चातुर्मास में तपोभूमि बनी नगर की धरा 

आज से महावीर बाग में त्रिदिवसीय प्रतिमा प्रतिष्ठा का कलश यात्रा के साथ भव्य समारोह का होगा श्रीगणेश   

झाबुआ। नगर में पूज्य आचार्य श्री ऋषभचन्द्रसूरीजी मसा की निश्रा में झाबुआ नगरी तपोभूमि बन कर यहां धर्म एवं ज्ञान की गंगा प्रवाहित हो रही है।चातुर्मास के दौरान पूज्य आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसूरीजी मसा, पूज्य मुनिराज रजतचन्द्रविजयजी मसा, मुनि श्री जीतचन्द्रविजय जी मसा, मुनि श्री जिनचन्द्रविजय जी मसा मुनि श्री जनकचन्द्र विजय जी मसा, पूज्य साध्वी रत्परेखश्री जी मसा, साध्वी अनुभवदृष्टाश्रीजी मसा एवं साध्वी कल्पदर्शिताश्री जी मसा आदि ठाणा की मंगलमयी निश्रा में नगर में श्री महावीर स्मारक बाग तीर्थ पर भगवान श्री आदिनाथजी, शंखेश्वर पारश्र्वनाथजी, महावीरस्वामीजी, गौतमस्वामीजी, राजेन्द्रसरीजी मसा, पदमावती माता जी आदि प्रतिमाओं की भव्याति भव्य प्रतिष्ठा का धर्ममय आयोजन श्रीसंघ झाबुआ द्वारा वृहदी पैमाने  मंगलवार 31 अक्तुबर से 2 नवम्बर तक त्रिदिवसीय आयोजन के साथ किया जा रहा है। 
          समाज के रिंकू रूनवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि रविवार को उक्त भव्याति भव्य आयोजन को लेकर आमंत्रण पत्रिका का विमोचन उश्री संघ एवं चातुर्मास समिति द्वारा पूज्य आचार्य देवेश ऋषभचन्द्रसरीजी मसा की दीव्य उपस्थिति में वासक्षेप छिटक कर किया गया । इस अवसर पर मुनि मंडल एवं साध्वी मंडल तथा श्री संघ एवं चातुर्मास समिति के सदस्य एवं पदाधिकारी गण भी उपस्थित थे । मुनि श्री रजतचन्द्र विजय जी मसा ने पत्रिका विमोचन के अवसर पर कहा कि जिस नगर में जिनेश्वर परमात्मा की प्रतिष्ठा होती है वो नगर फलीभूत होने लगता है । देवाधिदेव के अतिशय से सर्व ऋद्धि समृद्धि लब्धि बढने लगती है।
            मुनि श्री कहा कि सिर्फ प्रतिमाओं की स्थापना नगर ही नही मन मंदिर में भी होना चाहिये जिससे हमारा तन-मन स्वच्छ सुंदर एवं पवित्र बना रहे । प्रतिमाओं की स्थापना से नगर मे किसी भी प्रकार की प्राकृर्तिक आपत्तिया नही आती एवं उपद्रवों का नाश होता है। पत्रिका के विमोचन के साथ ही निकटवर्ती क्षेत्रों के श्री संघो को हाथो हाथ आमंत्रण पत्रिकाऐं पहूंचाई जाकर आस से प्रारंभ होने वाले कार्यक्रम में शिरकत करने के लिये न्यौता दिया गया है । मंगलवार को प्रातः 8-30 बजे से श्री बावन जिनालय से भव्य कलश यात्रा बेंड बाजों के साथ निकाली जावेगी जिसका समापन नगर के मुख्य मार्गो से होते हुवे महावीर बाग पर होगा ।
        प्रथम दिवसा महावीर बाग पर कुभस्थापना के लाभाथी स्वर्गीय मोहनबाई सुजानमल कोठारी की स्मृति में सुभाषचन्द्र उपाधकिरण कोठारी द्वारा लिया जावेगा । दीप स्थापना के लाभाथी रमेशचन्द्र उषाबेन बाठिया परिवार द्वारा , ज्वारारोपण के लाभार्भी स्व श्रीमती सज्जनबाई प्रेमचन्द्र सकलेचा की स्मृति में अशोक कुमार कल्पना सकलेचा परिवार द्वारा, श्री पाश्र्वनाथ पंच कल्याणक पूजा के लाभार्थी स्व उदयलालजी कंचनबाई की स्मृति में सुरेन्द्रकुमार कांठी परिवार द्वारा, आंगी के लाभार्थी स्व. सागरमल रतनबाई नगीनलाल कांठी की स्मृति में संजय कोठी एवं चन्द्रकांता कांठी परिवार द्वारा, नवग्रह पाटला पूजन के लाभार्थी श्रीमती मोहनबाई सुजानमल कोठारी की स्मृति में कलेशकुमार रेणूका कोठारी परिवार द्वारा, प्रातःकालीन स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी प्यारीबाई बापुलाल लोढा परिवार कालीदेवी द्वारा, आठारह अभिषेक के लाभार्थी स्व.रतनलाल रूनवाल की स्मृति में श्रीमती श्यामुबाई नवीन, प्रमीला रूनवाल परिवार द्वारा, चैत्याभिषेक के लाभार्थी स्व. इन्दूलाल भानुमति शाह की स्मृति में हेमेन्द्र अलका शाह परिवार द्वारा, एवं सायंकालीन स्वामीवात्सल्य के लाभार्थी श्री संघ ऋषभसूरी चातुर्मास समिति एवं आदिनाथ ट्रस्ट रहेगें । 
        द्वितीय दिन बुधवार 1 नवम्बर को प्रातःकालीन नवकारसी के लाभार्थी स्व. शांतिलाल, स्व.कांतिलाल रूनवाल की स्मृति में शकुंतला, सुभद्रा, विजय, अनिल, रिंकू, विवेक, आलोक रूनवाल परिवार द्वारा, श्री पाश्र्वनाथ पूजन के लाभार्थी स्व. कैलाश कांरेचा की स्मृति में श्रीमती शोभा, अर्पित कोरेचा परिवार द्वारा तथा दोपहर के स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी श्रीमती चमेलीदेवी बाबेल की स्मृति में पुत्र जितेन्द्र, भूपेन्द्र, बाबेल परिवार द्वारा सायंकालीन स्वामी वात्सल्य के लाभार्थी स्व वालचन्द्र सोहनबाई बाबेल की स्मृति में पुत्र विनोद बाबेल परिवार द्वारा तथा अंगी के लाभार्थी मोहनलाल राठौर की स्मृति में श्रीमती कमलाबेन अनिलकुमार राठौर परिवार द्वारा लिया गया है । 
       बुधवार को नगर में प्रतिष्ठा के शुभ अवसर पर भव्य चल समारोह निकाला जावेगा । 2 नवम्बर गुरूवार को दोपहर 12-39 बजे से बृहदशांति अष्टोत्तरी महापूजन फलेचुंदडी का आयोजन स्वर्गीय मोहनबाई, स्व. सुजानमल जी कोठारी में पुत्र सुभाषषचन्द्र उषाकिरण कोठारी परिवार द्वारा लिया गया है । इस त्रिदिवसीय आयोजन में विधिकारक हेमंत वेदमुथा द्वारा विधि विधान से सभी अनुष्ठान सम्पन्न करवाये जावेगें । श्री मंघ केअध्यक्ष धर्मचन्द्र मेहता, यशवंत भंडारी, अशोक राठोर,तेजप्रकाश कोठारी, अनिल राठौर, भरत बाबेल, विनोद बाबेल, संतोष नाकोडा, अभय धारीवाल, संजय काठी, नरेन्द्र पगारिया, रमेश बांठिया, हेमेन्द्र बाबेद भंडारी, मनोज संघवी, अनिल रूनवाल, शालीन धारीवाल आदि ने समस्त श्रीसंघो एवंज न सामान्य से महावीर बाग मे आयोजि इस त्रि दिवसीय आयोजन में सहभागी होकर धर्मलाभ प्राप्त करने की अपील की है ।