चना करने से काफी पुण्य लाभ प्राप्त होगा एवं अपार सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।
दीप प्रज्जवलित किए गए
इसके पश्चात् समस्त गायत्री परिजनों, जिसमें महिला-पुरूषों के साथ युवाओं द्वारा मंदिर परिसर में दीप प्रज्जवलित किए गए। महिलाओं द्वारा मां गायत्री, पं. श्री राम आचार्यजी एवं मां भगवतीदेवी शर्मा के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्जवलन किया गया वहीं पुरूषों ने समीप स्फटिक शिव मंदिर में भगवान शिवजी के सम्मुख दीप प्रज्जवलित कर गायत्री मंत्रोच्चार के साथ शिव मंत्रोच्चार कर पूजन की। दीप यज्ञ नारी शक्ति जागरण अभियान की जिला संयोजिका श्रीमती नलिनी बैरागी द्वारा संपन्न करवाया गया। इसके साथ ही इसी दौरान निर्धारित किए गए समय पर झाबुआ में 500 घरों एवं पूरे जिले में 1 हजार घरों में भी गायत्री माताजी, के सम्मुख दीप प्रज्जवलन के साथ घरों के द्वारां-आंगनों में भी दीप प्रज्जवलित कर पूजन कर गायत्री मंत्रो का उच्चारण किया गया। जिससे पूरे जिले में धर्म के प्रति अपनी अपार आस्था एवं श्रद्धा का लोगों ने संदेश दिया। 
महाआरती एवं महाप्रसादी का हुआ आयोजन
रात्रि 8 बजे गायत्री शक्तिपीठ पर महाआरती हुई। पहले वेद माता गायत्रीजी की आरती की गई। पश्चात् भगवान शिवजी की आरती कर संयुक्त रूप से सभी द्वारा मंत्रोच्चार किया गया। इसके पश्चात् महाप्रसादी के रूप में 50 किलो केसरिया भात श्रद्धालुओं को वितरित की गई। संपूर्ण आयोजन को सफल बनाने में गायत्री परिवार की महिला श्रीमती मनोरमा डावर, किरण निगम, मोना भट्ट ‘स्मृति’, कृष्णा शेखावत, कृष्णा शर्मा, पार्वती लष्करे, श्रीमती सोनी, प्रेमलता शुक्ला, लीना नागर के साथ पुरूषों में प्रकाश डावर, शातिलाल लष्करे, सुरेश निगम, राजेश नागर, ऋतुराजसिंह राठौर, देवेन्द्र पटेल आदि उपस्थित थे।