Item Reviewed: मूवी रिव्यु - अंगूरी बनी अंगारा 2014 Description: पहली बार आदिवासी जीवन चरित्र पर आधारित मालवी-निमाड़ी भाषा में बनी फीचर फिल्म ‘फैसलो मंजूर से..’ की पटकथा आदिवासी संस्कृति में बाल विवाह के साथ ही अन्य रीति-रिवाजों, शिक्षा-अशिक्षा में अंतर पर आधारित है। Rating: 5 Reviewed By: Asha News

FAISLO MANJOOR SE-मूवी रिव्यु - फैसलो मंजूर से 2013
Action Movie
हमारी रेटिंग: ★★★★★
पाठको की रेटिंग: ★★★★- रेट करे 


क्रिटिक रिव्यू

इसे झाबुआ जिले के पेटलावद व प्रसिद्ध तारखेड़ी हनुमान मंदिर क्षेत्र में फिल्माया गया है। किरदारों ने आदिवासी अंचल के होने के रोल किए हैं। इनमें जो बाहर पढ़-लिखकर आए हैं। वे गांव में फैली कुरीतियों को दूर करने के प्रयास करते हैं अंत में फैसला तारखेड़ी मंदिर में स्थापित हनुमानजी पर छोड़ा जाता है

Official Trailor


[review]
[item review-value="4"]स्टार कास्ट[/item]
[item review-value="5"]फ़िल्मांकन दृश्य [/item]
[item review-value="3"]डायलाग [/item]
[item review-value="6"]म्यूजिक[/item]
[content title="Summary" label="Overall Score"] कहानीकार महेश शुक्ला ने बताया प्रोमो में आए मुख्य कलाकार सहित अन्य साथी कलाकार इंदौर के प्रियदीप सिंह, पिया चौबे, मोना चौधरी, झाबुआ के मेघसिंह पचाया, दीवानसिंह सोलंकी, शोएब खान ने पहली बार ही किसी फिल्म में किरदार निभाए हैं। यह एक टेलीफिल्म के रूप में सीडी के लिए बनना थी लेकिन इसे व इसके कथानक को सराहना मिली और इसका बजट बढ़कर ५० लाख रुपए के करीब पहुंच गया। फिल्म में ७५ से ज्यादा कलाकार हैं।[/content]
[/review]